scorecardresearch
 

वाराणसी: TV डिबेट के दौरान मुस्लिम मौलानाओं के खिलाफ दर्ज हो FIR, संत ने थाने में दी तहरीर

टीवी डिबेट के दौरान मुस्लिम मौलानाओं और धर्म से जुड़े लोगों की ओर से की गई टिप्पणियों से आहत होकर संत ने तहरीर दी है, जिसमें मौलाना इलियास शरफरुद्दीन और मौलाना सरफराज के खिलाफ वाराणसी के लालपुर पांडेपुर थाने में तहरीर देकर मामला दर्ज करने के लिए कहा गया है.

X
ज्ञानवापी मस्जिद में मिले शिवलिंग पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद तहरीर दी गई है. ज्ञानवापी मस्जिद में मिले शिवलिंग पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद तहरीर दी गई है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ज्ञानवापी मस्जिद में हुआ था 3 दिन सर्वे और वीडियोग्राफी
  • मस्जिद के अंदर शिवलिंग मिलने का दावा

वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद में मिले कथित शिवलिंग के बाद टीवी डिबेट में मुस्लिम मौलानाओं ने उसको लेकर अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया था. इन टिप्पणियों से आहत होकर काशी धर्म संसद के संत ने इन मौलानाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए थाने में तहरीर दी है. 

टीवी डिबेट के दौरान मुस्लिम मौलानाओं और धर्म से जुड़े लोगों की ओर से की गई टिप्पणियों से आहत होकर संत ने तहरीर दी है, जिसमें मौलाना इलियास शरफरुद्दीन और मौलाना सरफराज के खिलाफ वाराणसी के लालपुर पांडेपुर थाने में तहरीर देकर मामला दर्ज करने के लिए कहा गया है. संत का आरोप है कि इनके बयानों से धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है. 

पातालपुरी मठ के महंत बालक दास की तरफ से दोनों मौलानाओं के खिलाफ तहरीर दी गई है. उनका आरोप है कि बीते दिनों एक टीवी डिबेट के कार्यक्रम के दौरान मौलाना सरफराज ने ज्ञानवापी में मिले कथित शिवलिंग को कहा था कि अगर वह शिवलिंग होता तो तोड़ दिया जाता तो वहीं मौलाना इलियास शरफरुद्दीन की ओर से टीवी डिबेट के दौरान ही शिवलिंग को प्राइवेट पार्ट बोलकर अपमानित किया गया था. 

बता दें कि वाराणसी की सेशन कोर्ट के आदेश के बाद तीन दिनों तक ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे और वीडियोग्राफी की गई थी. जिसके बाद हिंदू पक्ष के वकीलों ने दावा किया कि वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग मिला है. उनका कहना था कि यह शिवलिंग नंदीजी के सामने है और पूरा निकालकर देखा गया तो इसकी आकृति का पता चला. 

पहले दिन खुलवाए गए थे सभी तहखाने 

ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर पहला सर्वे का 14 मई को हुआ था. पहले दिन सुबह 8 बजे से 12 बजे तक सर्वे हुआ. राउंड-1 में सभी 4 तहखानों के ताले खुलवा कर का सर्वे किया गया. 15 मई को दूसरे राउंड का सर्वे हुआ. दूसरे दिन भी चार घंटे सर्वे का काम चला, लेकिन कागजी कार्रवाई के कारण सर्वे टीम डेढ़ घंटे देर से बाहर निकली. राउंड -2 में गुंबदों, नमाज स्थल, वजू स्थल के साथ-साथ पश्चिमी दीवारों की वीडियोग्राफी हुई. मुस्लिम पक्ष ने चौथा ताला खोला. सोमवार को तीसरे दिन करीब 2 घंटे का काम हुआ. सर्वे टीम नंदी के पास के कुएं से लेकर बाकी बचे इलाकों का मुआयना किया. फोटोग्राफी-वीडियोग्राफी हुई. 

हिंदू पक्ष दावे मजबूत होने की बात कर रहा है तो मुस्लिम पक्ष कुछ न मिलने का दावा कर रहा है. सर्वे में शामिल वकील ने नाम न छापने की शर्त पर बताया था कि तीन कमरों में सर्प, कलश, घंटियां, स्वास्तिक, संस्कृत के श्लोक और स्वान की मूर्तियां मिली हैं, जो उनके लिए सबसे अहम सबूत हैं. इसके अलावा हिंदू मंदिरों के खंभे मिले हैं. हालांकि, मुस्लिम पक्ष लगातार शिवलिंग मिलने के दावे को खारिज कर रहा है. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें