scorecardresearch
 

आरक्षण पर भागवत के बयान पर बवाल, कांग्रेस बोली- ये अधिकारों पर हमला

सुरजेवाला ने कहा कि गरीबों के आरक्षण को खत्म करने के षड्यंत्र और संविधान बदलने की अगली नीति बेनकाब हो गई है.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला की फाइल फोटो कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला की फाइल फोटो

आरक्षण को लेकर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत के बयान के बाद सियासी संग्राम छिड़ गया है. कांग्रेस ने आरएसएस और बीजेपी पर दलित-पिछड़ा विरोधी होने का आरोप लगाया.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि गरीबों के आरक्षण को खत्म करने के षड्यंत्र व संविधान बदलने की अगली नीति बेनकाब हो गई है. गरीबों के अधिकारों पर हमला, संविधान सम्मत अधिकारों को कुचलना, दलितों-पिछड़ों के अधिकार छिनना, यही असली भाजपाई एजेंडा है.

इससे पहले एक बड़े घटनाक्रम के तहत कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और हरियाणा के दो बार मुख्यमंत्री रह चुके भूपिंदर सिंह हुड्डा ने मोदी की सरकार ओर से संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के कदम का समर्थन किया. हुड्डा ने अपने गृहनगर में एक महापरिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए कहा कि वह देशभक्ति के मुद्दे पर किसी के साथ समझौता नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, "यदि सरकार कुछ अच्छा करती है, तो मैं उसका समर्थन करता हूं."

उन्होंने राज्य में पार्टी का भविष्य तय करने के लिए एक 25 सदस्यीय समिति भी घोषित की, जिसमें उनसे करीबी रखने वाले 13 विधायक शामिल हैं. उन्होंने कहा, "चूंकि यह मुद्दा (कांग्रेस में रहने या न रहने) लोगों के भविष्य से जुड़ा है, लिहाजा मैं अकेले निर्णय नहीं ले सकता."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें