scorecardresearch
 

विधायक दल की बैठक में बोले गहलोत, एक महीने में जो कुछ हुआ, वह बुरा सपना

विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संबोधित करते हुए कहा कि हम लोगों को यह समझना चाहिए कि एक महीने में जो कुछ हुआ, यह एक बुरा सपना था.

केसी वेणुगोपाल, अशोक गहलोत और सचिन पायलट (फोटो- पीटीआई) केसी वेणुगोपाल, अशोक गहलोत और सचिन पायलट (फोटो- पीटीआई)

  • राजस्थान में 14 अगस्त से विधानसभा सत्र
  • जयपुर में कांग्रेस विधायक दल की हुई बैठक

राजस्थान में 14 अगस्त से विधानसभा का सत्र शुरू होने वाला है. इससे पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई. इस बैठक की खास बात यह रही कि इसमें सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक भी शामिल हुए.

विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संबोधित करते हुए कहा कि हम लोगों को यह समझना चाहिए कि एक महीने में जो कुछ हुआ, यह एक बुरा सपना था. जो बुरे सपने की तरह टल गया. जो कुछ बात हुई है, दिल्ली के नेताओं से बात हुई है या हम लोगों ने यहां पर बात की है. हम लोग कुछ नई परिपाटी डालेंगे. जिसे भी शिकायत होगी, वह कभी भी मेरे पास आकर कह सकता है.

यह भी पढ़ें: हाथ मिले पर दिल नहीं! गहलोत बोले- 19 विधायकों के बिना भी साबित कर देते बहुमत

गहलोत ने कहा कि चाहे सचिन पायलट हो या फिर कोई और हो, कोई भी व्यक्ति आकर हमसे मिल सकता है. जो संवादहीनता की स्थिति है, वह आगे नहीं होनी चाहिए. गहलोत ने कहा कि हम खुद विश्वास मत लेकर आएंगे. बीजेपी वाले अविश्वास प्रस्ताव लेकर आ रहे हैं. विधानसभा अध्यक्ष देखेंगे कि कैसे क्या किया जाएगा.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में बोले सीएम गहलोत- हम खुद लाएंगे विश्वास प्रस्ताव

गहलोत ने इस मौके पर अपना सिक्का भी मनवाया और कहा कि इसी तरह से गुजरात में 14 विधायकों का इस्तीफा करवा दिया गया था और अहमद पटेल का चुनाव हमने जितवा दिया था. आज एक बार फिर पूरा देश देखेगा कि किस तरह से हमने बीजेपी की चाल को असफल किया है. पूरे देश के पत्रकारों, साहित्यकारों, नेताओं की नजरें राजस्थान पर टिकी हुई थी और हमने सफलता पाई है.

लोकतंत्र कमजोर करने का आरोप

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में लोकतंत्र कमजोर करने में लगे हुए हैं. सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम सबको साथ लेकर चलें. कांग्रेस हमारी मां है और अपनी मां का नुकसान हम नहीं देख सकते हैं.

हालांकि कड़वाहट पूरी तरह से दूर हो गई या नहीं, यह कहना अभी मुश्किल है क्योंकि अशोक गहलोत ने कहा कि इन 19 विधायकों के बिना भी हम विश्वासमत जीत लेते मगर उस वक्त हमें खुशी नहीं होती, जो खुशी एक साथ मिलकर जीतने में होगी. वहीं सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट मुलाकात के दौरान मास्क लगाए हुए थे, जिससे यह पता नहीं चल पाया कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट इस मुलाकात से कितने खुश हैं और चेहरे के भाव क्या हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें