scorecardresearch
 

रामविलास की इफ्तार दावत में BJP-JDU शामिल, रहे थे एक-दूसरे की पार्टी से दूर

बिहार में रमजान के पवित्र महिने के मौके पर राजनीतिक दलों द्वारा दावत-ए-इफ्तार का आयोजन करने की पंरपरा पुरानी है. लोक जनशक्ति पार्टी के मुखिया और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने सोमवार को पटना में दावत-ए-इफ्तार का आयोजन किया जिसमें भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड के नेता शामिल हुए. लेकिन इससे पहले बीजेपी-जेडीयू दोनों ही एक दूसरे की इफ्तार पार्टी में नहीं पहुंचे.

पासवान की इफ्तार पार्टी में नीतीश और सुशील मोदी (फोटो- ट्विटर) पासवान की इफ्तार पार्टी में नीतीश और सुशील मोदी (फोटो- ट्विटर)

बिहार में रमजान के पवित्र महीने के मौके पर राजनीतिक दलों द्वारा 'दावत-ए-इफ्तार' का आयोजन करने की पंरपरा पुरानी है. लोक जनशक्ति पार्टी के मुखिया और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने सोमवार को पटना में दावत-ए-इफ्तार का आयोजन किया जिसमें भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड के नेता शामिल हुए. लेकिन इससे पहले बीजेपी-जेडीयू दोनों ही एक दूसरे की इफ्तार पार्टी में नहीं पहुंचे.

पासवान ने इफ्तार पार्टी पर किया ट्वीट

एलजेपी की इफ्तार पार्टी में प्रदेश राज्यपाल लालजी टंडन, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और विधानसभा स्पीकर विजय कुमार चौधरी समेत कई नेता शामिल हुए. इस इफ्तार पार्टी की कुछ तस्वीरों को खुद केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने अपने ट्विटर पेज पर शेयर किया है. इन तस्वीरों में पासवान के साथ राज्यपाल, मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री एक साथ एक कतार में बैठे हुए दिखाई दे रहे हैं.

वहीं, एक दूसरी तस्वीर में सीएम नीतीश कुमार को रामविलास पासवान और सुशील मोदी थामे नजर आ रहे हैं. इस दौरान सभी के चेहरे पर मुस्कराहट दिखी जबकि रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान भी साथ में नजर आए. 

ljp-iftaar-party2_060319103047.png

JDU की इफ्तार पार्टी में BJP शामिल नहीं

इन तस्वीरों और बिहार में इस साल आयोजित इफ्तार दावतों में दोनों गठबंधनों की तरफ से नए सियासी पैगाम आने लगे हैं. जो उस दिशा की ओर संकेत कर रहा है कि बिहार में जेडीयू-बीजेपी के बीच कुछ ठीक नहीं चल रहा है, क्योंकि इससे पहले बीजेपी के सहयोग से सरकार चला रही जेडीयू द्वारा रविवार को दी गई इफ्तार पार्टी में पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतनराम मांझी तो अवश्य शामिल हुए, लेकिन बीजेपी का कोई भी नेता या विधायक का नहीं पहुंचा. इससे कई सवालों को हवा मिलने लगी है.  

BJP की इफ्तार पार्टी में JDU से कोई नहीं गया

वहीं रविवार को उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी में बीजेपी के सभी नेता तो पहुंचे लेकिन केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू को सांकेतिक स्थान दिए जाने की पेशकश से नाराज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू का कोई भी नेता शामिल नहीं हुआ. हालांकि बीजेपी नेता सुशील मोदी हालांकि कहते हैं कि यह एक धार्मिक आयोजन है, इसका राजनीतिक अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए. उन्होंने एकबार फिर दोहराया कि नेशनल डेमोक्रेटिक एलायंस (एनडीए) में कहीं से कोई विवाद नहीं है.

गौरतलब है कि जेडीयू-बीजेपी के बीच तल्खी की शुरुआत तब शुरू हुई, जब नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण समारोह के कुछ घंटे पहले मुख्यमंत्री ने जेडीयू को इसमें सांकेतिक रूप से शामिल किए जाने के 'ऑफर' को ठुकराते हुए मंत्रिमंडल में शाामिल नहीं होने की घोषणा की. सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि भविष्य में भी वह मोदी सरकार का हिस्सा नहीं बनेगी. इसके दो दिन बाद ही बिहार में नीतीश कुमार ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया, जिसमें बीजेपी के एक भी विधायक को शामिल नहीं किया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें