scorecardresearch
 

'अब दूसरी मस्जिद पर अगर हमला हुआ तो मुसलमान खामोश नहीं बैठेंगे'

सुन्नी मुसलमानों के सबसे बड़े केंद्र दरगाह आलाहज़रत के प्रचारक मौलाना सहाबुदीन ने कहा कि हमने बाबरी मस्जिद को खो दिया, उस वक्त मुसलमानों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानते हुए खामोशी इख्तियार की, मगर अब मुसलमान खामोश नहीं बैठेगा.

X
मौलाना सहाबुदीन मौलाना सहाबुदीन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आलाहज़रत के प्रचारक मौलाना सहाबुदीन का बयान
  • बोले- इस बार मुसलमान चुप नहीं बैठेगा, आंदोलन होगा

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे की कवायद शुरू हो गई है. इस बीच सुन्नी मुसलमानों के सबसे बड़े केंद्र दरगाह आलाहज़रत के प्रचारक मौलाना सहाबुदीन ने कहा कि हमने बाबरी मस्जिद को खो दिया, उस वक्त मुसलमानों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानते हुए खामोशी इख्तियार की, मगर अब मुसलमान खामोश नहीं बैठेगा.

ज्ञानवापी मस्जिद पर मौलाना सहाबुदीन ने कहा कि बनारस की ज्ञानवापी मस्जिद का मामला इस वक़्त तूल पकड़ता जा रहा है और इसको फिरकापरस्त ताकतें आगे बढ़ा रही हैं. हमने बाबरी मस्जिद को खो दिया लेकिन अब मुसलमान खामोश नहीं बैठेगा, अगर दूसरी मस्जिद पर हमला किया गया.

प्रचारक मौलाना सहाबुदीन ने कहा कि बाबरी मस्जिद की तरह उसको बनाने की कोशिश की गई तो हिंदुस्तान का मुसलमान खामोश नहीं बैठेगा और आंदोलन हो सकता है. ताजमहल पर मौलाना सहाबुदीन ने कहा कि शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की मोहब्बत में ताजमहल बनवाया था, ये जमीन भी उनकी थी.

दरगाह आलाहज़रत के प्रचारक मौलाना सहाबुदीन ने कहा कि ताजमहल का मुद्दा उठाना गलत बात है, मगर उस पर हाई कोर्ट के जज ने बेहतरीन फैसला देते हुए फटकार लगाई और अपील को खारिज कर दिया. ये नेगेटिव सोच के लोग रोजाना कोई ना कोई इश्यू उठाते हैं, जो हिन्दू मुस्लिम नफरतों को बढ़ाने वाला काम करते हैं.

'एक मस्जिद को चुके हैं, दूसरा नहीं खोना चाहते'

इससे पहले AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने आजतक से बात करते हुए कहा था कि हम एक मस्जिद को चुके हैं, दूसरा नहीं खोना चाहते. उन्होंने कहा कि कोर्ट का फैसला गलत है. मस्जिद कमिटी को सुप्रीम कोर्ट जाना चाहिए और सर्वे को रोकना चाहिए. 

सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था कि कोर्ट का फैसला संसद के 91 एक्ट के खिलाफ है. उन्होंने कहा, 'जो सच है वो सच रहेगा. अगर सरकार 91 एक्ट को खत्म कर दे तो अलग बात है.' असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, 'पार्लियामेंट के एक्ट को माना जाना चाहिए. मैं मुगलों का पैरोकार नहीं हूं. BJP इस मामले में सियासी रोटी सेंक रही है.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें