scorecardresearch
 

कांग्रेस का आरोप, चिदंबरम के खिलाफ चलाया गया चरित्र हरण का अभियान

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को लेकर कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए कहा है कि चिदंबरम के खिलाफ लगातार चरित्र हरण का अभियान चलाया गया है. कांग्रेस का कहना है कि इस अभियान में एक भी तथ्य सामने नहीं रखा गया है. प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम के खिलाफ लगातार अभियान चलाया गया है.

कांग्रेस नेता जयराम रमेश (Courtesy- Twitter) कांग्रेस नेता जयराम रमेश (Courtesy- Twitter)

  • पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी चिदंबरम 5 सितंबर से दिल्ली की तिहाड़ जेल में हैं बंद
  • अदालत ने फिर से चिदंबरम को 3 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को लेकर कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए कहा है कि चिदंबरम के खिलाफ लगातार चरित्र हरण का अभियान चलाया गया है. कांग्रेस का कहना है कि इस अभियान में एक भी तथ्य सामने नहीं रखा गया है. प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम के खिलाफ लगातार अभियान चलाया गया है.

इससे पहले गुरुवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता पी. चिदंबरम की न्यायिक हिरासत तीन अक्टूबर तक बढ़ा दी थी. इससे पहले चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया मामले में अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा था. चिदंबरम पांच सितंबर से दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं. उनको हिरासत पूरी होने के बाद गुरुवार को अदालत में लाया गया था.

गुरुवार को कोर्ट में सीनियर एडवोकेट अभिषेक मनु सिंघवी ने चिदंबरम का पक्ष रखा था. इस दौरान उन्होंने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत बढ़ाने की मांग वाली सीबीआई की याचिका का विरोध किया था. सिंघवी ने कहा था, 'न्यायिक हिरासत को बढ़ाने की मांग वाली सीबीआई की याचिका में इस बात को साफ नहीं किया गया कि इसे बढ़ाए जाने की जरूरत क्यों है, जबकि चिदंबरम पहले से ही 14 दिनों की न्यायिक हिरासत पूरी कर चुके हैं.

आपको बता दें कि सीबीआई और ईडी चिदंबरम के खिलाफ आईएनएक्स मीडिया मामले में जांच कर रही हैं. चिदंबरम पर आरोप है कि उन्होंने केंद्रीय वित्तमंत्री रहते हुए कथित अनियमितताओं के बावजूद एफआईपीबी द्वारा आईएनएक्स मीडिया को 2007 में 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए मंजूरी दिलाई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें