scorecardresearch
 

कांग्रेस का ऐलान, कांग्रेस विचारधारा के शिक्षकों को मिलेगी प्राइम पोस्टिंग

शिक्षा मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने भी हमें ऐसे निर्देश दिए हैं कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का ट्रांसफर पोस्टिंग में ख्याल रखा जाए.

X
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (IANS) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (IANS)

राजस्थान सरकार ने बुधवार को खुलेआम एलान कर दिया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विचारधारा के लोगों को प्राइम पोस्टिंग से हटाया जाएगा. पिछली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार में कांग्रेस विचारधारा के जिन लोगों को प्रताड़ित किया गया है, उन्हें इस बार पुरस्कृत किया जाएगा.

राजस्थान में कांग्रेस कमेटी के शिक्षक प्रकोष्ठ के सम्मान समारोह में बोलते हुए राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि राजस्थान में सरकार उन सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को न्याय दिलवाएगी जिन्हें बीजेपी सरकार ने दूरदराज भेजकर ट्रांसफर किया था. शिक्षक दिवस समारोह में शिक्षकों को सम्मानित करते हुए शिक्षा मंत्री ने कांग्रेस विचारधारा को मानने वाले शिक्षकों को अच्छी जगह पर पोस्टिंग देने का ऐलान किया.

शिक्षा मंत्री के इस ऐलान के बाद शिक्षकों ने भी जिंदाबाद के नारे लगाए. शिक्षा मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने भी हमें ऐसे निर्देश दिए हैं कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का ट्रांसफर पोस्टिंग में ख्याल रखा जाए.

गौरतलब है कि जब से कांग्रेस की सरकार बनी है, कांग्रेस के नेता लगातार मांग कर रहे हैं कि आरएसएस और संघ के विचारधारा के लोगों को प्राइम पोस्टिंग से हटाया जाए और वहां पर कांग्रेस के विचारधारा के लोगों को बैठाया जाए. कांग्रेस ने राजस्थान में सरकार बनने के बाद चुनाव से पहले 600 शिक्षकों के तबादले को निरस्त कर दिया था.

निजी स्कूलों को गहलोत की हिदायत

शिक्षक दिवस के मौके पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शिक्षा के निजीकरण के मुद्दे पर खुल कर अपनी बात रखी. गहलोत ने कहा कि निजी स्कूल शिक्षा को कमाई का साधन नहीं बनाएं.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, "शिक्षा और स्वास्थ्य, ये दो ऐसे पवित्र माध्यम हैं जिनसे सेवा भावना जुड़ी हुई है. निजी स्कूल शिक्षा को कमाई का साधन नहीं बनाएं. शिक्षा के मंदिर 'न लाभ  हानि' के आधार पर संचालित होने चाहिए." मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का यह बयान शिक्षक दिवस के अवसर पर सामने आया जब वे बिरला सभागार में राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे.

मुख्यमंत्री गहलोत ने यह भी कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है कि अंग्रेजी के नाम पर चल रहे कई निजी विद्यालयों में फीस इतनी अधिक है कि गरीब परिवार के बच्चे तो उनमें पढ़ने की बात सोच भी नहीं सकते. उन्होंने आह्वान किया कि निजी विद्यालय शिक्षा के क्षेत्र में भूमिका निभाने के लिए निर्धन वर्ग के छात्रों को शिक्षा दें. गहलोत ने सरकारी विद्यालयों की तारीफ करते हुए कहा कि हमारे सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों में पर्याप्त क्षमता, दक्षता और कौशल है.(देव अंकुर की रिपोर्ट)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें