scorecardresearch
 

Monsoon session: TMC सांसद ने कहा- सरकार हमारी पूरी सैलरी ले ले, कोई नहीं करेगा विरोध

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि सरकार हमारी पूरी सैलरी ले ले, कोई भी सांसद इसका विरोध नहीं करेगा. लेकिन सांसद निधि पूरी मिलनी चाहिए. जिससे कि हम लोगों के फायदे के लिए काम कर सकें.

टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी (फाइल फोटो) टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वेतन कटौती से संबंधित बिल का सांसदों ने किया समर्थन
  • सांसद निधि स्थगित करने का किया गया विरोध
  • संसद सदस्य वेतन, भत्ता और पेंशन (संसोधन) विधेयक, 2020 लोकसभा से पास

सांसदों की वेतन कटौती से संबंधित बिल मंगलवार को लोकसभा से पास हो गया. संसद सदस्य वेतन, भत्ता और पेंशन (संसोधन) विधेयक, 2020 के तहत सांसदों को एक साल तक सैलरी 30 फीसदी कटकर मिलेगी. सरकार ने वेतन कटौती के लिए कोविड-19 को कारण बताया है. ज्यादातर सांसदों ने इस बिल का समर्थन किया, लेकिन उनकी मांग रही कि सरकार सांसद निधि को स्थगित नहीं करे.

लोकसभा में बिल पर चर्चा के दौरान कुछ सांसद ऐसे रहे जिन्होंने कहा कि सरकार हमारी पूरी सैलरी ले ले, लेकिन सांसद निधि मिलनी चाहिए. तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि सरकार हमारी पूरी सैलरी ले ले, कोई भी सांसद इसका विरोध नहीं करेगा. लेकिन सांसद निधि पूरी मिलनी चाहिए. जिससे कि हम लोगों के फायदे के लिए काम कर सकें.

टीएमसी के सांसद सौगत रॉय ने कहा कि जितना पैसा हो आप सांसदों से ले सकते हैं. आप हमारी पूरी सैलरी ले सकते हैं. लेकिन सांसद निधि दे दीजिए. आप इसमें कटौती नहीं कर सकते. हम इसी के सहारे अपने क्षेत्रों में काम करते हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के पास 303 सांसद हैं तो इसका मतलब ये है क्या कि बाकी सांसदों का कोई महत्व नहीं है. 

वहीं, आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान ने कहा कि सरकार 60 फीसदी भी हमारी सैलरी काट ले, हमें कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन सांसद निधि रोकने का कोई कारण नहीं बनता. हमारे क्षेत्र के लोगों ने टैक्स का जो पैसा दिया है, वो पैसा उन्हें वापस मिलना चाहिए. सरकार हमारी सुविधाओं को कम कर दे, लेकिन सांसद निधि में कटौती नहीं हो.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें