scorecardresearch
 

एक बेड, एक कुर्सी, चावल और फ्राई आलू... जेल में कैसे कट रही हैं बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की रातें

पार्थ चटर्जी की मांग पर उन्हें जेल प्रशासन ने कुर्सी और लोहे का पलंग दिया. जेल प्रशासन ने उनकी चावल और फ्राई आलू दिए जाने की मांग को भी मान लिया है. शुक्रवार को कोर्ट के आदेश के बाद 14 दिन की कस्टडी में भेजे गए पार्थ चटर्जी ने अपनी पहली रात बैरक के कमोड पर बैठे-बैठे गुजारी थी.

X
पार्थ चटर्जी ( फाइल फोटो )
पार्थ चटर्जी ( फाइल फोटो )

पश्चिम बंगाल के सबसे ताकतवार नेताओं में शुमार पूर्व कैबिनेट मंत्री पार्थ चटर्जी ईडी की कस्टडी में हैं. टीएमसी में पार्थ चटर्जी को तीसरे नंबर का नेता माना जाता था. लेकिन पश्चिम बंगाल शिक्षक भर्ती घोटाले में आरोपी पूर्व कैबिनेट मंत्री पार्थ चटर्जी अब कोलकाता की प्रेसीडेंसी जेल में बंद हैं. ऐशो आराम की जिंदगी जीने वाले पार्थ चटर्जी अब जेल में अपने दिन रात काट रहे हैं. 

शुक्रवार को जेल पहुंचे पार्थ ने पहली रात कमोड पर बैठकर काटी. क्योंकि, उन्हें जमीन पर बैठने में परेशानी हो रही थी. इस दौरान उनकी सेल का कमोड भी टूट गया था. शनिवार को पार्थ चटर्जी की मांग पर उन्हें जेल प्रशासन ने कुर्सी और लोहे का पलंग उपलब्ध कराया. जेल प्रशासन ने उनकी चावल और फ्राई आलू दिए जाने की मांग को भी मान लिया है.

पार्थ चटर्जी ने किताबों की भी मांग की. जिसके बाद उन्हें पसंदीदा किताबें दी गईं. सूत्रों के मुताबिक पार्थ का ज्यादातर समय किताबों के साथ बीत रहा है. उन्हें अन्य लोगों की तरह ही जेल का खाना दिया जा रहा है. कोई खास सुविधा नहीं दी जा रही है.

ऐसी है पार्थ चटर्जी का सेल

पार्थ चटर्जी को जिस सेल में रखा गया है वो 6/8 की है. सेल के अंदर सीलिंग फैन, लोहे का पलंग, वाटर फिल्टर और कमोड की सुविधा है. पार्थ चटर्जी को जेल में बना हुआ खाना ही दिया जा रहा है. शनिवार को पार्थ ने जेल अधिकारियों से चावल और फ्राई आलू देने की मांग की थी जिसे जेल में ही तैयार किया गया था. रविवार शाम को उन्हें यही खाने में दिया गया था.

चटर्जी के ब्लॉक में ही बंद हैं शारदा के आरोपी

पार्थ चटर्जी के ब्लॉक में ही शारदा चिटफंड घोटाले के आरोपी शारदा के चेयरमैन सुदिप्त सेन, एनआईए द्वारा गिरफ्तार किए गए तृणमूल के नेता चत्रधर महतो और अमेरिकन सेंटर के सामने हमला करने वाला आफताब अंसारी भी बंद है. पार्थ की सुरक्षा के लिहाज से जेल में अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की गई है. 

बता दें कि, प्रवर्तन निदेशालय (ED)की गिरफ्त में मौजूद पार्थ चटर्जी को कोलकाता प्रेसीडेंसी करेक्शनल होम के ''पोइला बैश' ब्लॉक में रखा गया है. जो सबसे सुरक्षित ब्लॉक है. इस ब्लॉक में कुल 22 बैरक हैं और पार्थ चटर्जी को बैरक नंबर-2 में रखा गया है. 'पोइला बैश' ब्लॉक पर 24/7 नजर रखी जाती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें