scorecardresearch
 

गाजियाबाद: 100 करोड़ की जमीन पर कब्जे को लेकर मारपीट, MLA-बिल्डर आमने-सामने

गाजियाबाद नेशनल हाइवे से सटे मसूरी गांव में 100 करोड़ रुपये की जमीन पर चल रहे निर्माण कार्य की वजह से इलाके के विधायक और एक बिल्डर आमने-सामने आ गए हैं. विवादास्पद जमीन करीब 42 बीघा का प्लॉट है. इस जमीन की कीमत लगभग 100 करोड़ रुपये है. इस जमीन पर चल रहे निर्माण कार्य को रुकवाने के लिए धौलाना के विधायक असलम चौधरी ग्राम सभा के लोगों के साथ विवादित जमीन पर पहुंच गए.

जमीन पर कब्जे को लेकर हुई लड़ाई में पुलिस ने केस दर्ज किया है. (फोटो-आजतक) जमीन पर कब्जे को लेकर हुई लड़ाई में पुलिस ने केस दर्ज किया है. (फोटो-आजतक)

  • 100 करोड़ की जमीन पर कब्जे को लेकर लड़ाई
  • समर्थकों के साथ धरने पर बैठे विधायक
  • बिल्डर ने लगाया मारपीट का आरोप
गाजियाबाद नेशनल हाइवे से सटे मसूरी गांव में 100 करोड़ रुपये की जमीन पर चल रहे निर्माण कार्य की वजह से इलाके के विधायक और एक बिल्डर आमने-सामने आ गए हैं. विवादास्पद जमीन करीब 42 बीघा का प्लॉट है. इस जमीन की कीमत लगभग 100 करोड़ रुपये की है. इस जमीन पर चल रहे निर्माण कार्य को रुकवाने के लिए धौलाना के विधायक असलम चौधरी ग्राम सभा के लोगों के साथ विवादित जमीन पर पहुंच गए.

बिल्डर गोपाल क्वात्रा का आरोप है कि ग्राम सभा के लोगों द्वारा मौके पर पहुंचकर साइट पर मौजूद सुपरवाइजर अशोक कुमार जैन के साथ मारपीट की गई जिससे उनके सिर में गहरी चोट लगी है. वहीं जमीन से कब्जा खाली कराने के लिए इलाके के बसपा विधायक गांव के सैकड़ों लोगों के साथ धरने पर बैठ गए हैं.

बिल्डर गोपाल क्वात्रा का कहना है कि यह जमीन उन्होंने कुछ साल पहले कानूनी तरीके से खरीदी थी. लेकिन जब वो इस जमीन पर निर्माण कार्य करवाना चाह रहे हैं तो ग्राम सभा इसका विरोध कर रही है. उन्होंने कहा कि धौलाना विधायक असलम लोगों को समझाने के बजाय लोगों को उकसा रहे हैं. उन्होंने कहा कि इस जमीन का मामला सुप्रीम कोर्ट में चला था, और कोर्ट ने भी उनके हक में फैसला सुनाया. बिल्डर ने दावा किया कि उसके पास जमीन से जुड़े सारे कागजात मौजूद हैं.  

बिल्डर ने इस मामले में मारपीट की शिकायत मसूरी थाने दी है. पुलिस ने इस मामले में सभी लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. वही बसपा विधायक असलम चौधरी का आरोप है कि इस विवादित जमीन पर कई बार शासन प्रशासन से शिकायत करने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि इस जमीन पर बारात घर, स्कूल, हॉस्पिटल और बच्चों के लिए खेल का मैदान बनना चाहिए, जिससे क्षेत्रवासियों को फायदा मिल सके. विधायक ने दावा किया कि यह जमीन ग्राम पंचायत की है.

इस पूरे मामले में एसपी देहात नीरज कुमार जादौन ने बताया कि दिल्ली के रहने वाले गोपाल क्वात्रा द्वारा थाना मसूरी में क्षेत्रीय बसपा विधायक असलम चौधरी और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ शिकायत की गई है. उनकी तहरीर के आधार पर क्षेत्रीय बसपा विधायक और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ जान से मारने और बलवा फैलाने का मामला दर्ज कर लिया गया है. पुलिस ने धरना दे रहे विधायक को भी धरनास्थल से हटा दिया है क्योंकि धरना बिना परमिशन दिया जा रहा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें