scorecardresearch
 

देश का मिजाजः अयोध्या में विवादित स्थान पर मंदिर बनाने के पक्ष में 61% लोग सहमत

आजतक ने कार्वी इंसाइट्स के साथ मिलकर देश का मिजाज जानने की कोशिश की. सर्वे में राम मंदिर के मुद्दे पर 61 फीसदी लोगों ने कहा कि मंदिर विवादित स्थान पर ही बनना चाहिए. जबकि 32 फीसदी लोग इससे सहमत नहीं दिखे, यानी देश में करीब एक तिहाई लोग मानते हैं कि राम मंदिर कहीं और बनना चाहिए.

राम मंदिर मामले पर सुप्रीम कोर्ट में हफ्ते में 5 दिन हो रही है सुनवाई (Photo: File) राम मंदिर मामले पर सुप्रीम कोर्ट में हफ्ते में 5 दिन हो रही है सुनवाई (Photo: File)

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मामले पर 6 अगस्त से सुनवाई चल रही है और अदालत ने हफ्ते में 5 दिन इस पर सुनवाई करने का फैसला लिया है. इस बीच 'आजतक' ने 'कार्वी इंसाइट्स' के साथ मिलकर 'देश का मिजाज' जानने की कोशिश की. सर्वे में लोगों से पूछा गया कि क्या आपको लगता है कि विवादित स्थान पर ही अयोध्या में राम मंदिर बनना चाहिए?

इस बड़े सर्वे में 61 फीसदी लोगों ने कहा कि राम मंदिर विवादित स्थान पर ही बनना चाहिए. जबकि 32 फीसदी लोग इससे सहमत नहीं दिखे, यानी देश में करीब एक तिहाई लोग मानते हैं कि राम मंदिर कहीं और बनना चाहिए. वहीं 7 फीसदी लोगों ने सर्वे में कहा कि नहीं पता है या बता नहीं सकते.

temple_081419103850.jpg

अल्पसंख्यकों को लेकर सर्वे में सवाल

वहीं सर्वे में लोगों से पूछा गया कि क्या 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से अल्पसंख्यकों जैसे मुसलमान और ईसाइयों की हालत में सुधार हुआ है? आजतक के इस सर्वे में 49 फीसद लोगों ने माना कि अल्पसंख्यकों की हालत सुधरी है. जबकि 33 फीसदी लोगों ने कहा कि अल्पसंख्यकों की हालत जस की तस है. देश में 11 फीसद लोग ऐसे भी हैं जो मानते हैं कि अल्पसंख्यकों की हालत और खराब हुई है.

जबकि चुनाव से पहले जनवरी-2019 में हुए सर्वे में 34 फीसदी लोगों का कहना था कि अल्पसंख्यकों की हालत सुधरी है. जबकि उस समय जस की तस स्थिति बताने वालों की तादाद 43 फीसदी थी. जनवरी-2019 में 13 फीसदी लोग मानते थे कि देश में अल्पसंख्यकों की स्थिति और खराब हुई है.

19 राज्यों में सर्वे

आजतक और कार्वी इनसाइट्स ने इस सर्वे में 12,126 लोगों को शामिल किया. जिसमें 67 फीसदी ग्रामीण और 33 फीसदी शहरी लोग शामिल थे. इस सर्वे में देश के 19 राज्यों के 97 संसदीय क्षेत्रों और 194 विधानसभा क्षेत्रों को शामिल किया गया. उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, असम, मध्य प्रदेश, बिहार, गुजरात, महाराष्ट्र, राजधानी दिल्ली और पश्चिम बंगाल में यह सर्वे कराया गया. यह सर्वे जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के पहले हुआ था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें