scorecardresearch
 

कोरोना संकट: राज्यसभा के बाद UP-बिहार के MLC चुनाव पर भी संकट के बादल

कोरोना संकट के चलते ही चुनाव आयोग ने देश के 7 राज्यों की 18 राज्यसभा सीटों पर चुनाव को पहले ही स्थगित कर दिया है. अब देशभर में जिस तरह पूरी तरह से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है ऐसे में अब उत्तर प्रदेश और बिहार में होने वाले विधान परिषद के चुनाव पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं.

यूपी विधानसभा यूपी विधानसभा

  • कोरोना के चलते 14 अप्रैल तक लॉकडाउन
  • अप्रैल में होने हैं यूपी-बिहार के MLC चुनाव

कोरोना वायरस संक्रमण का असर सिर्फ आम जनजीवन और कामकाज पर ही नहीं बल्कि भारतीय राजनीति पर भी भारी पड़ रहा है. कोरोना के चलते ही चुनाव आयोग ने देश के 7 राज्यों की 18 राज्यसभा सीटों पर चुनाव को स्थगित कर दिया था. अब देशभर में जिस तरह से पूरी तरह से 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है ऐसे में अब उत्तर प्रदेश और बिहार में होने वाले विधान परिषद के चुनाव पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं.

उत्तर प्रदेश में स्नातक व शिक्षक क्षेत्र की 11 सीटों पर अप्रैल में चुनाव होने हैं, जिसे लेकर सभी प्रत्याशी जोर-शोर से प्रचार में जुटे थे. विधान परिषद में छह सीटें शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र की और पांच सीटें स्नातक निर्वाचन की हैं. इन 11 सीटों पर मौजूदा विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल इस साल छह मई को खत्म हो रहा है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

स्नातक कोटे से लखनऊ,वाराणसी, आगरा और मेरठ की विधान परिषद का चुनाव होना है. वहीं, शिक्षक कोटे से लखनऊ, वाराणसी, आगरा, मेरठ, बरेली-मुरादाबाद और गोरखपुर-फैजाबाद सीटें हैं. इस बार बीजेपी सहित तमाम पार्टियां शिक्षक कोटे वाली सीटों पर भी किस्मत आजमा रही हैं.

ऐसे ही बिहार में शिक्षकों और स्नातकों के वोट से भरी जाने वाली विधान परिषद की आठ सीटें मई में रिक्त हो रही हैं. ऐसे में इन सभी आठ विधान परिषद सीटों पर अप्रैल में चुनाव होने हैं. इनमें पटना, दरभंगा और तिरहुत में शिक्षक और स्नातक दोनो कोटे की सीटें हैं. वहीं, सारण में शिक्षक तो कोसी क्षेत्र में स्नातक कोटे से विधान परिषद की सीटें हैं.

हालांकि, कोरोना संकट के चलते आगामी 14 अप्रैल तक के लिए पूरी तरह से लॉकडाउन है. कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सब कुछ बंद है और लोग अपने-अपने घरों में हैं. ऐसे में उम्मीदवारों ने मान लिया है कि तय समय पर चुनाव नहीं होंगे. हालांकि, दोंनों राज्यों के निर्वाचन विभाग ने तैयारी पूरी कर ली थी. मतदाता सूची तय समय जनवरी में ही पूरी तरह से बन चुकी है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

कोरोना वायरस के चलते अब इस पर ग्रहण लग गया है और साफ है कि 14 अप्रैल तक चुनाव की अधिसूचना जारी नहीं हो सकती है. इसके बाद भी यह तय नहीं है कि 14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन नहीं किया जाएगा. ऐसे में कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए सरकारें फैसला करेंगी कि आगे क्या कदम उठाए जाएं. अगर 14 अप्रैल तक पूरी तरह से नियंत्रण में रहा तो भी विधान परिषद के चुनाव मई से पहले किसी भी सूरत में नहीं हो पाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें