scorecardresearch
 

त्रेता युग की संकल्पना पर बनेगी नई अयोध्या की नई आध्यात्मिक इको सिटी

वाल्मीकि रामायण में जिस तरीके की अयोध्या का वर्णन किया गया है कुछ वैसी ही अयोध्या बसाने की योजना योगी सरकार के पास है. त्रेता युग की संकल्पना पर ही नई अयोध्या की नई आध्यात्मिक इको सिटी बनेगी. इसमें कंबोडिया के अंकोरवाट का वास्तुशिल्प होगा और नई टाउनशिप उसी लुक में दिखेगी.

अयोध्या राम मंदिर अयोध्या राम मंदिर

  • अयोध्या को त्रेता युग की तर्ज पर बसाया जाएगा
  • नई अयोध्या में बनेगी नई आध्यात्मिक इको सिटी

उत्तरप्रदेश सरकार ने अयोध्या में सरयू के किनारे करीब अट्ठारह सौ एकड़ जमीन का अधिग्रहण कर लिया है. अब यह पूरा इलाका राम मंदिर की नई टाउनशिप का हिस्सा होगा, जिसमें त्रेता युग की संकल्पना के आधार पर बनी रामनगरी के दर्शन हो सकेंगे. वाल्मीकि रामायण में जिस तरीके के अयोध्या का वर्णन किया गया है कुछ वैसी ही अयोध्या बसाने की योजना योगी सरकार के दिमाग में है.

त्रेता युग की संकल्पना पर ही नई अयोध्या की नई आध्यात्मिक इको सिटी बनेगी. इसमें कंबोडिया के अंकोरवाट का वास्तुशिल्प होगा और इसी लुक में नई टाउनशिप दिखेगी. अयोध्या में मंदिर परिसर और अधिग्रहित भूमि को इक्ष्वाकुपुर का नाम दिया जा सकता है.

मूल रूप से वाल्मीकि रामायण में दिए गए घने जंगलों की तरह ही इनके अरण्य विकसित किए जाएंगे. दंडकारण्य विंध्यारण्य, वेदारण्यम और धमारण्य इन अरण्यों के नाम होंगे जबकि पम्पा और नारायणा नाम की दो झील और सरोवर होंगे.

यह पूरी टाउनशिप गुप्तार घाट से शुरू होकर सरयू के किनारे किनारे राम मंदिर के पीछे से होती हुई अयोध्या-गोंडा हाईवे तक आएगी. इस नए इलाके में साधुओं के लिए आवासीय सुविधा, धार्मिक यात्रियों के लिए मेडिटेशन सेंटर सरकारी गेस्ट हाउस लैंडस्केप सफारी भी बनाए जाएंगे.

नई अयोध्या के प्लान में घने जंगलों के बीच में ऋषि-मुनियों और साधकों के लिए सरयू किनारे आश्रम बनाने की योजना है यह शहर पूरी तरह से वैदिक संस्कृति से भरा होगा जिसमें रामायण स्टडी सेंटर वैदिक कल्चर रिसर्च ध्यान और योग केंद्र और साथ-साथ वेदों और उपनिषदों को सीखने के लिए गुरुकुल भी होंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें