scorecardresearch
 

पलायन के लिए जिम्मेदार अमीर देश, चुराई गरीब देशों की संस्कृति: सुकेतु मेहता

लेखक सुकेतु मेहता ने कहा कि आज कई ऐसे लोग हैं जो ऐसे देश में रह रहे हैं जहां वे पैदा ही नहीं हुए हैं. मैं भी उन्हीं में से हूं. माइग्रेशन की पूरी बहस अमीर देशों में होती है. अमीर देशों ने गरीब देशों की संस्कृति चुरा लिए और इस वजह से लोग माइग्रेशन कर रहे हैं. 

सुकेतु मेहता सुकेतु मेहता

  • अमीर देशों में होती है माइग्रेशन की पूरी बहस
  • अमीर देशों ने गरीब देशों की संस्कृति चुराई

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019 में शिरकत करते हुए लेखक सुकेतु मेहता ने प्रवासी लोगों पर अपनी बात रखी. अपनी किताब Maximum City and This Land is Our Land पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि मेरी किताब की शुरुआत मेरे नाना से शुरू होती है, जो गुजरात में पैदा हुए थे. रिटायरमेंट के बाद वो लंदन में रहे. एक दिन वो लंदन के पार्क में बैठे थे और एक अंग्रेज आया और बोला तुम यहां क्यों हो. अपने देश क्यों नहीं जाते. मेरे नाना जो गुजराती बिजनेसमैन थे. उन्होंने कहा कि हम लोग लेनदार हैं. तुम लोग मेरे देश में आए थे और सारा सोना और हीरा ले गए. तो हम वो लेने आए हैं. आप लोगों ने हमें इंडस्ट्री बनाने से रोका. हम यहां हैं क्योंकि आप लोग वहां थे.

सुकेतु मेहता ने कहा कि आजकल कई अमीर देशों में लोग माइग्रेशन की बात करते हैं. पहले अमीर देशों ने हमें इंडस्ट्री बनाने से रोका. इसके बाद वे हमें अपने देशों में गेस्ट वर्कर्स के तौर पर ले आए. हमारी मेहनत से उन्होंने अर्थव्यस्था को मजबूत किया और अब हमें वापस जाने को कहते हैं. लेकिन इसके बावजूद उन्हें कंप्यूटर ठीक कराने के लिए हमारी जरूरत होती है. बच्चों को पढ़ाने के लिए जरूरत होती है, लेकिन अब फिर वे हमें नहीं आने को कहते हैं.

अमीर देशों ने गरीब देशों की संस्कृति चुराई

उन्होंने कहा, 'आज कई ऐसे लोग हैं जो ऐसे देश में रह रहे हैं जहां वे पैदा ही नहीं हुए हैं. मैं भी उन्हीं में से हूं. माइग्रेशन की पूरी बहस अमीर देशों में होती है. अमीर देशों ने गरीब देशों की संस्कृति चुरा लिए, इस वजह से लोग माइग्रेशन कर रहे हैं. आने वाले दिनों में धरती पर ज्यादा कॉर्बेन के लिए अमेरिका जिम्मेदार होगा.'

उन्होंने कहा कि जून में उत्तर भारत में पारा 51 डिग्री तक चला जाता है. 10 हजार लोगों की मौत हो जाती है. एक स्टडी से मालूम पड़ता है कि 1960 से ग्लोबल वार्मिंग के कारण भारत की अर्थव्यवस्था 31 फीसदी गिर गई. लेकिन जो ठंडे देश हैं उनकी जीडीपी 10 फीसदी बढ़ गई. तो ग्लोबल वार्मिंग अलग-अलग देशों पर अलग-अलग तरह से असर दिखाती है और इसका सबसे ज्यादा असर गरीब देशों को होता है. पश्चिमी देश माइग्रेंट्स से प्रभावित नहीं होंगे बल्कि माइग्रेशन के डर से प्रभावित होंगे. माइग्रेशन रोकने के लिए लोगों की आजादी पर ब्रेक लगेगा.

सुकेतु मेहता ने कहा कि इमिग्रेशन का असर सिर्फ पश्चिम के देशों पर नहीं होगा. इसका असर भारत पर भी होगा. इसका उदाहरण हम असम में देख रहे हैं. एनआरसी इसका ताजा उदाहरण है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें