scorecardresearch
 

भूमि पूजन पर सपा सांसद बोले- अयोध्या में मस्जिद थी, है और रहेगी, मुसलमान खौफ ना खाएं

यूपी के संभल से सांसद शफीकुर्रहमान कहते हैं कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद है, थी और रहेगी. बीजेपी सरकार ने ताकत के बल पर कोर्ट से फैसला कराया. मुसलमान अल्लाह के भरोसे हैं. वो पीएम मोदी और सीएम योगी के भरोसे नहीं हैं.

सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने मस्जिद को लेकर दिया बयान ( फाइल फोटो- PTI) सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने मस्जिद को लेकर दिया बयान ( फाइल फोटो- PTI)

  • मुसलमानों को खौफ खाने की जरूरत नहीं: शफीकुर्रहमान
  • 'बीजेपी सरकार ने ताकत के बल पर कराया कोर्ट से फैसला'

अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन कार्यक्रम संपन्न हो चुका है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को मंदिर की पहली ईंट रखी. मंदिर की नींव रखने के साथ ही इस पर राजनीति भी शुरू हो गई है. समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने भूमि पूजन पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अयोध्या में मस्जिद थी, है और रहेगी. उन्होंने साथ ही ये भी कहा कि मुसलमानों को खौफ खाने की जरूरत नहीं है.

यूपी के संभल से सांसद शफीकुर्रहमान कहते हैं कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद है, थी और रहेगी. बीजेपी सरकार ने ताकत के बल पर कोर्ट से फैसला कराया. मुसलमान अल्लाह के भरोसे हैं. वो पीएम मोदी और सीएम योगी के भरोसे नहीं हैं. मुसलमानों को खौफ खाने की जरूरत नहीं है.

ये भी पढ़ें- राहुल बोले- भूल जाएं चीन के सामने खड़ा होना, PM में इतनी हिम्मत नहीं कि नाम ले सकें

सपा सांसद ने आगे कहा कि संग-ए-बुनियाद रखना, जम्हूरियत का कत्ल करना है. इस जम्हूरी मुल्क में यह जो अमल हो रहा है, उन्होंने शायद इस पर कभी गौर नहीं किया कि हम जो कुछ भी यहां कर रहे हैं, वह किस बुनियाद पर कर रहे हैं. उनकी सरकार है, उन्होंने ताकत के दम पर संग-ए-बुनियाद रख दी. कोर्ट से भी अपने पक्ष में फैसला करा लिया.

sp-mp_080620070950.jpgसमाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क

ये भी पढ़ें- राम मंदिर के मुद्दे पर कांग्रेस में दो फाड़, सांसद टीएन प्रतापन ने सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी

बता दें मस्जिद को लेकर बयान देने वाले शफीकुर्रहमान पहले नेता नहीं हैं. इससे पहले हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी कहा था कि बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी. वहीं, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के जनरल सेक्रेटरी मौलाना वली रहमानी ने भी कहा था कि बाबरी मस्जिद कल भी थी, आज भी है और कल भी रहेगी.

उन्होंने कहा कि मूर्तियां रख देने से या फिर पूजा-पाठ शुरू कर देने या एक लंबे अर्से तक नमाज पर प्रतिबंध लगा देने से मस्जिद की हैसियत खत्म नहीं हो जाती.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें