scorecardresearch
 

नोएडा: सुपरटेक का ट्विन टावर 21 अगस्त को होगा जमींदोज, 2 अगस्त से लगाया जाएगा विस्फोटक

नोएडा के सुपरटेक ट्विन टावर को 21 अगस्त को गिराया जाएगा. टावर्स में रणनीतिक और तकनीकी तौर पर बनाए गए सुराखों में दो अगस्त से विस्फोटक लगाने की शुरुआत होगी. सुपरटेक टावर को सुरक्षित तौर पर गिराने की जिम्मेदारी एडीफिस इंजीनियरिंग के पास है. वहीं धूल से पर्यावरण को बचाने के लिए नोएडा अथॉरिटी ने टावर को सफेद और काले जिओ फाइबर से घेर दिया है.

X
फाइल फोटो
फाइल फोटो

सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा के सुपरटेक ट्विन टॉवर विध्वंस यानी ढहाने के मामले पर सुनवाई की. कोर्ट ने बताया कि 21 अगस्त को ट्विन टावर गिराया जाएगा. जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने इस मामले की सुनवाई करने बैठी बेंच में नए शामिल हुए जज जस्टिस पारदीवाला को इस मामले के बारे में जानकारी दी. 

नोएडा प्राधिकरण के वकील ने बताया कि पिछली बैठक के बाद से अब तक क्या-क्या हुआ है, इस पर हमने एक स्थिति रिपोर्ट दायर की है. एक बैठक 7 जून को और दूसरी 19 जुलाई को हुई थी. वकील ने कोर्ट को बताया कि एडिफिस इंजीनियरिंग ने आश्वासन दिया कि 21 अगस्त 2022 को दोपहर 2.30 बजे विध्वंस होगा. आरडब्ल्यूए के सदस्य ने ट्विन टावर की स्ट्रक्चरल ऑडिट की है. 

सूत्रों के मुताबिक, टावर्स में रणनीतिक और तकनीकी तौर पर बनाए गए सुराखों में दो अगस्त से विस्फोटक लगाने की शुरुआत होगी. सुपरटेक टावर को सुरक्षित तौर पर गिराने की जिम्मेदारी एडीफिस इंजीनियरिंग के पास है. अन्य तकनीकी उपाय और उन पर अमल करने का उत्तरदायित्व नोएडा अथॉरिटी पर है. अधिकारियों के मुताबिक, टावर गिराते वक्त जो सबसे बड़ी परेशानी सामने आने वाली है वो टावर ध्वस्त होने के साथ ही उठने वाले धूल के गुबार से निपटने की.  

धूल से बचने का बनाया गया प्लान

एक्सपर्ट्स के मुताबिक ट्विन टावर गिराते वक्त उड़ने वाली धूल से पर्यावरण को नुकसान होगा. इसके मद्देनजर एडिफिस और नोएडा अथॉरिटी ने टावर को सफेद और काले जिओ फाइबर से घेर दिया है. इसके अलावा धूल से बचने के लिए एक और प्लान बनाया गया है. इसमें टावर के आसपास के फूल-पौधों को प्लास्टिक की चद्दर से ढक दिया जाएगा. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें