scorecardresearch
 

अयोध्या केस: ओवैसी बोले- BJP या शिवसेना नहीं, सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला

सुनवाई के साथ-साथ मध्यस्थता के आदेश पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि यह चिट्ठी लीक कैसे हो गई. मुझे चिट्ठी का खेल समझ नहीं आ रहा है.

असदुद्दीन ओवैसी (File-PTI) असदुद्दीन ओवैसी (File-PTI)

  • असदुद्दीन ओवैसी ने कहा-सभी पक्षों को पूरा वक्त मिलना चाहिए
  • SC ने विवाद में बहस 18 अक्टूबर तक खत्म करने को कहा

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या भूमि विवाद को लेकर चल रही बहस खत्म होने की डेडलाइन तय हो गई है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने तमाम पक्षों से कह दिया है कि अयोध्या विवाद में बहस 18 अक्टूबर तक खत्म कर ली जाएगी. इस पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि सभी पक्षों को पूरा वक्त मिलना चाहिए.

सुनवाई के साथ-साथ मध्यस्थता के कोर्ट के आदेश पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि यह चिट्ठी लीक कैसे हो गई. मुझे चिट्ठी का खेल समझ नहीं आ रहा है. उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और शिवसेना को कैसे पता कि उनके पक्ष में फैसला आएगा. अभी तो सुनवाई चल रही है. बीजेपी, शिवसेना नहीं, सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएगी और हमें उस पर पूरा भरोसा है.

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि हर पार्टी को अपना पक्ष रखने का अधिकार होना चाहिए. वे अपने पक्ष रख रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि मेरा क्या जवाब हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने खुद ही 18 अक्टूबर की डेडलाइन तय कर दी है. सभी बहस पूरे होने चाहिए. इसी पर फैसला दिया जाएगा.

शिवसेना की टिप्पणी पर ओवैसी ने कहा कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव आ रहा है. उनके पास चुनाव में लड़ने के लिए कुछ नहीं है, ऐसे में वे इस मामले का महज अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं.

केसी त्यागी ने कहा- जल्द हो फैसला

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर केसी त्यागी ने कहा कि सभी लोग चाहते थे कि आपसी बात ही से इस मामले का हल निकाला जाए. दूसरा रास्ता कोर्ट का है. सभी पक्ष जल्दी सुनवाई के लिए तैयार थे. उन्होंने कहा कि कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं. हमें उम्मीद है जो फैसला होगा, समाज के सभी वर्गों को मान्य होगा.

राम मंदिर बनने के बीजेपी नेताओं के दावे पर किसी त्यागी ने कहा कि यह अदालत के अंदर चल रही कार्रवाई में रुकावट डालने की कोशिश है. जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह चुके हैं कि अदालत के फैसले का इंतजार करना चाहिए, तो ऐसी तत्परता क्यों है, यह समझ से परे है. सभी को अपने-अपने पक्ष में अपनी बात कहने का अधिकार है. मामला बहुत पुराना है लिहाजा फैसला जल्दी आए तो अच्छा होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें