scorecardresearch
 

‘मुस्लिम से नहीं चाहिए फूड डिलीवरी’, कस्टमर की अजीब रिक्वेस्ट, सोशल मीडिया पर छिड़ा विवाद

तेलंगाना की एक अजीबो-गरीब खबर वायरल हो रही है. यहां एक कस्टमर ने फूड डिलीवरी पर ऐप पर ऑर्डर के साथ स्पेशल कमेंट में लिखा है- मुस्लिम व्यक्ति के हाथ से डिलीवरी ना भेजें. इसे लेकर लोगों की प्रतिक्रिया सामने आ रही है. वहीं कांग्रेस के नेता कार्ति पी. चिदंबरम ने भी इसे लेकर ट्वीट किया है.

X
सांकेतिक तस्वीर (Photo : Getty)
सांकेतिक तस्वीर (Photo : Getty)

घर पर खाना मंगाने के लिए हम फूड डिलीवरी ऐप्स का खूब इस्तेमाल करते हैं. कई बार स्पेशल इंस्ट्रक्शन देने के लिए नीचे कमेंट भी लिखते हैं, लेकिन तेलंगाना में एक अनोखा मामला देखने को मिला है, जहां एक कस्टमर ने अपने ऑर्डर के साथ कंपनी से रिक्वेस्ट की ‘मुस्लिम व्यक्ति के हाथ से ना भेजें खाना’.कस्टमर की इस रिक्वेस्ट का एक फोटो वायरल हो रहा है, जिसे लेकर जहां खूब विरोध हो रहा है, वहीं कार्ति पी. चिदंबरम ने भी इसे लेकर ट्वीट किया है.

घटना तेलंगाना के हैदराबाद की है, जहां एक कस्टमर ने 29 अगस्त को दोपहर 12 बजे के दौरान एक फूड डिलीवरी कंपनी से खाना ऑर्डर किया. इस ऑर्डर में उसके महादेवपुरी के घर से 3 किमी की दूरी से खाना ऑर्डर किया. इसी ऑर्डर के स्पेशल इंस्ट्रक्शन में कस्टमर ने लिखा- Don't want a Muslim delivery person.

कस्टमर की इसी रिक्वेस्ट का फोटो वायरल हो रहा है और लोग इसे लेकर सोशल मीडिया पर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रया दे रहे हैं.

इसे लेकर तेलंगाना में ऐप और गिग वर्कर्स के एक संगठन के प्रमुख शाइक सलाउद्दीन ने ट्वीट किया और संबंधित कंपनी से कार्रवाई की मांग की. इसी ट्वीट पर कांग्रेस के नेता और शिवगंगा से सांसद कार्ति पी. चिंदबरम ने भी अपनी बात रखी.

उन्होंने लिखा- प्लेटफॉर्म कंपनियां इस मामले में चुपचाप नहीं बैठ सकती. वो धर्म के नाम पर गिग वर्कर्स के साथ हो रही इस तरह की धर्मांधता को देखती नहीं रह सकती, उन्हें देखना होगा कि गिग वर्कर्स को क्या-क्या झेलना होता है. गिग वर्कर्स के अधिकारों की सुरक्षा के लिए ये कंपनियां किस तरह का कदम उठाएंगी?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें