scorecardresearch
 

विनय कटियार बोले- अयोध्या में ढांचा पुलिस ने गिराया था, काशी-मथुरा में भी ऐसा ही होगा

विनय कटियार ने कहा कि आराम से बैठने का तो कोई कारण नहीं है. अयोध्या के बाद हम मथुरा और काशी की ओर बढ़ेंगे. हम तय करेंगे कि कौन सा पहले शुरू किया जाए. हम आरएसएस से बात करेंगे.

भाजपा नेता विनय कटियार भाजपा नेता विनय कटियार

  • अयोध्या में भूमि पूजन में कटियार होंगे शामिल
  • राम मंदिर के लिए लंबा संघर्ष करना पड़ा- कटियार
  • 'काशी और मुथरा के लिए भी अब आगे बढ़ेंगे'

बीजेपी सांसद विनय कटियार ने कहा कि अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण होने जा रहा है. इससे अपार खुशी हो रही है. राम मंदिर आंदोलन के दौरान कई लोगों ने जान गंवाई थी और लंबे संघर्ष के बाद यह दिन आया है. उन्होंने कहा कि भूमि पूजन के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी आ रहे हैं, यह सौभाग्य की बात है. विनय कटियार ने कहा कि कल के भूमि पूजन कार्यक्रम में वह एक राम भक्त होने के नाते शामिल होंगे.

प्रधानमंत्री मोदी के आने के बारे में विनय कटियार से पूछा गया कि वह 1992 में पहली बार अयोध्या आए थे और अब दूसरी बार आ रहे हैं. शायद उन्होंने प्रण किया था कि मंदिर बनेगा तभी वहां आएंगे. इस बारे में मोदी ने आपसे कभी चर्चा की. इस पर विनय कटियार ने साफ साफ कहा कि नहीं उन्होंने मुझे इस बारे में नहीं बताया और ना ही हमने अखबारों में ऐसा कुछ पढ़ा है.

ये भी पढ़ें: LIVE: अयोध्या पहुंचे मोहन भागवत, भूमिपूजन कार्यक्रम में होंगे शामिल

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होने के बाद क्या विनय कटियार आराम से बैठ जाएंगे. इस सवाल के जवाब में विनय कटियार ने कहा कि आराम से बैठने का तो कोई कारण नहीं है. अयोध्या के बाद हम मथुरा और काशी की ओर बढ़ेंगे. हम तय करेंगे कि कौन सा पहले शुरू किया जाए. हम आरएसएस से बात करेंगे.

उन्होंने कहा, ''हमने राम मंदिर आंदोलन के समय धर्म स्थान मुक्ति समिति का गठन किया था. इसमें अशोक सिंघल जी भी थे और कई लोग समिति में थे. समिति ने तभी तय किया था कि अयोध्या, मथुरा काशी में मंदिर निर्माण करना है. अब इसमें अयोध्या को पहले इसलिए चुना गया क्योंकि वहां मस्जिद बना दी गई थी, जो गुलामी का प्रतीक थी." उन्होंने कहा कि 1528 से राम जन्म भूमि के लिए संघर्ष चल रहा था. इस दौरान साढ़े तीन लाख लोगों ने जान गंवाई. उन्होंने सवाल किया कि क्या दुनिया में ऐसा कोई स्थान है जहां अपने आराध्य के लिए इतना लंबा संघर्ष करना पड़ा हो.

विनय कटियार ने आंदोलन के दौरान की कहानी बताई. उन्होंने कहा, ''ढांचा गिरने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव घबरा गए थे. उन्होंने मुझे फोन किया कि ट्रेन लगा दी है, सभी को अयोध्या से निकालो. हमने साफ कह दिया था कि आंदोलन रुकने वाला नहीं है. ढांचा गिरने के बाद अशोक जी ने कहा अब जेल चलो.'' विनय कटियार ने कहा कि अयोध्या में ढांचा पुलिस ने गिराया था. शायद काशी मथुरा में भी कुछ ऐसा ही होगा.

ये भी पढ़ें: 5100 कलश-रामधुन में मग्न अयोध्या, ग्राउंड पर देखिए कैसी चल रही भूमिपूजन की तैयारी

उन्होंने कहा कि काशी में पीछे जो मजार बना दिया है, वह नहीं करना चाहिए. हमें तो मूर्ति का मार्ग प्रशस्त करना है. मजार को हटाना है. इसके लिए हमें साधु संतों को साथ लेकर आंदोलन करना है. बाबा विश्वानाथ और मथुरा को मुक्त कराना है.

जब विनय कटियार से पूछा गया कि ढांचा गिरने से पहले 5 दिसंबर को आपके घर मीटिंग हुई थी. इस बात से उन्होंने साफ इनकार किया और कहा कि यह बकवास है. उन्होंने कहा कि आडवाणी और जोशी जी ने मेरे घर जलपान किया था. आज शायद स्वास्थ्य कारणों से वे भूमि पूजन के लिए अयोध्या नहीं आ रहे हैं. बीजेपी में आपको कोई बड़ा पद नहीं मिला. इस सवाल के जवाब में कटियार ने कहा कि मुझे संगठन में सब पद मिले हैं. मैं कई बार सांसद रहा. मुझे पार्टी जो आदेश देगी वह करूंगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें