scorecardresearch
 

आशीष मिश्रा की जमानत रद्द, लखीमपुर जाएंगे किसान नेता राकेश टिकैत, कहा- SC से न्याय की उम्मीद

राकेश टिकैत ने सर्वोच्च न्यायालय की ओर से लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की जमानत रद्द किए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि हमें सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद है.

X
राकेश टिकैत (फाइल फोटो) राकेश टिकैत (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सही से काम नहीं कर रही यूपी सरकार- राकेश टिकैत
  • कहा- 25 को जाएंगे लखीमपुर, बनाएंगे एक कमेटी

सुप्रीम कोर्ट ने लखीमपुर खीरी कांड के आरोपी आशीष मिश्रा को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली जमानत रद्द कर दी है. सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा को एक हफ्ते में कोर्ट में सरेंडर करने के लिए भी कहा है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को लेकर नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन की अगुवाई करने वाले भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है.

राकेश टिकैत ने 18 अप्रैल को मुजफ्फरनगर में आशीष की जमानत रद्द होने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि हमें सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट लखीमपुर खीरी की घटना की मॉनिटरिंग शुरू से ही कर रहा है. राकेश टिकैत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को भी फटकार लगाई थी.

राकेश टिकैत ने कहा कि हमने बार बार ये कहा है कि SIT की रिपोर्ट के आधार पर काम हो लेकिन यूपी सरकार सही से काम नहीं कर रही. आशीष मिश्रा को इसीलिए जमानत मिल गई थी. उन्होंने कहा कि हमें सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उम्मीद है. जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट शुरू से इसका संज्ञान ले रहा है, हमें पूरी उम्मीद है कि न्याय मिलेगा.

लखीमपुर जाकर बनाएंगे कमेटी

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि 25 अप्रैल को लखीमपुर जा रहे हैं. हम वहां एक कमेटी बनाएंगे जो इस मामले को देखेगी. उन्होंने कहा कि सजा देने का अधिकार कोर्ट का है. जिस तरह का अपराध है, उसी तरह की सजा दी जाती है. गौरतलब है कि आशीष मिश्रा मोनू की जमानत रद्द करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर तल्ख टिप्पणियां की थीं.

क्या है घटना?

पिछले साल 3 अक्टूबर को लखीमपुरी खीरी में किसानों को गाड़ी से कुचल दिया गया था. जिससे चार किसानों की मौत हो गई थी. इस हादसे के बाद मारपीट की घटना भी हुई थी, जिसमें बीजेपी से जुड़े तीन लोगों की मौत भी हुई थी. वहीं, इस पूरी घटना में एक पत्रकार की जान भी चली गई थी. आरोप लगा था कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा ने किसानों को गाड़ी से रौंदा था. इस आरोप में वो लंबे समय जेल में भी रहे और बाद में आशीष को जमानत मिल गई थी. अब सुप्रीम कोर्ट ने जमानत रद्द कर दी है और फिर से सरेंडर करने के लिए कहा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें