scorecardresearch
 

UP: मुख्तार अंसारी के परिवार पर कसा शिकंजा, पत्नी और दोनों साले भगोड़ा घोषित

बाहुबली मुख्तार अंसारी के विधायक बेटे अब्बास अंसारी के बाद पत्नी अफ़सा अंसारी और दोनों सालों की तलाश तेज कर दी गई है. मऊ पुलिस ने पत्नी और दोनों सालों को भगोड़ा घोषित किया है. इन तीनों की गिरफ्तारी के लिए मऊ के तीन थानों की पुलिस दबिश दे रही है.

X
बेटे अब्बास और पत्नी अफसा के साथ मुख्तार अंसारी (फाइल फोटो) बेटे अब्बास और पत्नी अफसा के साथ मुख्तार अंसारी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोर्ट ने पत्नी और सालों के खिलाफ जारी किया NBW
  • पुलिस ने तीनों को घोषित किया भगोड़ा, तलाश में छापा

उत्तर प्रदेश की बांदा जेल में बंद बाहुबली मुख्तार अंसारी के परिवार पर शिकंजा कसता जा रहा है. विधायक बेटे अब्बास अंसारी के बाद अब पत्नी अफसा अंसारी और दोनों सालों की तलाश में छापेमारी शुरू हो गई है. कोर्ट द्वारा जारी गैर जमानती वारंट के बावजूद फरार होने पर मऊ पुलिस ने बड़ा एक्शन करते हुए तीनों (पत्नी और दोनों सालों) को भगोड़ा घोषित कर दिया है.

मऊ के तीन थानों की पुलिस ने मुख्तार अंसारी के गाजीपुर स्थित पैतृक आवास सहित चार ठिकानों पर छापेमारी की और नोटिस चस्पा किया. मुख्तार का परिवार (पत्नी और दोनों साले) कोर्ट के आदेश की अवहेलना व पुलिस को चकमा देकर फरार है. मऊ पुलिस ने तीनों के खिलाफ 82 की नोटिस चस्पा करते हुए कोर्ट में पेश होने की हिदायत दी है.

क्या है पूरा मामला

मुख्तार अंसारी की पत्नी अफसा अंसारी और उनके दोनों सालों अनवर रजा व आतिफ उर्फ सरजील रजा ने मऊ के दक्षिण टोला थाने में दर्ज गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे में जमानत नहीं कराया है. इसी मामले में कोर्ट ने तीनों के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया था. इसके बाद मऊ पुलिस ने तीनों की तलाश में कई जगह छापेमारी की.

इससे पहले मुख्तार अंसारी की पत्नी अफसा के नाम पर जो एफसीआई गोदाम था, उसे जिला प्रशासन ने जब्त कर लिया था. इसकी कीमत 3 करोड़ 26 लाख रुपये बताई जा रही है. अफसा अंसारी और उनके दोनों भाई विकास कंस्ट्रक्शन नामक फर्म में हिस्सेदार हैं. गैर-जमानती वारंट जारी होने के बाद अफसा अंसारी की तलाश तेज हो गई है.

पत्नी और सालों के नाम पर गोदाम, हर महीने 15 लाख की कमाई

मऊ के दक्षिण टोला थाना क्षेत्र के रैनी गांव में मुख्तार अंसारी की पत्नी और सालों के नाम एफसीआई गोदाम है, जिसमें विकास कंस्ट्रक्शन के नाम से फर्म बनाकर यह तीनों हिस्सेदार थे. जिला प्रशासन ने गोदाम को अवैध अतिक्रमण बताने के साथ ही गलत तरीके से सरकारी जमीन पर कब्जा करने के आरोप में 2020 में मुकदमा दर्ज किया था.

मुख्तार अंसारी की पत्नी अफसा अंसारी और उनके सालों के नाम इस एफसीआई के गोदाम से 15 लाख रुपये महीने की आमदनी मुख्तार अंसारी को होती थी. इस गोदाम को 15 बीघे जमीन पर बनाया गया है, जिसको पहले ही जिला प्रशासन ने गैंगस्टर एक्ट के तहत कुर्क कर दिया है.

बेटे की तलाश में भी जारी है छापेमारी

इसके अलावा मुख्तार अंसारी के विधायक बेटे अब्बास अंसारी के खिलाफ भी लखनऊ की अदालत ने फर्जी तरीके से असलहा ट्रांसफर करने के मामले में गैर-जमानती वारंट जारी किया है. इसके बाद लखनऊ से कई टीमें बनाकर पुलिस अब्बास अंसारी की गिरफ्तारी के लिए प्रदेश के कई जिलों में छापेमारी कर रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें