scorecardresearch
 

घोषी में 59.25 फीसदी मतदान, कल्पनाथ राय की धरती पर कांटे की टक्कर

घोसी संसदीय सीट पर कुल 15 उम्मीदवार मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के हरिनारायण, कांग्रेस के बालकृष्णा और बहुजन समाज पार्टी के अतुल कुमार सिंह उर्फ अतुल राय के बीच है. सीपीई ने भी अतुल कुमार सिंह उर्फ अंजान को मैदान में उतारा है. 5 उम्मीदवार बतौर निर्दलीय चुनावी समर में किस्मत आजमा रहे हैं. हरिनारायण पिछली बार सांसद रहे हैं.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

उत्तर प्रदेश के 80 लोकसभा सीटों में शामिल घोसी संसदीय क्षेत्र दिग्गज नेता कल्पनाथ राय के नाम से जानी जाती है. 90 के दशक में कल्पनाथ राय पूर्वांचल के दिग्गज नेताओं में गिने जाते थे. यह उन्हीं के प्रयासों का परिणाम है जिस कारण मऊ को जिले का दर्जा मिला. उन्होंने घोसी से सांसद रहते हुए मऊ को जिला बनाने के लिए लंबा संघर्ष किया और अपने मकसद में कामयाब रहे.

घोसी में लोकसभा चुनाव के अंतिम और सातवें चरण के तहत रविवार (19 मई) को वोट डाले गए. यहां पर 59.25 फीसदी वोट डाले गए. मतदान को लेकर पोलिंग बूथों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था थी. घोसी संसदीय सीट पर कुल 15 उम्मीदवार मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के हरिनारायण, कांग्रेस के बालकृष्णा और बहुजन समाज पार्टी के अतुल कुमार सिंह उर्फ अतुल राय के बीच है. सीपीई ने भी अतुल कुमार सिंह उर्फ अंजान को मैदान में उतारा है. 5 उम्मीदवार बतौर निर्दलीय चुनावी समर में किस्मत आजमा रहे हैं. हरिनारायण पिछली बार सांसद रहे हैं.

अपडेट्स

घोसी लोकसभा सीट पर शाम 5 बजे तक 49.19 प्रतिशत मतदान रिकॉर्ड किया गया है.

घोसी लोकसभा सीट पर शाम 4  बजे तक 45.38 फीसदी मतदान हो चुका है.

घोसी लोकसभा सीट पर दोपहर 2 बजे तक 37.26 प्रतिशत मतदान हो चुका है.

यूपी की घोसी लोकसभा सीट पर अबतक 20.89 प्रतिशत मतदाता वोट डाल चुके हैं.

घोसी लोकसभा सीट पर सुबह 10 बजे तक 9.15 प्रतिशत मतदान हो चुका है.

पूर्वांचल में वामपंथ का गढ़

घोसी के लोकसभा इतिहास प्रदेश के उन चंद सीटों में शामिल है जहां कांग्रेस का कभी भी गढ़ नहीं रहा. कांग्रेस के टिकट पर कल्पनाथ राय 2 बार चुनाव जरूर जीते, लेकिन यहां पर चुनाव जीतने के लिए उनकी अपनी ही छवि ही काफी थी. बाद में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भी उन्होंने चुनाव जीता था. 1957 के चुनाव में कांग्रेस को पहली जीत मिली. कहा जाए तो पूर्वांचल में वामपंथ का गढ़ घोसी सीट ही रहा है, जहां से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) का कई सालों तक कब्जा रहा. 1957 से अब तक 16 बार हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को महज 4 बार जीत मिली, जबकि सीपीआई ने 5 बार जीत हासिल की है.

गोरखपुर यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान छात्र राजनीति करने वाले कल्पनाथ राय के नाम से इस सीट को पहचान मिली. कांग्रेस के टिकट पर कल्पनाथ राय ने पहली बार 1989 में जीत हासिल की थी, इसके बाद वह 1991, 1996 और 1998 में जीत कर लोकसभा पहुंचे. कांग्रेस से मनमुटाव होने के बाद 1996 के चुनाव में उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीत हासिल की. इसके बाद 1998 में समता पार्टी के टिकट पर चौथी बार लोकसभा पहुंचे. इसके अलावा 1974–80, 1980–86 और 1986 में राज्यसभा में कांग्रेस सांसद रहे. कांग्रेस राज में वह बार मंत्री भी रहे. नरसिम्हा राव सरकार के कार्यकाल में वह खाद्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रहे और इस दौरान इन पर घोटाले के आरोप लगे. वह इंदिरा गांधी के कार्यकाल में भी मंत्री रहे.

कल्पनाथ राय के निधन (1999) के बाद बसपा (1999), सपा (2004), 2009 (बसपा) और 2014 (बीजेपी) ने इस सीट से जीत हासिल की. 2014 में बीजेपी यहां से पहली बार जीत हासिल करने में कामयाब रही.

घोसी में 3 विधानसभा पर बीजेपी का कब्जा

घोसी संसदीय क्षेत्र में 4 विधानसभा क्षेत्र (मधुबन, घोसी, मुहम्मदाबाद-गोहना, मऊ सदर) आते हैं जिसमें सिर्फ मुहम्मदाबाद- गोहना सीट ही अनुसूचित जाति के लिए रिजर्व है. मधुबन विधानसभा क्षेत्र पर भारतीय जनता पार्टी के दारा सिंह चौहान विधायक हैं, उन्होंने 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के अमरेश चंद को 29.415 मतों के अंतर से हराया था. बीजेपी ने यह सीट बसपा से छीनी थी. घोसी विधानसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का कब्जा है. बीजेपी के प्रत्याशी फागू चौहान ने 2 साल पहले हुए विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के अब्बास अंसारी को 7,003 मतों के अंतर से हराया था.

घोसी संसदीय क्षेत्र में मुहम्मदाबाद-गोहना सीट ही एकमात्र रिजर्व विधानसभा सीट है. मुहम्मदाबाद-गोहना सीट से बीजेपी के श्रीराम सोनकर विधायक हैं. उन्होंने बसपा के राजेंद्र को बेहद कड़े मुकाबले में 538 वोटों से हराया था. मुस्लिम बहुल इस क्षेत्र में हर बार चुनाव कांटे का रहा है और हार-जीत का अंतर बेहद कम रहा है. मऊ सदर विधानसभा क्षेत्र से बाहुबली मुख्तार अंसारी विधायक हैं. उन्होंने बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रत्याशी महेंद्र राजभर को 8,698 मतों के अंतर से हराया था. मुख्तार अंसारी पूर्वांचल के दबंगों में गिने जाते हैं. वह पांचवीं बार यहां से विधायक चुने गए हैं.

इस तरह से देखा जाए तो घोसी संसदीय सीट के 4 विधानसभा सीट में से 3 पर बीजेपी का कब्जा है, जबकि एक पर बसपा ने जीत हासिल की हुई है.

ज्यादातर आबादी ग्रामीण

2011 जनगणना के आधार पर घोसी संसदीय क्षेत्र में आने वाली घोसी तहसील की बात की जाए तो यहां की आबादी 4.7 लाख है जिसमें 2.3 लाख लोग (50%) पुरुष हैं, जबकि महिलाओं की भी संख्या भी करीब-करीब यही है. इसमें से 77 फीसदी आबादी सामान्य वर्ग के लोगों की है. इसके अलावा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की आबादी क्रमशः 21 फीसदी और 1 फीसदी है. घोसी में ज्यादातर आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है.

धर्म के आधार पर देखा जाए तो इस क्षेत्र में 87.29 फीसदी लोग हिंदू हैं तो 12.41 फीसदी लोग मुस्लिम समुदाय से हैं. 2011 के लिंगानुपात के आधार पर एक हजार पुरुषों की आबादी पर महिलाओं की संख्या 1,008 है. सामान्य वर्ग में लिंगानुपात 1,011 है. साक्षरता दर पर बात  की जाए तो घोसी की साक्षरता 72 फीसदी है, जिसमें पुरुषों की 83 फीसदी और महिलाओं की 62 फीसदी आबादी शिक्षित है.

2014 में बीजेपी ने खोला खाता

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने पहली बार इस सीट से जीत हासिल की. बीजेपी के उम्मीदवार हरिनारायण राजभर ने बसपा के दारा सिंह चौहान को हराकर अपनी पार्टी के लिए यहां से खाता खोला. पिछले लोकसभा चुनाव में यहां पर 18,91,112 इलेक्टोरल थे, जिसमें से 54.99 फीसदी (10,39,830) मतदाताओं ने अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग किया. चुनाव में 18 उम्मीदवारों ने अपनी किस्मत आजमाई.

हरिनारायण को इसमें से 36.53 फीसदी यानी 3,79797 वोट मिले, जबकि बसपा के दारा सिंह को 22,49 फीसदी (2,33,782) वोट मिले. हरिनारायण ने यह चुनाव 1,46,015 मतों के अंतर से जीता था. बाहुबली मुख्तार अंसारी तीसरे नंबर पर रहे. उन्हें 16 फीसदी यानी 1,66,443 मत मिले थे.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें