scorecardresearch
 

क्या अकाली दल की गिरती सियासी साख के लिए परिवारवाद जिम्मेदार

पार्टी को अलविदा कहने वाले परमिंदर सिंह ढींडसा और सुखदेव सिंह ढींडसा का कहना है कि अकाली दल अब सिर्फ बादल परिवार की पार्टी रह गया है. पार्टी में परिवारवाद इस कदर हावी है कि जो भी नेता बादल परिवार के खिलाफ आवाज उठाता है उसे अनुशासनहीनता के नाम पर बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है.

अपनी खिलाफत करने वाले नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा रहे हैं बादल अपनी खिलाफत करने वाले नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा रहे हैं बादल

  • अकाली दल की गिरती साख से चिंतित भाजपा, तोड़ सकती है गठबंधन
  • गठबंधन टूटने पर होगा AAP और कांग्रेस को फायदा

पंजाब में दस साल तक राज करने वाली राजनीतिक पार्टी शिरोमणि अकाली दल की लोकप्रियता का ग्राफ लगातार गिर रहा है. आखिर क्यों पार्टी के कई नामी-गिरामी चेहरे अकाली दल को अलविदा कह रहे हैं. अकाली दल की घटती लोकप्रियता का अंदाजा सिर्फ इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले साल हुए लोकसभा चुनावों में पार्टी 13 में से सिर्फ दो सीटों पर जीत दर्ज कर पाई. जिन सीटों पर अकाली दल ने जीत दर्ज की वह बादल परिवार की परंपरागत सीटें हैं. अकाली दल को दो सीटों का नुकसान हुआ.

2017 में हुए विधानसभा चुनावों में पार्टी 56 में से सिर्फ 15 सीटें बचा पाई थी. पंजाब में अकाली दल पार्टी संगठन की जड़ें कमजोर हो रही हैं. इसके लिए पार्टी छोड़कर गए अकाली दल के नेता पार्टी संगठन में फैले परिवारवाद और भाई-भतीजावाद को जिम्मेदार मान रहे हैं.

पार्टी क्यों छोड़ रहे हैं बड़े नेता

हाल ही पार्टी को अलविदा कहने वाले परमिंदर सिंह ढींडसा और सुखदेव सिंह ढींडसा का कहना है कि अकाली दल अब सिर्फ बादल परिवार की पार्टी रह गया है. पार्ट में परिवारवाद इस कदर हावी है कि जो भी नेता बादल परिवार के खिलाफ आवाज उठाता है उसे अनुशासनहीनता के नाम पर बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है.

यह भी पढ़ेंः जामिया यूनिवर्सिटी के गेट नंबर 5 पर फिर फायरिंग, फरार हुए स्कूटी पर सवार 2 संदिग्ध

वहीं परमिंदर सिंह ढींडसा और सुखदेव सिंह ढींढसा अकेले ऐसे नेता नहीं है जिन्होंने अकाली दल से नाता तोड़ा. इससे पहले साल 2018 में बादल परिवार के खिलाफ आवाज उठाने वाले वरिष्ठ सांसद और अकाली दल नेता रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा, पूर्व कैबिनेट मंत्री सेवा सिंह सेखवां और रतन सिंह अजनाला ने भी पार्टी में परिवारवाद से नाराज होकर अपना-अलग संगठन शिरोमणि अकाली दल टकसाली बना लिया था.

उसके बाद दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके को भी पार्टी से बाहर कर दिया गया. साल 2017 में पद्मश्री परगट सिंह ने भी अकाली दल प्रमुख सुखबीर बादल के खिलाफ मोर्चा खोला तो उनके साथ विधायक रविंद्र सिंह गुलरिया को भी पार्टी से बाहर कर दिया गया. मास्टर सरवण सिंह फिल्लौर को भी बादल परिवार की मुखालफत करने के आरोप में पार्टी से बाहर किया गया था.

यह भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस ने जामिया रजिस्ट्रार को लिखी चिट्ठी, कहा- यूनिवर्सिटी गेट से हटें प्रदर्शनकारी

इससे पहले साल 2011 में सुखबीर बादल के चचेरे भाई और प्रकाश सिंह बादल के भतीजे मनप्रीत सिंह बादल को भी पार्टी छोड़नी पड़ी. उनके साथ ही तत्कालीन पार्टी विधायक जगबीर सिंह बराड़ को भी सुखबीर बादल के खिलाफ बोलना महंगा पड़ा.

गुरचरण सिंह तोहरा पहले अकाली नेता थे जिन्होंने साल 2001 में बादल परिवार के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की थी. उनको इसका खामियाजा भुगतना पड़ा था. उनके बाद कुलदीप सिंह वडाला को भी पार्टी से निकाला गया.

अकाली दल के लगातार कमजोर पढ़ने से किसको फायदा

अकाली दल के लगातार कमजोर पड़ रहे पार्टी संगठन का सीधा असर भाजपा-अकाली दल गठबंधन पर पड़ रहा है. भाजपा से जुड़े सूत्रों के मुताबिक अब अकाली दल उनके लिए एक राजनीतिक बोझ बन रहा है. यही कारण है कि दिल्ली के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अकाली दल से किनारा कर लिया.

उसके बाद कुछ दिनों तक भाजपा और अकाली दल नेताओं के बीच मनमुटाव रहा लेकिन जैसे ही अकाली दल को लगा कि भाजपा से नाराजगी मोल लेने से उसे केंद्रीय मंत्रिमंडल और पंजाब में गठबंधन से हाथ धोना पड़ सकता है, तो अकाली दल ने चुपचाप घुटने टेक दिए.

उधर पंजाब की दो प्रमुख राजनीतिक पार्टियां कांग्रेस और आम आदमी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी और अकाली दल के बीच बढ़ रही दूरियों को अपना राजनीतिक फायदा मान रही है. कांग्रेस नेता अकाली दल की गिरती साख के लिए बादल परिवार को जिम्मेदार मान रहे हैं तो आम आदमी पार्टी के नेता अकाली दल को एक डूबता हुआ जहाज से बढ़कर नहीं मानते. वहीं अकाली दल के नेता पार्टी से निकाले गए वरिष्ठ नेताओं के फैसले को अनुशासनहीनता करार देकर उसे सही ठहरा रहे हैं.

अकाली दल नेताओं का दावा है कि पंजाब में भाजपा के साथ उनका गठबंधन बरकरार है और इसे दिल्ली के विधानसभा चुनाव के साथ जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें