scorecardresearch
 

कश्मीर में अब लश्कर के 80 खूंखार आतंकियों से ख़तरा, IED मास्टरमाइंड अबू बकर कर सकता है हमला

सूत्र बताते हैं कि हाफिज सईद का बेटा ताल्हा सईद 'बोई ट्रेनिंग कैंप' में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की मदद से कई बार दौरा कर चुका है. यही नहीं, इस बोई में करीब 45 आतंकी अलग-अलग कैंप में पाकिस्तान की स्पेशल सर्विस ग्रुप से ट्रेनिंग ले रहे हैं.

सांकेतिक तस्वीर (फोटो- AajTak) सांकेतिक तस्वीर (फोटो- AajTak)

जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला करने वाले मास्टरमाइंड कामरान और गाजी रशीद को भले ही सुरक्षा बलों ने 18 घंटे तक चले बड़े ऑपरेशन के बाद मार गिराया हो पर आज भी जम्मू कश्मीर के साउथ कश्मीर में खतरा टला नहीं है. खुफिया एजेंसियों के सूत्रों ने आजतक को जानकारी दी है, कि जम्मू कश्मीर में अब भी अलग-अलग तंजीम के 298 आतंकवादी मौजूद हैं.

सूत्रों ने आजतक को जानकारी दी है कि कश्मीर घाटी में इस समय सबसे ज्यादा लश्कर के 80 पाकिस्तानी आतंकी और 55 स्थानीय आतंकी मौजूद हैं. इसके अलावा जैश-ए-मोहम्मद के 22 पाकिस्तानी आतंकी और 19 स्थानीय आतंकी कश्मीर में आज भी सक्रिय हैं.

सूत्रों ने यह दावा किया है कि इस समय पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई हिज्बुल मुजाहिदीन के विदेशी और स्थानीय आतंकवादियों पर ऑपरेशन के लिए भरोसा नहीं कर रही है. हालांकि हिज्बुल के स्थानीय आतंकियों की संख्या कश्मीर में 102 है जो सबसे ज्यादा है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियां लगातार इस बात पर माथापच्ची कर रही हैं कि इन आतंकवादियों का खात्मा कैसे किया जाए.

हालांकि इस साल सुरक्षाबलों ने कश्मीर घाटी में अब तक 30 से ज्यादा आतंकवादियों को ढेर कर दिया है. सुरक्षा बल इस बात को लेकर काफी चिंतित हैं कि आतंकी अब हमले करने के पुराने ट्रेंड से हटकर फिदायीन हमला और आत्मघाती हमला करने की ट्रेनिंग आईएसआई और पाक आर्मी से ले रहे हैं. सूत्रों ने यह दावा किया है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और उसकी आर्मी जैश-ए- मोहम्मद के आतंकवादियों को पाक अधिकृत कश्मीर के तेजिन आतंकी ट्रेनिंग कैंप में फिदायीन हमले करने के ट्रेनिंग दिला रहा है.

सूत्रों ने यह दावा किया है कि जैश के आतंकवादियों को पाकिस्तान जहां पर ट्रेनिंग दे रहा है वह ट्रेनिंग कैंप पहले पाकिस्तान की सेना इस्तेमाल करती थी. अब पाकिस्तान की सेना ने यह कैंप जैश- ए-मोहम्मद के आतंकवादियों को ट्रेनिंग के लिए दे दिया है. उधर सुरक्षा एजेंसियों ने यह भी जानकारी दी है कि लश्कर का मास्टरमाइंड हाफिज सईद भी पाक अधिकृत कश्मीर के "बोई" ट्रेनिंग कैंप में आतंकवादियों को बड़े स्तर पर ट्रेनिंग दिलवा रहा है.

सूत्र बताते हैं कि इसके लिए हाफिज सईद का बेटा ताल्हा सईद 'बोई ट्रेनिंग कैंप' में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की मदद से कई बार दौरा कर चुका है. यही नहीं, इस बोई में करीब 45 आतंकी अलग-अलग कैंप में पाकिस्तान की स्पेशल सर्विस ग्रुप से ट्रेनिंग ले रहे हैं.

क्यों JeM सुरक्षा बलों को निशाना बनाने की फ़िराक में रहता है ?

जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों ने ऑपरेशन ऑल ऑउट के तहत पिछले साल 244 और इस साल 30 आतंकियों को ढेर किया है. जिसमें जैश-ए-मोहम्मद के लोकल और विदेशी आतंकी मारे गए हैं. सुरक्षा सूत्रों ने जानकारी दी है कि जैश के आतंकियों को सुरक्षा बलों ने भारी संख्या में ढेर किया है. मारे गए जैश के आतंकियों में विदेशी यानी पाकिस्तानी सबसे ज्यादा हैं. आजतक के पास जैश-ए-मोहम्मद के कश्मीर घाटी में मारे गए पाकिस्तानी आतंकवादियों की पूरी लिस्ट मौजूद है, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण नाम है, छोटू उर्फ कारी मुस्ताक, मोहम्मद आदिल उर्फ मोहम्मद भाई, राशिद भाई उर्फ खालिद खान, उमर खालिद, यासिर, अशफाक अहमद खान उर्फ हरीश खान आबिद मकबूल भट्ट उर्फ उमर भाई, ये सब पाकिस्तान से आए हुए आतंकी हैं जिनका खात्मा इस साल सुरक्षा बलों ने किया है.

जैश के आतंकियों को इस तरीके से ऑपरेशन में मारे जाने के चलते जैश के आतंकी चुपचाप ओवर ग्राउंड वर्कर की मदद से आईईडी प्लांट कर सुरक्षा बलों को भारी नुकसान पहुंचाने की फ़िराक में थे. यही वजह रही है कि आतंकियों ने आत्मघाती हमला कर 40 जवानों को शहीद कर बड़ा नुकसान पहुंचाया है. सूत्रों ने आजतक को जानकारी दी है कि आने वाले दिनों में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी जिसमें आईईडी मास्टरमाइंड "अबू बकर" का नाम सामने आ रहा है वह बड़े हमले कर सकता है. खुफिया एजेंसियों ने इस बात को लेकर सभी सुरक्षा बलों को एक अलर्ट भी हाल ही में जारी कर दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें