scorecardresearch
 

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के सवाल पर बोले राहुल गांधी- 'मैं अपने पुराने रुख पर कायम'

राहुल गांधी ने एक बार फिर साफ कर दिया कि वे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे. राहुल गांधी ने कहा कि वे अपने रुख पर कायम हैं.  2019 के लोकसभा चुनाव में मिली हार की जिम्मेदारी लेते हुए राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस का अध्यक्ष कोई गैर गांधी बने.

X
राहुल गांधी (फाइल फोटो)
राहुल गांधी (फाइल फोटो)

राहुल गांधी ने एक बार फिर साफ कर दिया कि वे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे. राहुल गांधी ने केरल में मीडिया से बातचीत में कहा कि वे अपने रुख पर कायम हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में मिली हार की जिम्मेदारी लेते हुए राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद उन्होंने कहा था कि कांग्रेस का अध्यक्ष कोई गैर गांधी बने. हालांकि, राहुल को दोबारा से कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने की आवाज पार्टी से लगातार उठती रही है.

पिछले 3 साल में कांग्रेस के तमाम वरिष्ठ नेताओं ने राहुल गांधी को मनाने की कई कोशिशें भी कीं. हाल ही में जब कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव का ऐलान किया गया. इसके बाद ये कोशिशें और तेज हुईं. हाल ही में 10 राज्यों में कांग्रेस इकाइयों ने राहुल गांधी के समर्थन में प्रस्ताव भी पास किया था. इसके बावजूद राहुल गांधी लगातार अध्यक्ष बनने से इनकार कर रहे हैं. 

कांग्रेस अध्यक्ष एक वैचारिक पद- राहुल गांधी

राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद के सवाल पर कहा कि मैंने पिछली बार भी साफ कर दिया था. मैं अब भी अपने पुराने रुख पर कायम हूं. मैं इसे कई बार दोहरा चुका हूं. कांग्रेस अध्यक्ष को वे क्या सलाह देंगे, इस पर राहुल गांधी ने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष पद एक ऐतिहासिक पद है. आप इस ऐतिहासिक पद पर जा रहे हैं. यह भारत के एक विशेष दृष्टिकोण को परिभाषित करता है. कांग्रेस अध्यक्ष एक वैचारिक पद है. आप (कांग्रेस अध्यक्ष) विचारों के एक समूह का प्रतिनिधित्व करते हैं. मेरा मानना है कि जो कोई भी कांग्रेस अध्यक्ष बने, वह कांग्रेस की इस विश्वास प्रणाली और विचारधारा का प्रतिनिधित्व करे. 

'एक व्यक्ति, एक पद' का हर कोई करे पालन'

एक व्यक्ति एक पद को लेकर पूछे गए सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि उदयपुर में जो फैसला हुआ था. मुझे लगता है कि उसका हर कोई पालन करेगा. 

राहुल गांधी ने कहा, आप लोग अन्य पार्टियों से क्यों नहीं पूछते कि कौन अध्यक्ष बनेगा. कांग्रेस में अध्यक्ष पद का चुनाव होता है और किसी पार्टी में नहीं होता. यहां कोई भी चुनाव लड़ सकता है. आप बस हमसे सवाल करते हैं कि कौन अध्यक्ष होगा, आप ये सवाल बीजेपी, सपा, बसपा और लेफ्ट पार्टियों से क्यों नहीं पूछते. 

यात्रा कुछ विचारों पर आधारित- राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा कि इस यात्रा की सफलता कुछ विचारों पर आधारित है. पहला विचार यह है कि एक भारत अखंड खड़ा है, अपने आप से युद्ध में नहीं है, अपनों से नाराज नहीं है, नफरत से भरा नहीं है. यह(यात्रा) कुछ ऐसी है जिसकी अधिकांश भारतीय लोग सराहना करते हैं और लोग इसे पसंद कर रहे हैं. 

उन्होंने कहा कि दो अन्य विचार भी हैं जो यात्रा को आगे बढ़ा रहे हैं. एक है बेरोजगारी का स्तर, जिसका सामना आज भारत कर रहा है. दूसरा मुद्दा कीमतों का है. ये विचार हैं जो यात्रा को आगे बढ़ा रहे हैं और प्रोत्साहित कर रहे हैं. ये विचार आपस में जुड़े हुए हैं. 

कांग्रेस ने जारी की अधिसूचना

कांग्रेस के अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए अधिसूचना जारी कर दी गई. केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री के मुताबिक, चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 से 30 सितंबर के बीच होगी. नामांकन पत्रों की जांच एक अक्टूबर जबकि नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख 8 अक्टूबर होगी. एक से अधिक उम्मीदवार होने पर चुनाव 17 अक्टूबर को होगा. मतों की गिनती और नतीजों की घोषणा 19 अक्टूबर को होगी. 

कांग्रेस में नए अध्यक्ष के नामों को लेकर सियासी अटकलें तेज हैं. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पार्टी के दिग्गज नेता शशि थरूर के बाद सांसद मनीष तिवारी के चुनाव लड़ने की चर्चाएं हैं. अशोक गहलोत ने पार्टी की आलाकमान सोनिया गांधी से मुलाकात भी की थी .शशि थरूर पार्टी के चुनाव पैनल प्रमुख से मुलाकात कर नामांकन औपचारिकताओं के बारे में जानकारी ले चुकी हैं. वहीं मनीष तिवारी भी अपने सहयोगियों के साथ लगातार बातचीत कर रहे हैं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें