scorecardresearch
 

Piyush Jain: इत्र कारोबारी पीयूष जैन को जब्त 23 किलो सोने के लिए देनी होगी इतने करोड़ रुपये की कस्टम ड्यूटी!

Piyush Jain Kanpur Raid: इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों से करीब 196 करोड़ रुपये कैश मिला था. इसके साथ-साथ उसके पास से 23 किलो सोना भी बरामद हुआ था.

X
इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों पर छापे पड़े थे
इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों पर छापे पड़े थे
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों पर दिसंबर 2021 में रेड पड़ी थी
  • पीयूष जैन के यहां से 196 करोड़ से ज्यादा की नकदी मिली थी

इत्र कारोबारी पीयूष जैन (Piyush Jain) की दिक्कतें आने वाले दिनों में और बढ़ने वाली हैं. उसके घर से जो 23 किलो सोना मिला था उसपर उसे भारी-भरकम कस्टम ड्यूटी चुकानी होगी. पीयूष जैन कन्नौज का वही कारोबारी है जिसके ठिकानों पर पिछले साल दिसंबर में छापे पड़े थे. इसमें करीब 196 करोड़ रुपये कैश मिला था. छापेमारी में ही 23 किलो सोने के बिस्कुट भी मिले थे.

अब जानकारी मिली है कि पीयूष जैन को इस सोने पर 4.38 करोड़ रुपये की कस्टम ड्यूटी चुकानी होगी. दरअसल, पीयूष जैन ने कानपुर जिला कोर्ट में जमानत की अर्जी लगाई है. इसके जवाब में Directorate of Revenue Intelligence (DRI) की लखनऊ यूनिट ने कोर्ट में जवाब दाखिल किया है. DRI ने ही कस्टम ड्यूटी चुकाने की मांग की है.

DRI के वकील ने जिला कोर्ट को बताया है कि पीयूष ने सबकुछ प्लान तरीके से किया था. उसने सोने को छिपाने के लिए घर में 10-12 साल पहले बंकर बनाए थे.

यह भी पढ़ें - Piyush Jain Raid: रेड में जब्त करोड़ों वापस लेने कोर्ट पहुंचा पीयूष जैन, कुछ भी नहीं मिलेगा, नियम ये कहता है...

बता दें कि दिसंबर 2021 में कानपुर और कन्नौज में पीयूष जैन के ठिकानों पर छापे पड़े थे. वहां से 23 किलो सोने के बिस्कुट मिले थे. इसके अलावा कानपुर वाले घर से 177 करोड़ रुपये मिले थे. वहीं कन्नौज वाले घर से 19 करोड़ की बरामदगी हुई थी.

सोना-कैश छिपाने के लिए बनाए थे बंकर

जो 23 किलो सोना मिला ता उसपर विदेशी मार्क था. DRI ने कोर्ट को बताया है कि पूछताछ में पीयूष जैन ने माना है कि उसने वह सोना बिना बिल या कागजात के खरीदा था. ये सोने के बिस्कुट कैश देकर बिना कोई टैक्स दिये खरीदे गए थे. DRI के वकील अंबरीश टंडन ने बताया कि पीयूष जैन ने 10-12 साल पहले अपने घर पर बंकर बनवाये थे ताकि पैसा और गोल्ड उनमें छिपा सके.

DRI ने फिलहाल पीयूष जैन की जमानत का विरोध किया है. कहा गया है कि अगर पीयूष को जमानत मिलती है तो यह टैक्स चोरी को बढ़ावा देगा. अब पीयूष जैन की जमानत पर 24 मई को सुनवाई होगी.

छापे में क्या-क्या मिला था

छापे की कार्रवाई के बाद डीजीजीआई के वकील अंबरीश टंडन ने बताया था कि पीयूष के घर से जो पैसा बरामद हुआ है, ये टैक्स चोरी की रकम है. बरामद रकम 42 बॉक्स में रखकर बैंक में जमा की गई है. टंडन ने बताया था कि कानपुर में 177 करोड़ 45 लाख रुपये बरामद किए गए. जिसे दो बार में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में जमा कराया गया. पहली बार 25 बक्सों में 109 करोड़ 34 लाख 74 हजार 240 रुपये, जबकि दूसरी बार में 17 बक्सों में 68 करोड़ 10 लाख 27 हजार की रकम बैंक भेजी गई थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें