scorecardresearch
 

जीत के बाद आभार जताने आजमगढ़ पहुंचे अखिलेश, गठबंधन पर साधी चुप्पी

आजमगढ़ में वोटरों को धन्यवाद देने पहुंचे अखिलेश यादव ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने लोकसभा चुनाव में गठबंधन की हार पर कहा कि हम लड़ाई हारे क्योंकि लोगों का ध्यान हटाने की ताकत सिर्फ भारतीय जनता पार्टी के पास है, हमारे पास नहीं है.

फाइल फोटो- अखिलेश यादव फाइल फोटो- अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के मुखिया और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सोमवार को आजमगढ़ में रहे. लोकसभा चुनाव में इस संसदीय सीट से जीत हासिल करने के बाद उन्होंने जनता का आभार जताया. जनता को धन्यवाद देने के लिए आयोजित एक रैली को भी उन्होंने संबोधित किया.

अखिलेश यादव ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि ये जो समाजवादी भरोसा है, उसको मैं टूटने नही दूंगा. मुझे जिताने के लिये आपका धन्यवाद.

अखिलेश यादव ने कहा कि उनका रिश्ता आजमगढ़ से कभी खत्म नहीं होगा. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी का विकास भारतीय जनता पार्टी के विकास से बहुत ज्यादा है.

उन्होंने कहा, 'हमने जब आजमगढ से जीत का प्रमाणपत्र लिया तो घर में दिखाया नहीं क्योंकि कुछ लोग नाराज हो जाते. इसलिए वो प्रमाणपत्र मैं यहां लेकर आया. जब तक जनता को नहीं दिखाऊंगा, तब तक किसी को नही दिखाऊंगा.'

इस रैली में अखिलेश यादव ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'हम लडाई हारे क्योंकि लोगों का ध्यान हटाने की ताकत सिर्फ भारतीय जनता पार्टी के पास है, हमारे पास नहीं है.'

सपा प्रमुख ने कहा कि हमें अब बड़ा सपना देखना पड़ेगा. 22 और 24 का बड़ा सपना देखना पड़ेगा क्योंकि सत्ता में बैठे लोग हमें सपना नहीं देखने देंगे.

अखिलेश यादव ने कहा कि इस सरकार में कर्ज बढ़ता जा रहा है. कर्ज बढ़कर 70 लाख करोड़ रुपये हो गया. 45 साल में पहली बार बेरोजगारी इतनी बढ़ी है.'

इस रैली में अखिलेश यादव ने बसपा प्रमुख मायावती के बयान पर कुछ नहीं कहा. पूरे भाषण में ऐसा लगा कि वे मायावती की प्रेस कॉन्फ्रेंस से बेखबर रहे.

बता दें यूपी नेताओं के साथ लोकसभा चुनाव के नतीजों की समीक्षा करते हुए बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने बड़ा बयान दिया है. मायावती ने कहा है कि गठबंधन से चुनाव में अपेक्षित परिणाम नहीं मिले हैं. उन्होंने दावा किया कि यादव वोट ट्रांसफर नहीं हो पाया है.

लिहाजा, अब गठबंधन की समीक्षा की जाएगी. इतना ही नहीं मायावती ने यहां तक कह दिया कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव अपनी पत्नी और भाई को भी चुनाव नहीं जिता पाए हैं. सूत्रों के मुताबिक, मायावती के इस रुख के बाद सपा-बसपा गठबंधन टूट की कगार पर नजर आ रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें