scorecardresearch
 

कर्नाटक: बागी MLAs का पूर्व JDS-कांग्रेस सरकार पर जासूसी का आरोप, जांच की मांग

पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने अपने ट्वीट के जरिए कहा,फोन टैपिंग के बारे में मुझे नहीं पता है. उन्हें जांच करने दीजिए और एक्शन लेने दीजिए. फोन टैपिंग गंभीर मामला है. इसकी जांच होनी चाहिए और अगर आरोप साबित हो जाए तो संबंधित लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी (IANS) कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी (IANS)

कर्नाटक में कुछ कांग्रेस नेताओं ने पूर्व की कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार पर लगे फोन टैपिंग के आरोपों की जांच की मांग उठाई है. एचडी कुमारस्वामी की गठबंधन सरकार का हिस्सा रहे नेताओं ने यह मांग की है. पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने इन आरोपों को खारिज किया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, "मैंने सबसे पहले कहा था कि मुख्यमंत्री का पद स्थाई नहीं होता. मुझे सत्ता में रहने के लिए फोन टैप कराने की कोई जरूरत नहीं थी. मेरे खिलाफ लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं."

वहीं इस मामले को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने अपने ट्वीट के जरिए कहा, "फोन टैपिंग के बारे में मुझे नहीं पता है. उन्हें जांच करने दीजिए और एक्शन लेने दीजिए. फोन टैपिंग गंभीर मामला है. इसकी जांच होनी चाहिए और अगर आरोप साबित हो जाए तो संबंधित लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए." बता दें बुधवार को एएच विश्वनाथ ने पूर्व की जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार पर 300 से ज्यादा नेताओं के फोन टैपिंग और जासूसी करने के आरोप लगाए थे.  

एएच विश्वनाथ JDS नेता हैं. वह पूर्व की गठबंधन सरकार का हिस्सा रहे थे और बगावत करने के बाद उन्हें विधानसभा से अयोग्य घोषित कर दिया गया था. मामला बढ़ता देख मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने बुधवार को कहा, "मैं इस मामले की मुख्य सचिव से चर्चा करूंगा और उसके बाद ही कोई कदम उठाउंगा." वहीं कई बीजेपी नेताओं ने इस मामले को लेकर कुमारस्वामी पर सीधे आरोप लगाए हैं.

राज्य के मुख्यमंत्री रहे और बीजेपी नेता जगदीश शेट्टर ने कहा, "अगर कुमारस्वामी के समय में टेपिंग हुई है तो आप समझ सकते हैं कि वह कितने सच्चे नेता हैं. अपनी कुर्सी बचाने के लिए वह विरोधियों समेत अपनी ही पार्टी नेताओं के भी फोन टैप करा सकते हैं. इसके पीछे जो भी कोई है उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए."

गुरुवार को विश्वनाथ ने बिना कुमारस्वामी का नाम लिए आरोप लगाया कि उस समय के मुख्यमंत्री की जानकारी के बिना फोन टैपिंग हो ही नहीं सकती है. वहीं कुमारस्वामी सरकार में गृहमंत्री रहे एमबी पाटिल ने कहा कि उन्हें मामले की जानकारी मीडिया में आई खबरों के जरिए मिली और इस मामले की जांच करना जरूरी है. अगर यह सच है तो अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए.

वहीं मामले को लेकर एचडी देवगौड़ा ने कहा, "मैं ऐसे मुद्दों पर काफी कुछ कह सकता हूं. राज्य में जो हो रहा है, केंद्र में जो हो रहा है, यहां जो हो रहा है, पिछली सरकारों में जो हुआ, मैं इन सब पर चर्चा कर सकता हूं." बीजेपी पर हमला बोलते हुए उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी के पास कोई काम नहीं है. उन्होंने जो किया है सब जानते हैं. उन्हें इस बात की कोई शर्म है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें