scorecardresearch
 

घर जाकर बुजुर्गों से पोस्टल बैलेट लेने के प्रस्ताव पर बोले स्टालिन- इसे वापस ले EC

तमिलनाडु में डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने बुजुर्ग नागरिकों और दिव्यांग लोगों से बैलेट पेपर के जरिये मतपत्र लेने के प्रस्ताव को वापस लेने की चुनाव आयोग से मांग की है. जारी बयान में स्टालिन ने कहा कि चुनाव आयोग राजनीतिक पार्टियों से बिना विचार विमर्श किए हुए यह प्रस्ताव लेकर आया है. उसे यह प्रस्ताव वापस लेना चाहिए.

डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन (फोटो-IANS) डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन (फोटो-IANS)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • घर जाकर बुजुर्गों से मतपत्र लेने का प्रस्ताव का विरोध
  • 'चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों से नहीं किया विमर्श'
  • बिहार मॉडल से बीजेपी गठबंधन को मिली जीत-स्टालिन

तमिलनाडु में डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने बुजुर्ग नागरिकों और दिव्यांग लोगों से बैलेट पेपर के जरिये मतपत्र लेने के प्रस्ताव को वापस लेने की चुनाव आयोग से मांग की है. जारी बयान में स्टालिन ने कहा कि चुनाव आयोग राजनीतिक पार्टियों से बिना विचार विमर्श किए यह प्रस्ताव लेकर आया है. उसे यह प्रस्ताव वापस लेना चाहिए.

एमके स्टालिन ने कहा कि चुनाव आयोग को 80 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्ग नागरिकों और शारीरिक रूप से अक्षम लोगों से डाक मतपत्र लेने का प्रस्ताव वापस लेना चाहिए.

डीएमके प्रमुख ने कहा, 'घर जाकर और 80 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों से एक पोस्टल वोट प्राप्त करना एक जोखिम भरा काम है क्योंकि लोकतंत्र के आधार को तोड़कर गुप्त मतदान का पालन नहीं किया जा सकता है.यह 'बिहार मॉडल' है जिसने बीजेपी गठबंधन को मदद पहुंचाया!'

एमके स्टालिन ने कहा कि चुनाव आयोग सभी राजनीतिक पार्टियों से विचार-विमर्श किए बिना ही यह प्रस्ताव लेकर आया है. आयोग को यह प्रस्ताव वापस लेना चाहिए. 

देखें: आजतक LIVE TV

तमिलनाडु में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. राजनीतिक दलों की सरगर्मियां तेज हो गई हैं. डीएमके ने चुनाव अभियान का आगाज भी कर दिया है. डीएमके ने शुक्रवार को अपना चुनावी कैंपेन शुरू कर दिया. हालांकि इस कैंपेन के दौरान तमिलनाडु के पूर्व सीएम एम करुणानिधि के पोते और पार्टी के यूथ विंग के सचिव उदयानिधि स्टालिन को तमिलनाडु पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें