scorecardresearch
 

दुश्‍मनों को सबक सिखाने के लिए साथ आया अमेरिका, जानें अब हमारे किस दोस्त से जल रहा पाकिस्तान

अमेरिकी सीनेट ने भारत के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाने से संबंधित एक विधेयक को भारी बहुमत से मंजूरी दे दी है. ऐसे में ये कदम भारत और अमेरिका के दुश्मनों पर भारी पड़ सकता है.

अमेरिकी सीनेट ने भारत के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाने से संबंधित एक विधेयक को भारी बहुमत से मंजूरी दे दी है. ऐसे में ये कदम भारत और अमेरिका के दुश्मनों पर भारी पड़ सकता है. दरअसल, दोनों शक्तियों के सैन्य सहयोग से विरोधियों की नींदें उड़ गई हैं और क्यों न हो उन्हें सबक सिखाने के लिए ही तो भारत-अमेरिका के बीच ये करार हुआ है. साथ ही जानें कि पाकिस्तान की आंखों में अब क्यों खटकने लगा अफगानिस्तान. जानिए इससे जुड़ी बातें जो साझा की पूर्व अफगान राष्ट्रपति हामिद करजई ने...

1. अमेरिकी सीनेट ने खतरे का विश्लेषण, सैन्य सिद्धांत, सुरक्षा बलों की योजना, साजो-सामान संबंधी सहयोग और खुफिया सूचना संग्रह तथा विश्लेषण के मकसद से भारत के साथ सैन्य सहयोग बढ़ाने के एक कदम को स्वीकृति प्रदान की है.

2. राष्ट्रीय रक्षा प्राधिकरण अधिनियम (एनडीएए:-2017) के तहत भारत के साथ सैन्य आदान-प्रदान को स्वीकृति देना नामक शीर्षक के संशोधन पर सीनेट में ध्वनिमत से सहमति जताई गई है. इस सप्ताह की शुरुआत में सीनेट ने एनडीएए को 13 के मुकाबले 85 मतों से पारित किया था.

पढ़े: मोदी-ओबामा की दोस्ती से बौखलाया आतंकी हाफिज सईद

3. पारित सीनेट विधेयक में रक्षा मंत्री से कहा गया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि भारत-अमेरिका सहयोग इतने उचित स्तर पर हो कि विश्लेषण, सैन्य सिद्धांत, सुरक्षा बलों की योजना, साजो-सामान संबंधी सहयोग और खुफिया सूचना संग्रह तथा विश्लेषण, तरकीबों, तकनीकों एवं प्रक्रियाओं और मानवीय सहयोग एवं आपदा राहत के लिए दोनों देशों की सेना के बीच संपर्क को बढ़ाया जा सके.

4. दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग बढ़ाने और साझा सैन्य अभियानों में संपर्क को प्रोत्साहित करने के लिए पारित विधेयक में कहा गया है कि रक्षा मंत्री को यह सुनिश्चित करने के लिए उचित कदम उठाना चाहिए कि भारत और अमेरिका की सरकारों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों एवं वरिष्ठ असैन्य रक्षा अधिकारियों के बीच संपर्क सुनिश्चित हो सके.

5. सीनेट में पारित विधेयक में अमेरिकी रक्षा मंत्री से कहा गया है कि वह हिंद-एशिया-प्रशांत क्षेत्र समुद्री सुरक्षा, समुद्री लूट विरोधी अभियान, आतंकवाद विरोधी लड़ाई में सहयोग सहित साझा सैन्य अभियानों में बढ़ोतरी सुनिश्चित करें.

अफगानिस्‍तान से न दोस्‍ती हो न व्‍यापार

1. पाकिस्‍तान नहीं चाहता है कि अफगानिस्‍तान और भारत के बीच संबंध बेहतर हों.

2. पाकिस्‍तान चाहता है कि भारत की मध्‍य एशिया तक पहुंच न हो.

पढ़िए: भारत को फर्स्ट टाइम 'सॉलिड यार' मिला अमेरिका

3. वह दोनों देशों के बीच किसी तरह के बिजनेस को भी नहीं होने देना चाहता.

4. हम चाहते हैं कि पाकिस्‍तान भी हमारा दोस्‍त बने लेकिन वह इस बात पर कायम है कि पहले हम भारत से दुश्‍मनी कर लें.

5. आतंकवाद को आश्रय पाकिस्‍तान ही दे रहा है. यही नहीं इसे वहां से वित्‍तीय मदद भी दी जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें