scorecardresearch
 

ED की बड़ी कार्रवाई, पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी की 48.22 करोड़ की संपत्ति कुर्क की

प्रवर्तन निदेशालय ने शिक्षक भर्ती घोटाले में आरोपी पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी की जो संपत्ति कुर्क की हैं, उसमें 40.33 करोड़ रुपये की 40 अचल संपत्ति और 7.89 करोड़ रुपये की शेष राशि वाले 35 बैंक खाते शामिल हैं. कुर्क की गई संपत्तियों में फ्लैट, एक फार्म हाउस, कोलकाता शहर में प्राइम लोकेशन की जमीन और बैंक बैलेंस शामिल हैं.

X
पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के ठिकानों से ईडी ने करोड़ों रुपए बरामद किए थे.
पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के ठिकानों से ईडी ने करोड़ों रुपए बरामद किए थे.

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने सोमवार को पश्चिम बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले में बड़ी कार्रवाई की है. जांच टीम ने ममता सरकार के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी की 48.22 करोड़ रुपये की संपत्ति अस्थायी रूप से कुर्क की है. इसके साथ ही ईडी ने इस मामले में 45 दिन के अंदर कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल कर दी है. कोर्ट में 172 पेजों की चार्जशीट जमा की गई है. ईडी ने ये भी बताया है कि मामले की जांच चल रही है.

ईडी ने जो संपत्ति कुर्क की है, उसमें 40.33 करोड़ रुपये की 40 अचल संपत्ति और 7.89 करोड़ रुपये की शेष राशि वाले 35 बैंक खाते शामिल हैं. कुर्क की गई संपत्तियों में फ्लैट, एक फार्म हाउस, कोलकाता शहर में प्राइम लोकेशन की जमीन और बैंक बैलेंस शामिल हैं.

दूसरे के नाम पर चल रही थी कंपनियां

अटैज की गई संपत्तियों को पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी के स्वामित्व में पाया गया है. कई अटैच संपत्तियों को बोगस कंपनियों और फर्मों और पार्थ चटर्जी के लिए प्रॉक्सी के रूप में काम करने वाले व्यक्तियों के नाम पर संचालित किया जा रहा था. इससे पहले ईडी ने शिक्षक भर्ती घोटाले से जुड़े विभिन्न परिसरों में तलाशी अभियान चलाया था और 23 जुलाई को पश्चिम बंगाल सरकार के तत्कालीन मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी को गिरफ्तार किया था. पार्थ चटर्जी 23 जुलाई से से 5 अगस्त तक ईडी की हिरासत में रहे थे.

ईडी ने दो ठिकानों पर छापे मारे थे

ईडी ने इससे पहले 22 जुलाई और 27/28 जुलाई को अर्पिता के दो ठिकानों पर छापे मारे थे. दो ठिकानों से कुल 49.80 करोड़ रुपये की नकदी और 5.08 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के सोने और आभूषण जब्त किए थे. 

पार्थ और अर्पिता के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

वहीं, प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को शिक्षा भर्ती घोटाले में 172 पेजों की चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी है. इसके साथ ही ईडी ने करीब 15 हजार पेजों के डॉक्यूमेंट्स भी जमा किए हैं. प्रवर्तन निदेशालय ने आरोप पत्र में बंगाल के पूर्व कैबिनेट मंत्री पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी को मुख्य आरोपी बताया है. साथ ही छह कंपनी के नाम भी दिए गए हैं. आरोप पत्र में 43 गवाहों का जिक्र किया गया है. इससे पहले दोपहर में ईडी के अधिकारी दो ट्रक में आरोप पत्र लेकर कोलकाता PMLA कोर्ट पहुंचे.

45 दिन के भीतर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल

लगभग 45 दिनों के भीतर ये आरोप पत्र अदालत में दाखिल किया गया है. साथ ही प्रवर्तन निदेशालय की ओर से आज कोर्ट में कहा गया कि अभी जांच चल रही है. पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी फिलहाल शिक्षा भर्ती घोटाले में सीबीआई की हिरासत में हैं.

(राजेश साहा के इनपुट के साथ)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें