scorecardresearch
 

कोरोना से जंग में साथ देने के लिए केजरीवाल ने किया मोदी सरकार का शुक्रिया

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, केंद्र सरकार का शुक्रिया करना चाहते हैं. सभी सामाजिक संस्थाओं का शुक्रिया. सभी धार्मिक संस्थानों का शुक्रिया. सभी डॉक्टर की एसोसिएशन और गैर सरकारी संस्थाओं का शुक्रिया करना चाहते हैं. मैं सभी कोरोना वॉरियर्स का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

  • दिल्ली के लोगों ने कुछ सालों में अभूतपूर्व काम करके दिखाए- केजरीवाल
  • 'कोरोना से लड़ाई में साथ देने के लिए केंद्र सरकार का शुक्रिया करना चाहते हैं'

देश में कोरोना के मामलों की रफ्तार धीमी हो गई है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली सचिवालय में अपने संबोधन में तमाम मुद्दों पर चर्चा की. यहां स्वतंत्रता दिवस पर केजरीवाल ने ध्वजारोहण किया और अपने संबोधन में कहा, 'दिल्ली के अंदर आज कोरोना के हालात काफी कंट्रोल में हैं. मैं दिल्ली के लोगों को बधाई देता हूं. दिल्ली के लोगों ने पिछले कुछ सालों में बहुत से अभूतपूर्व काम करके दिखाएं हैं. जब हर जगह प्रदूषण बढ़ रहा था तब दिल्ली पूरे देश में शायद अकेला ऐसा शहर था, जहां 25 फीसदी प्रदूषण यहां के लोगों ने कम करके दिखाया था.'

अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा, '5 साल पहले 2015 में प्रदूषण जिस स्तर पर था 2019 में उस से 25% कम हो गया. यह अच्छी बात है लेकिन हम इससे हम संतुष्ट नहीं हैं. हम और भी बहुत से कदम उठाएंगे लेकिन बड़ी बात यह है कि जब पूरी दुनिया और देश के अंदर प्रदूषण बढ़ रहा था उस वक्त दिल्ली के अंदर प्रदूषण कम हो रहा था. पिछले 5 सालों में दिल्ली के लोगों ने मिलकर डेंगू के ऊपर कंट्रोल किया. 2015 में 10 हजार से ज्यादा डेंगू के मामले आए और 60 लोगों की मौत हुई लेकिन 2019 में एक भी मौत डेंगू की वजह से नहीं हुई .'

कोरोना पर काबू पाने के लिए केजरीवाल ने दिल्लीवासियों की तारीफ की. अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'अब जब पूरा देश और दुनिया कोरोना की महामारी से जूझ रहे हैं, जून के महीने में लोग दिल्ली आने से घबरा रहे थे. लेकिन लोगों ने अपनी सूझबूझ और मेहनत से दिल्ली के दो करोड़ लोगों ने इस पर कंट्रोल कर लिया. जो स्थिति 2 महीने पहले थी आज वह स्थिति काफी कंट्रोल में आ चुकी है.

लोगों के अंदर इसका डर काफी कम हुआ है. आज पूरे देश में दिल्ली मॉडल की चर्चा हो रही है. सब लोगों को साथ लेकर, सारी संस्थाओं को साथ लेकर, सारी सरकारों को साथ लेकर और मिलकर एक साथ प्रयास का नतीजा है कि आज दिल्ली में स्थिति कंट्रोल में है. उन सभी लोगों को शुक्रिया जिन लोगों ने दिल्ली में स्थिति को कंट्रोल करने में सहयोग किया.'

केजरीवाल ने केंद्र सरकार को कहा- शुक्रिया

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'केंद्र सरकार का शुक्रिया करना चाहते हैं. सभी सामाजिक संस्थाओं का शुक्रिया. सभी धार्मिक संस्थानों का शुक्रिया. सभी डॉक्टर की एसोसिएशन और गैर सरकारी संस्थाओं का शुक्रिया करना चाहते हैं. मैं सभी कोरोना वॉरियर्स का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं. कोरोना वॉरियर्स आज इस कार्यक्रम में आए हुए हैं इनके लिए तालियां. हमारे डॉक्टर, नर्स पैरामेडिकल स्टाफ, पुलिसकर्मी, सफाई कर्मचारी, आप सब लोगों को मेरा नमन. लोगों ने देश को होम आइसोलेशन की पद्धति दी.

हम लोगों ने तय किया कि जो मरीज गंभीर नहीं हैं, उनका होम आइसोलेशन में इलाज होगा और जो गंभीर होंगे उनका अस्पताल में इलाज होगा. होम आइसोलेशन के मरीजों से लगातार एजेंसी संपर्क में रहती थीं. होम आइसोलेशन के मरीजों को पल्स ऑक्सीमीटर दिया गया.'

लाल किले की प्राचीर से पीएम का सवाल-हम कब तक कच्चा माल विदेश भेजते रहेंगे?

केजरीवाल ने आगे कहा, 'ऐसे मामले सामने आए हैं जो घर आने के बाद ऑक्सीजन डाउन होने के चलते गुजर गए. अगले हफ्ते से ऐसे लोगों के घर भी अब पल्स ऑक्सीमीटर भिजवाया जाएगा. यानी ठीक होने के बाद भी मरीजों को ऑक्सीजन की समस्या का पता चल सके इसके लिए पल्स ऑक्सीमीटर दिया जाएगा.

कोरोना मरीजों की सेवा करते-करते अगर किसी की जिंदगी चली जाती है तो उसके परिवार को हमने एक करोड़ रुपए देने का ऐलान किया और दिया भी है. ऐसा नहीं है कि कोई एक करोड़ रुपये के लिए काम कर रहा हो. किसी जान की कोई कीमत नहीं हो सकती.

लेकिन एक करोड़ रुपये देने का जो कोरोना वॉरियर्स के अंदर संदेश गया, उनको लगा कि कोई सरकार तो है जो हमारा ख्याल रख रही है. दिल्ली ने पूरे देश को प्लाज्मा का कॉन्सेप्ट दिया. दिल्ली पहला राज्य था जहां प्लाज्मा का ट्रायल हुआ और दिल्ली पहला राज्य था जहां प्लाज्मा बैंक 750 से ज्यादा मरीजों का प्लाज्मा ले चुके हैं और उनकी जान बचाई जा चुकी है.'

लाल किले की प्राचीर से सातवीं बार पीएम मोदी का संबोधन, जानें बड़ी बातें

सीएम ने आगे कहा, 'इस समय हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती अर्थव्यवस्था की है. अभी हमने जॉब पोर्टल लॉन्च किया है. इसमें नौकरी देने वाले भी आते हैं और नौकरी मांगने वाले भी. लॉकडाउन की वजह से लोग दिल्ली छोड़ कर चले गए थे, फैक्ट्रियां बंद हो गई थीं. अब दोबारा खुलीं तो उनके पास काम करने वाले लोग नहीं थे. जिस दिन इस जॉब पोर्टल को शुरू किया तो उस वक्त मुझे लगा था कि अगर 10 से 15 हजार लोगों को नौकरी भी मिल जाएगी तो मैं बड़ा खुश होउंगा. लाखों नौकरी इस पर रजिस्टर हो गईं और नौकरी मांगने वाले रजिस्टर हो गए हैं. करीब 10 लाख नौकरियां और करीब साढ़े आठ लाख नौकरी मांगने वाले. ऐसा इतिहास में पहली बार हुआ जब दिल्ली सरकार ने एक ही झटके में डीजल पर सीधा 8 रुपए प्रतिलीटर दाम कम कर दिए.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें