scorecardresearch
 

भारत छोड़ो आंदोलन के 78 साल, राहुल बोले- करो या मरो के नारे को देने होंगे नए मायने

अंग्रेजों को भारत से बाहर करने के लिए महात्मा गांधी ने कई आंदोलनों का नेतृत्व किया था. इन्हीं में से एक भारत छोड़ो आंदोलन भी था. इसकी शुरुआत महात्मा गांधी ने 8 अगस्त 1942 को की थी.

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (फाइल फोटो- पीटीआई) कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (फाइल फोटो- पीटीआई)

  • भारत छोड़ो आंदोलन को हुए 78 साल
  • महात्मा गांधी ने दिया था करो या मरो का नारा

महात्मा गांधी के जरिए शुरू किए गए भारत छोड़ो आंदोलन को 78 साल हो चुके हैं. 8 अगस्त 1942 को महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत की थी. वहीं अब इस पर राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि गांधीजी के करो या मरो के नारे को नए मायने देने होंगे.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी ने बताया मूड ऑफ द नेशन, कहा- डर और असुरक्षा ऑल टाइम हाई

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा, 'भारत छोड़ो आंदोलन की 78वीं वर्षगांठ पर गांधीजी के ‘करो या मरो’ के नारे को नए मायने देने होंगे. अन्याय के खिलाफ लड़ो, डरो मत!’ अपने ट्वीट के साथ राहुल गांधी ने एक ऐतिहासिक तस्वीर भी ट्वीट की है. इस ट्वीट में महात्मा गांधी एक बड़ी जनसभा को संबोधित करते हुए दिखाई दे रहे हैं.

बता दें कि अंग्रेजों को भारत से बाहर करने के लिए महात्मा गांधी ने कई आंदलनों का नेतृत्व किया था. इन्हीं में से एक भारत छोड़ो आंदोलन भी था. इसकी शुरुआत महात्मा गांधी ने 8 अगस्त 1942 को की थी. महात्मा गांधी ने इसी जनसभा में 'करो या मरो' का नारा दिया था.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस और चीन के बीच समझौता, बीजेपी बोली- तथ्यों को छिपा रही मां-बेटे की जोड़ी

वहीं राहुल गांधी लगातार मोदी सरकार पर निशाना साधते रहे हैं. हाल ही में राहुल गांधी ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के जरिए जारी किए गए आंकड़ों के ग्राफ को ट्वीट करते हुए देश का मिजाज बताया था. राहुल गांधी ने कहा था कि लोगों का कॉन्फिडेंस ऑल टाइम लो पर है. डर और असुरक्षा ऑल टाइम हाई पर है. अर्थव्यवस्था और नौकरियों के मोर्चे पर और बुरी खबरें आने की आशंका है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें