scorecardresearch
 

तलाक की लड़ाई लड़ रही महिलाओं ने भागवत के बयान को किया खारिज, कहा- लड़के राजा नहीं

एक महिला ने कहा कि तलाक किसी भी लड़की के लिए हैरेसमेंट होता है. सास-ससुर टॉर्चर करते हैं. ससुराल वाले सैलरी का कुछ हिस्सा मांगते हैं. प्रेग्नेंट लड़की को काम के लिए फोर्स किया जाता है.

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (फाइल फोटो) आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (फाइल फोटो)

  • तलाक की लड़ाई लड़ रही महिलाओं ने भागवत के बयान को किया खारिज
  • तलाक किसी भी लड़की के लिए हैरेसमेंट, लड़के को राजा की तरह नहीं ट्रीट कर सकते

तलाक की लड़ाई लड़ रही महिलाओं ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान को खारिज किया है. महिलाओं का कहना है कि तलाक किसी भी लड़की के लिए हैरेसमेंट है, लड़के को राजा की तरह नहीं ट्रीट किया जा सकता. अहमदाबाद में मोहन भागवत ने बयान दिया था कि शिक्षा और संपन्नता के कारण तलाक के मामले बढ़े हैं.

अपर्णा नाम की महिला ने कहा कि मैं इससे बिल्कुल भी सहमत नहीं हूं. हर लड़की अपना घर बसाने जाती है. तोड़ने नहीं जाती है. हालात ऐसे बन जाते हैं. 2005 में मेरी शादी हुई थी. बाहर पढ़ने के लिए मेरे पिता ने 22 लाख रूपए दिए. पति ने जब मुझे छोड़ा तो मेरी बेटी 11 महीने की थी जो अब 12 साल की हो गई है. अब रिटायर्ड पिता के पास रहती हूं. पति तलाक चाहता है, लेकिन मैं घर तोड़ना नहीं जोड़ना चाहती हूं.

तलाक किसी भी लड़की के लिए हैरेसमेंट होता है. सास-ससुर टॉर्चर करते हैं. ससुराल वाले सैलरी का कुछ हिस्सा मांगते हैं. प्रेग्नेंट लड़की को काम के लिए फोर्स किया जाता है.

SC के वकील ने क्या कहा

वहीं, सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील महेश तिवारी ने कहा कि दिल्ली के हर जिला अदालतों में 4 से 6 मैट्रिमोनियल कोर्ट हैं जहां केसेज ओवरफ्लो हैं. जिला अदालत में करीब 50 से ज्यादा मामले चल रहे हैं. दिल्ली, चंडीगढ़ जैसे शहरों में तलाक के मामले बढ़ रहे हैं.

ये भी पढ़ें- मोहन भागवत पर भड़कीं सोनम कपूर, तलाक पर दिए बयान को बताया मूर्खतापूर्ण

उन्होंने कहा कि पहले ऐज ग्रुप होता था. मैरिज के 1 साल के अंदर कनफ्लिक्ट होता था और तलाक के लिए आते थे. अब तो जिनके बच्चे सेटल हैं वो भी तलाक लेने आ रहे हैं.

ये भी पढ़ें- भागवत के बयान पर कबीर खान की पत्नी का तंज- सब अनपढ़ ही रहो, तलाक तो नहीं होगा

दिल्ली के मालवीय नगर स्थित स्पेशल पुलिस यूनिट फॉर वुमन एंड चिल्ड्रन की डीसीपी गीता रानी वर्मा ने कहा कि सेक्सुअल इंकपैटिबिल्टी, मिसअंडरस्टैंडिग तलाक की वजह बन जाते हैं. जो भी शिकायत लेकर हमारे पास आता है हम उनकी पहले काउंसलिंग करते हैं. बात नही बनने पर मुकदमा किया जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें