scorecardresearch
 

योगी सरकार का बचत फॉर्मूला, नहीं खरीदी जाएगी नई गाड़ी, न होंगी भर्तियां

कोरोना की महामारी के बाद राजस्व में हुए बड़े नुकसान को लेकर योगी सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है. अपना खर्च घटाने के लिए यूपी की योगी सरकार ने कई बड़े फैसले किए हैं. दरअसल लॉकडाउन के चक्कर में सरकार की आमदनी बहुत कम हो गई है. इस संकट से पार पाने के लिए यूपी में सरकार द्वारा इस साल कोई नई गाड़ी नहीं खरीदी जाएगी.

कोरोना की वजह से यूपी सरकार को हुआ काफी नुकसान (फाइल फोटो) कोरोना की वजह से यूपी सरकार को हुआ काफी नुकसान (फाइल फोटो)

  • यूपी में फिलहाल नहीं खरीदी जाएगी नई गाड़ी
  • राज्य में इस साल नहीं की जाएगी कोई नई भर्ती

चीन के वुहान शहर से पूरी दुनिया में फैले कोरोना वायरस ने भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व की आर्थिक गतिविधियों को चोट पहुंचाई है. कई देशों में लॉकडाउन लागू है. भारत में भी लॉकडाउन के शुरुआती दो चरणों में जरूरी सामानों की बिक्री को छोड़कर सारी आर्थिक गतिविधियां बंद रखी गई थीं. लेकिन बाद में धीरे-धीरे कुछ चरणों के साथ अब तमाम तरह के काम शुरू करने की इजाजत दी गई है. हालांकि उसके तमाम मानक भी तय किए गए हैं. यूपी में भी कोरोना की वजह से भारी आर्थिक क्षति पहुंची है. योगी सरकार अब उनसे उबरने की कोशिशें कर रही है.

इसी क्रम में कोरोना की महामारी के बाद राजस्व में हुए बड़े नुकसान को लेकर योगी सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है. अपना खर्च घटाने के लिए यूपी की योगी सरकार ने कई बड़े फैसले किए हैं. दरअसल लॉकडाउन के चक्कर में सरकार की आमदनी बहुत कम हो गई है. इस संकट से पार पाने के लिए यूपी में सरकार द्वारा इस साल कोई नई गाड़ी नहीं खरीदी जाएगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

इसके साथ ही राज्य की योगी सरकार ने फैसला किया है कि राज्य में इस साल कोई नई भर्ती नहीं की जाएगी. इसके अलावा यह भी तय हुआ है कि कोई नया निर्माण कार्य नहीं शुरू किया जाएगा. राज्य सरकार ने यह भी फैसला लिया है कि जब तक ऐसा करना जरूरी ना हो कोई नई योजना शुरू करने से बचा जाएगा.

CM योगी बोले- लॉकडाउन में पैदल यात्रा ना करें मजदूर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रवासी कामगारों श्रमिकों की सुरक्षित और सम्मानजनक प्रदेश वापसी सुनिश्चित की है. संबंधित राज्य सरकारें उत्तर प्रदेश के प्रवासी कामगारों और श्रमिकों की सूची उपलब्ध करवाएं. पिछले एक सप्ताह में 590 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिये विभिन्न राज्यों से प्रवासी कामगार यूपी वापस आए हैं.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

मुख्यमंत्री ने अफसरों से कहा, यह सुनिश्चित किया जाए कि लोग पैदल, बाइक, तीन पहिया और ट्रक आदि से यात्रा ना करें. बॉर्डर क्षेत्र के साथ साथ टोल प्लाज़ा एक्सप्रेस वे और प्रमुख चौराहों पर प्रवासी श्रमिकों के लिए भोजन एवं पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए. परिवहन निगम द्वारा संचालित सभी बसों को नियमित रूप से सैनिटाइज किया जाए.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें