scorecardresearch
 

NRC और नागरिकता बिल पर बोले बालकृष्ण- न किसी को टारगेट करें और न प्रोटेक्ट

इंडिया टुडे ग्रुप के लोकप्रिय और चर्चित कार्यक्रम 'इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट 2019' के सेशन 'आयुर्वेद कैसे आपको फिट रख सकता है. ऐसे में आचार्य बालकृष्ण ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी एनआरसी और नागरिकता बिल के सवाल पर बोलते हुए कहा कि इसके जरिए न तो इसके जरिए किसी को टारगेट करें और न ही प्रोटेक्ट करें.

पतंजलि आयुर्वेद के को-फाउंडर आचार्य बालकृष्ण पतंजलि आयुर्वेद के को-फाउंडर आचार्य बालकृष्ण

  • इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट 2019 में शामिल हुए बालकृष्ण
  • एनआरसी और नागरिकता बिल पर रखी अपनी राय

इंडिया टुडे ग्रुप के लोकप्रिय और चर्चित कार्यक्रम 'इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट 2019' के सेशन 'आयुर्वेद कैसे आपको फिट रख सकता है' इस पर पतंजलि आयुर्वेद के को-फाउंडर आचार्य बालकृष्ण ने शामिल हुए. इस दैरान उन्होंने हर सवाल का बेबाकी से जवाब दिया. आचार्य बालकृष्ण ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर यानी एनआरसी और नागरिकता बिल के सवाल पर बोलते हुए कहा कि इसके जरिए न तो इसके जरिए किसी को टारगेट करें और न ही प्रोटेक्ट करें.

बालकृष्ण ने कहा कि ये भारत की खूबसूरती है कि यहां विभिन्न जाति और धर्म के मानने वाले लोग एक साथ रहते हैं. यहां जाति और धर्म के हिसाब से नहीं बल्कि गलत लोगों की पहचान करके देश बनेगा. देश में जो लोग गलत हैं उनकी पहचान होनी चाहिए  और जो सही हैं उन्हें प्रोटेक्ट  किया जाना चाहिए. इससे देश आगे बढ़ता है.  

उन्होंने कहा कि जानबूझकर किसी को टारगेट नहीं किया जाना चाहिए और जानबूझकर किसी को प्रोटेक्ट भी नहीं करना चाहिए. राष्ट्र के लिहाज सो जो जैसा है उसके वैसा ही सोचना चाहिए. राष्ट्र के लिए मजहब से न फैसला करे कौन सिटिजन बनेगा. संविधान और कानून के हिसाब से इसका फैसला होना चाहिए.

साथ ही आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि पतंजलि में दुनिया के 80 देशों से लोग अपने इलाज के लिए आते हैं. वहीं हर रोज पतंजलि 50 हजार से ज्यादा मरीजों का इलाज करता है. पूरे देश में हमारे 1500 से ज्यादा चिकित्सालय हैं. आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि लोगों के भरोसे के कारण आज पतंजलि को इतना सम्मान मिला है. उन्होंने कहा कि आयुर्वेद में रिसर्च का काम काफी बाकी है. पतंजलि ने इस ओर ध्यान दिया है. पतंजलि के पास 500 से ज्यादा वैज्ञानिक हैं और बड़े लेवल पर रिसर्च का काम जारी है.

उन्होंने कहा कि आयुर्वेद में जो बातें पहले से लिखी हैं, अब वही बातें विदेशी लोग बोल रहे हैं. देश में विभिन्न प्रकार के अन्न हैं. ये सिर्फ पेट भरने के लिए नहीं है. बल्कि, वह आयुर्वेद है. उससे आपकी सेहत ठीक रहती है. परहेज करें. परहेज से सही होना एक बेहतर तरीका है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें