scorecardresearch
 

'PAK से पंजाब... फिर दिल्ली समेत अन्य राज्यों में पहुंच रहा RDX', करनाल से गिरफ्तार आतंकियों का खुलासा

करनाल में दिल्ली नंबर की इनोवा कार से विस्फोटक मिलने के मामले में गिरफ्तार आतंकियों ने पूछताछ में बताया कि पाकिस्तान से पंजाब और पंजाब से दिल्ली समेत अलग-अलग राज्यों में RDX जैसा खतरनाक विस्फोटक पहुंचाया जा रहा है.

X
करनाल से चार आतंकियों को पुलिस ने पकड़ा था.
करनाल से चार आतंकियों को पुलिस ने पकड़ा था.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एजेंसियों को ड्रग तस्कर और हवाला ऑपरेटर की तलाश
  • दो आतंकियों को लेकर पंजाब पहुंची करनाल पुलिस

हरियाणा के करनाल से गिरफ्तार किए गए खालिस्तानी आतंकियों ने पूछताछ में खुलासा किया है कि पाकिस्तान से आए विस्फोटक, हथियार और ग्रेनेड अबतक तीन जगहों पर पहुंच चुके हैं. उन्होंने बताया कि करनाल से हमें विस्फोटक, हथियार के साथ गिरफ्तार कर लिया गया. इसके अलावा IED, हथियार और ग्रेनेड अमृतसर-तरनतारन हाईवे और नांदेड़-हैदराबाद हाईवे पर रखे गए हैं. अब पुलिस उनके बयान के आधार पर जांच पड़ताल में जुट गई है. 

उन्होंने बताया कि इनोवा से बरामद तीनों IED में RDX का इस्तेमाल किया गया था. बता दें कि करनाल पुलिस आतंकी गुरुप्रीत और अमनदीप को लेकर पंजाब पहुंची है.

पूछताछ में सबसे चौंकाने वाला खुलासा आतंकियों ने ये किया है कि ड्रोन के जरिए पाकिस्तान से खालिस्तानी आतंकी हरविंदर सिंह रिंदा न सिर्फ IED और हथियार भिजवाता था बल्कि हथियारों के साथ ड्रग भी भेजता था. दोनों आतंकियों ने बताया कि ड्रोन से आए ड्रग को वे पंजाब में बैठे एक शख्स को बेचकर पैसे ले लेते थे जबकि विस्फोटक और हथियार बताए गए जगहों पर पहुंचा रहे थे.

अब एजेंसियों को ड्रग तस्कर और हवाला ऑपरेटर की तलाश

करनाल पुलिस और खुफिया एजेंसियों की निगाहें अब पंजाब में बैठे उस ड्रग तस्कर और हवाला ऑपरेटर पर है. सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के इस्लामाबाद में ISI की सरपरस्ती में खालिस्तानी आतंकी हरविंदर सिंह रिंदा रह रहा है. 

इसके पहले दिल्ली पुलिस ने भी टेरर रिलेटेड अपने 2 केस में उत्तर प्रदेश और दिल्ली से IED बरामद करके खुलासा किया था कि आतंकियों के पास से बरामद IED पाकिस्तान से पंजाब पहुंचे थे फिर आतंकियों के पास पहुंचाए गए.

कौन है हरविंदर सिंह निंदा? 

गौरतलब है कि इस षड्यंत्र का मुख्य साजिशकर्ता हरविंदर सिंह निंदा का संबंध नांदेड़ से भी रहा है. वो 11 वर्ष की उम्र में नांदेड चला गया था जहां वो अपराध की दुनिया में शामिल हो गया. उसने 18 वर्ष की उम्र में अपने एक रिश्तेदार की हत्या कर दी थी. नांदेड़ में वह कई लूटपाट और हत्या की कोशिश जैसे मामलों में वांछित है. 

जब उस पर पुलिस का दबाव बढ़ा तो वो 2016 को पंजाब लौट आया. 2016 से 2018 के बीच वह छात्र राजनीति में भी रहा .इस दौरान उसके खिलाफ चंडीगढ़ के विभिन्न थानों में हत्या ,हत्या के प्रयास और आर्म्स एक्ट के तहत 4 मामले दर्ज हुए.

रिन्दा के खिलाफ पंजाब के विभिन्न थानों में एक दर्जन से ज्यादा मामले दर्ज हैं. वो लुधियाना बम ब्लास्ट और नवां शहर सीआईए पुलिस स्टेशन के बाहर हुए धमाकों में भी शामिल रहा है. पुलिस को शक है कि पिछले महीने चंडीगढ़ की बुडैल जेल के बाहर रखे गए बम की साजिश रचने के पीछे भी उसी का हाथ है.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें