scorecardresearch
 

भंवरी देवी केस: मदेरणा का मंत्री पद खतरे में

नर्स भंवरी देवी के लापता हो जाने के मामले में संदेह के घेरे में आये राजस्थान के जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा का मंत्री पद जा सकता है.

भंवरी देवी भंवरी देवी

नर्स भंवरी देवी के लापता हो जाने के मामले में संदेह के घेरे में आये राजस्थान के जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री महिपाल मदेरणा का मंत्री पद जा सकता है.

चेहरा पहचानें, जीतें ईनाम. भाग लेने के लिए क्लिक करें

 

समझा जाता है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मदेरणा को सरकार में मंत्री पद से हटाने की सिफारिश राज्यपाल के पास भेजने का फैसला किया है.
भंवरी देवी मामला में फंसे मंत्री महिपाल मदेरणा 

राजस्थान के जोधपुर जिले के बिलाड़ा कस्बे की नर्स भंवरी देवी के लापता होने के मामले में मदेरणा का नाम आने के चलते उनसे इस्तीफा लेने की कोशिशें विफल हो जाने के बाद गहलोत ने सिफारिश भेजने का निर्णय किया है.
भंवरी केस: मदेरणा पर इस्तीफे का दबाव! | LIVE TV  

सूत्रों ने बताया कि गहलोत ने मंत्री से पूर्व में इस्तीफा देने को कहा था लेकिन उन्होंने त्याग पत्र देने से इनकार कर दिया. माना जाता है कि मदेरणा के इस रुख के चलते गहलोत ने अब उन्हें पद से हटाने का फैसला कर लिया है.
भंवरी प्रकरण: अब पड़ा कोर्ट का कोड़ा | सीडी का सच 

सीबीआई ने भंवरी देवी के लापता हो जाने के मामले की जांच का जिम्मा 11 अक्तूबर को संभाला था. इस मामले में मदेरणा पर संलिप्तता के आरोप लगे हैं. राजस्थान सरकार ने पिछले महीने केंद्र से सिफारिश की थी कि इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी जाये. इसके बाद जांच एजेंसी ने मामला दर्ज किया.

जोधपुर जिले से 120 किलोमीटर दूर स्थित जलीवाड़ा गांव के एक उप केंद्र में नर्स के रूप में पदस्थ भंवरी देवी (36) एक सितंबर से लापता है. उसके पति अमरचंद का आरोप है कि मदेरणा तथा उनके साथियों के कहने पर देवी का अपहरण किया गया है. मंत्री तथा उनके सहयोगियों ने इन आरोपों का खंडन किया है.

भंवरी देवी को 24 अगस्त को उप केंद्र में देखा गया था. इसके बाद से वह अनुपस्थित है. स्थानीय लोगों का कहना है कि वह ऐशो-आराम वाली जीवनशैली जीती है और उसके राजनीतिक संबंध भी हैं. वह तब सुखिर्यों में आयी जब एक सीडी में वह कथित तौर पर मंत्री तथा एक विधायक के साथ आपत्तिजनक अवस्था में नजर आयी.

जोधपुर पुलिस भंवरी के बारे में जानकारी देने वाले व्यक्ति को चार हजार रुपये का नकद पुरस्कार देने की पहले ही घोषणा कर चुकी है. पुलिस ने भंवरी के लापता होने के तुरंत बाद एक ठेकेदार सोहणा लाल विश्नोई को गिरफ्तार किया था.

पुलिस सूत्रों के अनुसार, महिला ने विश्नोई को एक कार बेची थी. एक सितंबर को बिलाड़ा में उससे धनराशि लेने के बाद जब वह लौट रही थी तभी वह लापता हो गयी.

सूत्रों का कहना है कि सीकर जिले से कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया जिन्होंने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश के एक गिरोह ने भंवरी की कथित तौर पर हत्या कर दी है. दो लड़कियों और एक लड़के की मां भंवरी कुछ स्थानीय संगीत वीडियो एलबम में भी काम कर चुकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें