scorecardresearch
 

उत्तर प्रदेश में थम नहीं रही है गुंडागर्दी

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार के सत्ता में आते ही शुरू हुई गुंडागर्दी एक साल बाद भी थमने का नाम नहीं ले रही है. हर घटना के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव केवल कठोर कारवाई का आश्वासन देते हैं, लेकिन हकीकत में कुछ होता नहीं दिख रहा है.

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार के सत्ता में आते ही शुरू हुई गुंडागर्दी एक साल बाद भी थमने का नाम नहीं ले रही है. हर घटना के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव केवल कठोर कारवाई का आश्वासन देते हैं, लेकिन हकीकत में कुछ होता नहीं दिख रहा है.

बीते साल मार्च में सबसे युवा मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने वाले अखिलेश यादव से उत्तर प्रदेश की जनता को ढेरों उम्मीदें थीं कि वह सपा की परंपरागत गुंडा छवि को बदलकर लोगों के भरोसे पर खरा उतरेंगे, लेकिन शपथ ग्रहण के दिन से शुरू सूबे में सपाईयों की गुंडागर्दी का सिलसिला बदस्तूर जारी है.

डीएसपी की हत्‍या से बढ़ा बवाल
ताजा मामला प्रतापगढ़ जिले के कुंडा का है, जहां सीओ के तौर पर तैनात रहे पुलिस उपाधीक्षक जिलाउल हक की हत्या कर दी गई. हत्या करवाने का आरोप सपा सरकार में ताकतवर मंत्री और मुलायम सिंह यादव के करीबी कहे जाने वाले पर रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया पर है.

फौरी तौर पर विपक्षी दलों के हंगामे और लोगों की नाराजगी से बचने के लिए राजा भैया का इस्तीफा ले लिया गया. पीड़ित परिवार से मिलने गए मुख्यमंत्री अखिलेश ने पूरे मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से करवाने और दोषियों के खिलाफ कड़ी कारवाई करने की बात तो कह दी लेकिन बड़ा सवाल है कि क्या राजा भैया की गिरतार होगी और सीओ की परिवार को इंसाफ मिलेगा. सपा पार्टी नेतृत्व की तरफ से संकेत दे दिए गए हैं कि राजा भैया की गिरफ्तारी नहीं होगी.

बदल नहीं सकी सपा की छवि
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले दबंग छवि के नेता डी. पी. यादव और मुख्तार अंसारी को पार्टी में शामिल करने से मना करने पर अखिलेश के प्रति लोगों में उम्मीद बंधी थी कि शायद वह सपा की गुंडा छवि को बदलना चाहते हैं. पाठक कहते हैं कि शायद इसी भरोसे पर लोगों ने उन्हें बहुमत देकर सत्ता सौंपी, लेकिन जिस तरह समाजवादी पार्टी नेता और मंत्री सरेआम गुंडागर्दी कर रहे हैं और मुख्यमंत्री अखिलेश चुपचाप तमाशा देख रहे हैं उससे ऐसा लगता है कि चुनाव से पहले डी. पी. यादव और मुख्तार अंसारी को उनकी आपराधिक छवि नहीं, बल्कि किसी और वजह से पार्टी में शामिल नहीं किया गया, लेकिन इसका राजनीतिक लाभ उठाया गया.

समाजवादी पार्टी में सत्ता के कई केंद्र
जानकारों का मानना है कि सपा में सत्ता के कई केंद्र होने और पार्टी के अपराधिक छवि के नेताओं की मुलायम से नजदीकी के चलते अखिलेश ऐसे नेताओं पर कारवाई कर पाने के विफल हो जाते हैं. चाहे वह बीते गोंडा जिले में राज्यमंत्री विनोद सिंह उर्फ पंडित सिंह द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी का अपहरण कर उसे पीटने का मामला हो या इसी जिले में पशु तस्करों का संरक्षण देने में फंसे राज्यमंत्री क़ेसी़ पांडे की घटना. मुख्यमंत्री ने अपने नेताओं और मंत्रियों पर कार्रवाई के बजाय उल्टे पुलिस अधिकारियों पर गाज गिरा दी.

जनता का उठता जा रहा है भरोसा
लगातार बढ़ रही अराजकती की स्थिति से अखिलेश को बड़ी उम्मीदों के साथ सत्ता सौंपनी वाली जनता का राज्य सरकार से भरोसा उठता जा रहा है. सूबे के पूर्व पुलिस महानिदेशक एस़ एम़ नसीम कहते हैं कि राज्य सरकार गुंडागर्दी करने वाले अपने नेताओं और आपराधिक तत्वों के खिलाफ कठोर कारवाई कर उदाहरण पेश करे. जब तक ऐसा नहीं होगा तब तक ऐसी घटनाएं गुंडागर्दी पर लगाम नहीं लगेगी.

उन्होंने कहा कि इस तरह की हर घटना के बाद केवल पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों पर गाज गिराने के बजाय सरकार अफसरों को प्रोत्साहन करे. आज पुलिस अधिकारी सत्तारूढ़ दल के नेताओं पर कार्रवाई करने से डरते हैं क्योंकि उन्हें भय रहता है कि इससे उनके खिलाफ ही कार्रवाई हो जाएगी. जरूरत इस माहौल को बदलने की है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें