scorecardresearch
 

प्राइवेट जेट, चार्टर फ्लाइट्स को हरी झंडी, कोरोना प्रोटोकॉल का करना होगा पालन

नगर विमानन मंत्रालय ने अब निजी जेट्स और चार्टर फ्लाइट्स के संचालन को भी अनुमति दे दी है. मंत्रालय ने कहा है कि निजी जेट्स और चार्टर फ्लाइट्स के संचालन के दौरान यात्री विमानों की तरह ही कोरोना वायरस से बचाव को लेकर नियम कायदों का पालन करना होगा.

निजी जेट्स और चार्टर फ्लाइट्स के संचालन को भी अनुमति (फाइल फोटो-PTI) निजी जेट्स और चार्टर फ्लाइट्स के संचालन को भी अनुमति (फाइल फोटो-PTI)

  • विमानन मंत्रालय ने प्राइवेट जेट संचालन को दी अनुमति
  • कोरोना वायरस से बचाव के लिए नियमों का पालन जरूरी

नगर विमानन मंत्रालय (MoCA) ने अब निजी जेट्स और चार्टर फ्लाइट्स के संचालन को भी अनुमति दे दी है. मंत्रालय ने कहा है कि निजी जेट्स और चार्टर फ्लाइट्स के संचालन में भी यात्री विमानों की तरह कोरोना वायरस से बचाव को लेकर नियम कायदों का पालन करना होगा.

असल में, देश में 62 दिनों के बाद घरेलू विमान सेवाएं 25 मई से शुरू हो गई हैं. विमानों का सोमवार को संचालन सुचारू ढंग से चला. ज्यादातर उड़ानें समय से अपने अंतिम गंतव्य पर पहुंच गईं. इसमें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आई.

वहीं इतने दिनों बाद शुरू हुए विमान सेवाओं के सुचारु संचालन से नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी उत्साहित नजर आए. हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट किया, आज 532 फ्लाइट सेवा में रहीं और 39,231 यात्री अपने गंतव्य तक पहुंचे. आकाश में विमान उड़ान भरने लगे हैं. आंध्र प्रदेश में कल (मंगलवार से) से, पश्चिम बंगाल में 28 मई से हवाई सेवा शुरू हो जाएगी. इससे विमान आवागमन में तेजी आएगी.

विमान सेवा शुरू होने के साथ ही एयर पोर्ट पर कोरोना वायरस की वजह से यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए विमान से उतारा और प्रवेश कराया जा रहा है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

सोमवार को विमानों का संचालन सुचारू ढंग से चला और दोपहर तक निर्धारित आगमन समय के 30 मिनट के अंदर हमारी 85% उड़ानें अपने अंतिम गंतव्य पर पहुंच गई हैं. इसमें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आई. यात्रा के लिए सभी राज्य की जरूरतों और एसओपी के साथ वेबसाइट पर अपडेट कर दी गई है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

बता दें कि महाराष्ट्र, बंगाल, छत्तीसगढ़ और तमिलनाडु ने विमान सेवा शुरू करने को लेकर केंद्र के सामने कई सारी आपत्तियां सामने रखी थीं. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नागरिक उड्डयन मंत्री से फोन पर बात करते हुए मुंबई और पुणे जैसे कोरोना प्रभावित शहरों का हवाला दिया था.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

महाराष्ट्र ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय को भेजे एक ई-मेल में कहा कि मुंबई और पुणे दोनों रेड जोन में हैं. इन शहरों में लोकल ट्रांसपोर्ट पर पाबंदी है. ऐसे में रोजाना 27 हजार से ज्यादा लोगों के आने-जाने का इंतजाम कैसे होगा? हालांकि बाद में उन्होंने 25 फ्लाइट्स की आवाजाही की मंजूरी दे दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें