scorecardresearch
 

भारतीय महाद्वीप में चुनौतियों से कैसे निपटें? भारत-US के विदेश मंत्रियों में चर्चा

चीन, कोरोना वायरस जैसे मसलों से जूझ रही दुनिया अब एकजुट होने लगी है. अमेरिका और भारत के विदेश मंत्रियों ने गुरुवार को दोनों देशों में सहयोग बढ़ाने पर बात की.

माइक पोम्पियो, एस. जयशंकर (फाइल) माइक पोम्पियो, एस. जयशंकर (फाइल)

  • भारत और अमेरिका के बीच चर्चा
  • कई मसलों पर विदेश मंत्रियों ने की बात
भारत और अमेरिका के विदेश मंत्रियों ने गुरुवार को कई मसलों पर चर्चा की. चीन, कोरोना संकट समेत अन्य मसले पिछले कुछ दिनों से चर्चा में रहे हैं. इस बीच भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से बात की.

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के द्वारा जारी बयान के मुताबिक, माइक पोम्पियो ने आज एस. जयशंकर से भारत-अमेरिका के रिश्तों पर बात की. साथ ही भारत और अमेरिका किस तरह साथ आकर कोरोना वायरस संकट से लड़ सकते हैं और भारतीय उपमहाद्वीप क्षेत्र में शांति स्थापित करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं.

भारत और अमेरिका मिलकर अफगानिस्तान में शांति और विकास के कार्यों को आगे बढ़ा रहे हैं. दोनों देश लगातार 2+2 मंत्री फॉर्मूला पर बात करते आए हैं, जिसे आगे भी जारी रखने पर सहमति बनी है.

गौरतलब है कि अमेरिका अफगानिस्तान से अपनी सेना पीछे हटा रहा है, साथ ही उसने वहां पर विकास और शांति स्थापित करने के लिए भारत के रोल को अहम माना था. भारत काफी लंबे वक्त से अफगानिस्तान में काम करता आया है.

अगर अन्य मसलों की बात करें, तो अमेरिका-भारत दोनों ही देश पिछले कुछ दिनों से चीन को लेकर आक्रामक हैं. पहले कोरोना वायरस का संकट, फिर लद्दाख में चीनी सेना की गुस्ताखी से चीन के खिलाफ अमेरिका-भारत को और भी एकजुट कर दिया. भारत की तर्ज पर ही अमेरिका भी अब चीन पर कड़ा एक्शन लेने की तैयारी में है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप टिकटॉक, वीचैट जैसी अमेरिकी ऐप पर बैन लगा सकते हैं, जबकि भारत पहले ही ऐसी करीब 60 से अधिक ऐप को बैन कर चुका है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें