scorecardresearch
 

छापे के बाद BSP के पूर्व MLA ने सरेंडर किए ₹100 करोड़, जानें कौन हैं जुल्फिकार भुट्टो?

आयकर के छापे के बाद अब बहुजन समाज पार्टी के पूर्व विधायक जुल्फिकार अहमद भुट्टो ने 100 करोड़ रुपए सरेंडर कर दिए हैं. पांच नवंबर की सुबह 9 बजे इनकम टैक्स की टीम ने एक साथ जुल्फिकार अहमद भुट्टो के सभी ठिकानों पर छापेमारी की थी, जो मंगलवार रात तक जारी रही.

X
जुल्फिकार अहमद भुट्टो (File Photo)
जुल्फिकार अहमद भुट्टो (File Photo)

बहुजन समाज पार्टी (BSP) के पूर्व विधायक जुल्फिकार अहमद भुट्टो के ठिकानों पर हुई आयकर विभाग की छापेमारी के बाद उन्होंने 100 करोड़ रुपए सरेंडर कर दिए हैं. पांच नवंबर की सुबह 9 बजे इनकम टैक्स की टीम ने एक साथ जुल्फिकार अहमद भुट्टो के सभी ठिकानों पर छापेमारी की थी, जो मंगलवार रात तक जारी रही.

आयकर विभाग ने दिल्ली, मुंबई, आगरा, गाजियाबाद, कानपुर, अलीगढ़ और उन्नाव सहित 12 शहरों में जुल्फिकार के 35 ठिकानों पर एक साथ रेड मारी थी. छापेमारी के बाद आय से अधिक संपत्ति का खुलासा हुआ था. अब जुल्फिकार और उनसे जुड़ी कंपनी ने 100 करोड़ रुपए सरेंडर कर दिए हैं.

देश-विदेश में सप्लाई होता है मीट

सूत्रों के मुताबिक कंपनी के निदेशकों ने रियल स्टेट के बिजनेस में काला धन निवेश कर रखा था.पूर्व विधायक भुट्टो का मीट का बड़ा कारोबार है. इसके अलावा वह HMA ग्रुप के मालिक भी हैं. पूर्व विधायक का यूपी के कुबेरपुर में स्लॉटर हाउस भी है, जिसका मीट देश- विदेश में सप्लाई होता है. बता दें कि पूर्व विधायक का घर आगरा की पॉश कॉलोनी विभव नगर में है. 

आगरा से रह चुके हैं BSP विधायक

बता दें कि जुल्फिकार अहमद भुट्टो उत्तर प्रदेश के आगरा से बहुजन समाज पार्टी के 2007 में विधायक रह चुके हैं. 5 अगस्त की सुबह भारी सुरक्षाबलों के साथ आईटी की अलग-अलग टीमें उनके घर और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर पहुंचीं थीं. जानकारी के मुताबिक टीम के साथ स्थानीय पुलिस के अलावा सीआरपीएफ के जवान भी पहुंचे थे. टीम अंदर कार्रवाई कर रही थी और घर के बाहर सीआरपीएफ टीम पहरा दे रही थी.

मुस्लिम विकास परिषद ने दी चेतावनी

भुट्टो को अपना समर्थन देते हुए, अखिल भारतीय मुस्लिम विकास परिषद के अध्यक्ष सामी अघई ने कहा था कि केंद्र और राज्य सरकारें विपक्षी पार्टी के नेताओं और उनके समर्थकों को परेशान करने के लिए ईडी, सीबीआई और आयकर जैसी सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है.

बीजेपी के अभियान का हिस्सा

अघई ने आगे कहा था कि एचएमए समूह पर छापा भी भाजपा के उस अभियान का एक हिस्सा प्रतीत होता है. भले ही छापे कई शहरों की टीमों को शामिल करने के लिए इस तरह के एक बड़े अभियान को वारंट करने के लिए पर्याप्त कुछ भी न दे सकें, लेकिन वे निश्चित रूप से भय की भावना पैदा करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें