scorecardresearch
 

कोरोना को हराने की जंग और तेज, PM केयर्स फंड में जमा हो सकेगा CSR फंड

ईपीएस (एम्प्लॉइज पेंशन स्कीम)-95 के पेंशन धारकों ने कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए अपनी एक दिन की पेंशन को स्वैच्छिक रूप से सरकारी खजाने में जमा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है.

पीएम केयर्स फंड में जमा कराए जाएंगे सीएसआर फंड (फाइल फोटो-PTI) पीएम केयर्स फंड में जमा कराए जाएंगे सीएसआर फंड (फाइल फोटो-PTI)

  • कंपनी मामलों के मंत्रालय ने अधिसूचना जारी की
  • कोरोना महामारी में सीएसआर फंड का इस्तेमाल

कोरोना वायरस की महामारी को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद लोग लगातार मदद के लिए आगे आ रहे हैं. कई बड़ी हस्तियों ने पीएम केयर्स फंड में मदद राशि जमा कराई है. यह सिलसिला जारी है. इस बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया है कि अब सीएसआर यानी कॉरपोरेट सोशल रेस्पॉन्सिबिलिटी के फंड भी पीएम केयर्स फंड में जमा कराए जा सकते हैं. इसे लेकर कंपनी मामलों के मंत्रालय ने अधिसूचना भी जारी कर दी है.

बता दें, सीएसआर कंपनियों की एक पहल है, जिसके तहत वे समाज की भलाई के लिए अपना कुछ दायित्व निभाती हैं और इसके फंड के तहत समाज कल्याण के लिए अलग-अलग अभियान चलाए जाते हैं. कंपनी अपने कस्टमर, एम्प्लॉई, शेयरहोल्डर, अलग-अलग समुदाय और पर्यावरण के हित में फंड खर्च करती है.

इस फंड में कंपनियों को अपना धन जमा करना होता है. वित्त मंत्रालय ने अब इस फंड को पीएम केयर्स फंड में राशि देने की इजाजत दे दी है. इससे कोरोना वायरस के खिलाफ चल रही मुहिम में सरकार को मदद मिलेगी. साथ ही लोगों पर किए जा रहे खर्च में भी इस फंड से सहायता मिलेगी.

ये भी पढ़ें: LIVE: लॉकडाउन पर पलायन भारी, देश में 1000 के पार पहुंची कोरोना मरीजों की संख्या, 24 मौत

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण और मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कई मशहूर हस्तियों के साथ कई कंपनियां आगे आई हैं. टाटा ने जहां 500 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया है तो बजाज ग्रुप ने भी 100 देने का फैसला किया है. फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने पीएम केयर्स फंड में 25 करोड़ रुपये जमा कराए हैं. कई संस्थाएं भी मदद में आगे आई हैं. सांसदों, विधायकों से लेकर अधिकारी तक अपनी तनख्वाह जमा करा रहे हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

इस बीच ईपीएस (एम्प्लॉइज पेंशन स्कीम)-95 के पेंशन धारकों ने कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए अपनी एक दिन की पेंशन को स्वैच्छिक रूप से सरकारी खजाने में जमा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है. ऑल इंडिया ईपीएस-95 पेंशनर्स संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमांडर अशोक राउत ने पत्र में लिखा, "हालांकि ईपीएस-95 के पेंशन धारकों को बहुत मामूली पेंशन केवल 200 से 2500 रुपये मासिक मिल रही है, फिर भी वह अपनी एक दिन की पेंशन कोरोना महामारी से उपजे हालात को देखते हुए दान करना चाहते हैं."

उधर, कोलकाता के फुटबॉल क्लब मोहन बागान ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए 20 लाख रुपये देने की घोषणा की है. क्लब अपनी यह राशि पश्चिम बंगाल आपदा राहत कोष में देगा ताकि मेडिकल कर्मचारियों और अस्पतालों की मदद की जा सके. मोहन बागान के महासचिव श्रींजॉय बोस ने क्लब की वेबसाइट पर एक बयान में कहा, "हर किसी के लिए यह मुश्किल समय है और ऐसे समय में किसी को भी पीछे नहीं रहना चाहिए. हमारा योगदान महज एक शुरुआत है. हमें उम्मीद है कि इसमें और भी लोग जुड़ेंगे और जरूरतमंद परिवारों की मदद करेंगे. एक साथ आकर हम इस संकट से पार पा सकते हैं."

क्या है पीएम केयर्स फंड

यह फंड मुख्य रूप से कोरोना वायरस से उपजी स्थिति में मदद के लिए बनाया गया है. इमरजेंसी की हालत में लोगों की मदद के लिए इस फंड का इस्तेमाल होगा. इसके चेयरमैन खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं जबकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इसके सदस्य हैं. इसका अकाउंट नंबर 2121PM20202 है जबकि आईएफसी कोड SBIN0000691 है. नई दिल्ली में स्टेट बैंक के मेन ब्रांच में यह खाता है जिसमें डेबिड कार्ड, क्रेडिट कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग, यूपीआई, आरटीजीएस और एनईएफटी से पैसा जमा कराए जा सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें