scorecardresearch
 

कर्नाटक में मराठा विकास बोर्ड का विरोध, CM बोले- प्रदर्शन किया तो करेंगे कार्रवाई

बीते 13 नवंबर को येदियुरप्पा सरकार ने मराठा विकास बोर्ड के गठन का एलान किया था. बेलगावी लोकसभा सीट और बसवाकल्याण तथा मस्की विधानसभा सीटों पर होने वाले उप चुनाव से पहले राज्य सरकार का यह फैसला चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है.

सीएम बीएस येदियुरप्पा.(फाइल फोटो) सीएम बीएस येदियुरप्पा.(फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मराठा समुदाय के वोटरों को लुभाने की तैयारी में येदियुरप्पा
  • कन्नड़ समर्थक संगठनों ने बुलाया है पांच दिसंबर को बंद

कर्नाटक सरकार के मराठा विकास बोर्ड के गठन के फैसले को लेकर कन्नड़ समर्थक संगठन ने प्रदर्शन की चेतावनी दी है. राज्य सरकार के फैसले का विरोध कर रहे कन्नड़ समर्थक संगठन ने पांच दिसंबर को कर्नाटक बंद का एलान किया है. इस एलान को लेकर सूबे के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने चेतावनी दी है.उनका कहना है कि जबरन प्रदर्शन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

येदियुरप्पा ने कहा कि मराठा विकास बोर्ड का गठन हमने मराठा सुमदाय के हित के लिए किया है. अगर  इसे लेकर जबरन बंद बुलाया जाता है तो प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. मैं इन लोगों से अपील करता हूं कि ऐसा कोई कदम ना उठाएं. 

वहीं, इस मसले पर कन्नड़ समर्थक कार्यकर्ता वटल नागराज का कहना है कि हमने सरकार को 30 नवंबर तक का समय दिया है, अगर इससे पहले सरकार अपना फैसला वापस नहीं लेती है तो पांच दिसंबर को कर्नाटक बंद बुलाया जाएगा. मयूर सर्कल और अन्य इलाकों में कन्नड़ समर्थक संगठनों ने शनिवार को भी मराठा विकास बोर्ड के गठन के एलान और इसे लेकर पचास करोड़ रुपये के आवंटन के फैसले को लेकर विरोध प्रदर्शन किया.

देखें- आजतक LIVE TV

पूर्व विधायक वटल नागराज ने कन्नड़ समर्थक संगठनों से पांच दिसंबर को बंद के एलान में शामिल होने की अपील की. उन्होंने कहा कि राज्य के कैब और ऑटो ड्राइवरों ने भी बंद का समर्थन किया है और कर्नटाक बार एसोशिएसन ने भी अपना समर्थन जताया है.

बता दें कि बीते 13 नवंबर को येदियुरप्पा सरकार ने मराठा विकास बोर्ड के गठन का एलान किया था. बेलगावी लोकसभा सीट और बसवाकल्याण तथा मस्की विधानसभा सीटों पर होने वाले उप चुनाव से पहले राज्य सरकार का यह फैसला चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है. इन इलाकों की सीमा महाराष्ट्र की सीमा से जुड़ी हुई है. यहां काफी संख्या में मराठा समुदाय के लोग रहते हैं.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें