scorecardresearch
 

सुशील मोदी का तेजस्वी पर तंज, जो कभी कॉलेज नहीं गए वो JNU पर दे रहे बयान

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि जेएनयू में फीस वृद्धि कोई इतना बड़ा मुद्दा नहीं कि इसके लिए संसद मार्च निकाला जाए.

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो, सोर्स- Facebook) बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो, सोर्स- Facebook)

  • सुशील मोदी ने जेएनयू विवाद पर दिया बयान
  • कहा- फीस वृद्धि बड़ा मुद्दा नहीं जो निकाला जाए मार्च
  • तेजस्वी पर भी सुशील मोदी ने कसा तंज

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि जेएनयू में फीस वृद्धि कोई इतना बड़ा मुद्दा नहीं कि इसके लिए संसद मार्च निकाला जाए. साथ ही उन्होंने राजद नेता तेजस्वी यादव पर तंज कसते हुए कहा कि आश्चर्य है कि राजद के जिन कर्णधारों ने कालेज- विश्वविद्यालय का मुंह नहीं देखा, वे भी जेएनयू पर बयान दे रहे हैं.

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, 'हकीकत यह है कि जो शहरी नक्सली इस कैम्पस में बीफ पार्टी, पब्लिंक किसिंग, महिषासुर महिमामंडन, स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा का मानभंजन और देश के टुकड़े-टुकड़े करने के नारे लगाने जैसी गतिविधियों में संलिप्त रहे, वे अब गरीब परिवारों के छात्रों को गुमराह कर राजनीतिक रोटी सेंकना चाहते हैं.'

दरअसल तेजस्वी यादव जेएनयू मुद्दे पर लगातार मुखर हैं. उन्होंने कहा कि अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के तहत फ़ीस बढ़ोतरी का विरोध कर रहे जेएनयू छात्रों पर दिल्ली पुलिस द्वारा किए गए बर्बर व्यवहार व प्रताड़ना का हम विरोध करते हैं. हम इस लड़ाई में सभी छात्र संगठनों के साथ खड़े हैं.

बता दें मंगलवार को JNU छात्र संघ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और सीधे तौर पर सरकार को चैलेंज किया कि वह झुकने वाले नहीं हैं. छात्रों ने ऐलान किया कि जबतक सरकार की ओर से बढ़ाई गई हॉस्टल फीस पूरी तरह से वापस नहीं होती है, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा. JNUSU की अध्यक्ष आइशी घोष ने ऐलान किया कि अगर बार-बार संसद घेरने की जरूरत हुई तो वो भी करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें