scorecardresearch
 

जोश पर अनुभव हावी: सीनियर नेताओं के आगे कांग्रेस आलाकमान का सरेंडर!

हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान में मचे घमासान को देखते हुए कांग्रेस आलाकमान नेवरिष्ठ नेताओं को तरजीह देते हुए अपनी गुड बुक में रखा है. ऐसे में युवा नेतृत्व पर वरिष्ठ नेता भारी पड़ते नजर आ रहे हैं.   

सोनिया गांधी कार्यकारी अध्यक्ष कांग्रेस (फोटो-ट्विटर) सोनिया गांधी कार्यकारी अध्यक्ष कांग्रेस (फोटो-ट्विटर)

  • वरिष्ठ नेताओं को साथ लेकर आगे की लड़ाई लड़ना चाहती है कांग्रेस
  • हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा लीड रोल में आए

कांग्रेस पार्टी में गुटबाजी लंबे वक्त से जारी है. पहले ये पर्दे के पीछे चलती थी, लेकिन अब ये खुलकर सामने आने लगी है. ऐसी स्थिति में पार्टी आलाकमान के लिए रास्ता ढूंढना मुश्किल भरा हो गया है. हालांकि नई कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी वरिष्ठ नेताओं को साथ लेकर आगे की लड़ाई लड़ना चाहती हैं. हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान में मचे घमासान को देखते हुए उन्होंने वरिष्ठ नेताओं को तरजीह देते हुए अपनी गुड बुक में रखा है. ऐसे में युवा नेतृत्व पर वरिष्ठ नेता भारी पड़ते नजर आ रहे हैं.

भूपेंद्र सिंह हुड्डा vs अशोक तंवर

हरियाणा की गुटबाजी को देखते हुए पार्टी आलकमान ने वरिष्ठ नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव में उतरने का फैसला किया है. कुमारी शैलजा को पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है. पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का लीड रोल में आना और हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से अशोक तंवर की छुट्टी से साफ जाहिर है कि टीम सोनिया गांधी की चली है. यह बात किसी से छुपी नहीं कि अशोक तंवर राहुल गांधी की पसंद हैं. तमाम रस्साकशी के बावजूद वो पिछले 6 साल से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बने रहे.

दरअसल, भूपेंद्र सिंह हुड्डा को तंवर के तेवरों के साथ पटरी बिठाने में हमेशा दिक्कत महसूस होती रही. उन्हें ये भी मलाल रहा कि उनकी वरिष्ठता को ज्यादा तवज्जो नहीं दी जा रही थी और तो और अशोक तंवर राहुल गांधी को रिपोर्ट करते थे. हो सकता है इससे हुड्डा के सम्मान को ठेस पहुंची हो और तभी से उनकी तंवर से ठन गई. वैसे हुड्डा और तंवर के बीच खींचतान ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले तूल पकड़ लिया था.

अशोक गहलोत vs सचिन पायलट

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच की कड़वाहट किसी से छिपी नहीं है. हाल ही में राजीव गांधी जयंती पर दोनों दिग्गजों ने एक-दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. इस कार्यक्रम में  सीएम गहलोत ने कहा था कि जब राजस्थान में अकाल आया था तो राजीव गांधी ने हमारी बात मानते हुए तत्काल मदद दी थी. इस पर डिप्टी सीएम ने तंज कसते हुए कहा था कि मुख्यमंत्री जी जिस तरह से राजीव गांधी ने आपकी बात मानी थी, उसी तरह से आप भी विधायकों की बात मानिए.

दरअसल, राजस्थान में कांग्रेस की वापसी से पहले ही अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच गद्दी के लिए रेस शुरू हो गई थी. क्योंकि राहुल गांधी ने सचिन पायलट के साथ-साथ अशोक गहलोत को भी विधानसभा चुनाव में लड़ाने की घोषणा की थी. चुनाव मैदान में गहलोत के उतरने से ही राज्य में कांग्रेस के अंदर गहलोत बनाम पायलट का विवाद शुरू हो गया था. उस दौरान गहलोत भी सीएम की कुर्सी की चाहत में जुटे रहे और अपने अनुभव की बातें कह-कहकर सचिन पायलट को कमतर साबित करते रहे. हालांकि सचिन पायलट के पिछड़ने की एक वजह ये भी थी कि राजस्थान में पार्टी को उम्मीद के मुताबिक सीटें नहीं मिलीं. बहुमत से पार्टी एक सीट दूर ही रही. अगर सीटों की संख्या 125 होती तो गहलोत पर सचिन पायलट भारी पड़ते. वहीं, पार्टी के आलाकमान को भी लग गया था कि अनुभव को ही तरजीह देना वाजिब होगा.

ज्योतिरादित्य सिंधिया vs कमलनाथ

मध्य प्रदेश में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को लेकर घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. 15 साल बाद सत्ता में वापसी करने वाली कांग्रेस के भले ही अच्छे दिन आ गए हों, लेकिन सूबे में युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के दिन नहीं बदले. एक वक्त मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर देखे जाने वाले सिंधिया पहले तो इस रेस में कमलनाथ से पिछड़ गए और फिर लोकसभा चुनाव में अपनी सीट भी हार गए.

इस दोहरे झटके से उबरने के लिए ज्योतिरादित्य मध्य प्रदेश में ही अपना सिक्का जमाना चाहते हैं. इसके लिए उनकी नजर पीसीसी चीफ की कुर्सी पर टिकी हुई है. इसके लिए उनके समर्थकों ने मोर्चा खोल दिया है. सिंधिया ने भी अपना मैसेज मुख्यमंत्री कमलनाथ तक पहुंचा दिया है. उन्होंने कहा कि सभी पक्षों को सुनने के बाद पार्टी के भीतर मतभेदों को हल करना मुख्यमंत्री की ही जिम्मेदारी है. वहीं, कमलनाथ ने बीजेपी के दो विधायकों को तोड़कर दिल्ली तक पहले ही बड़ा संदेश दे दिया है. ऐसे में यहां भी आलाकमान कमलनाथ पर पहले भरोसा जताएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें