scorecardresearch
 

केरल आतंकवाद का Hot Spot, पिनाराई विजयन की सरकार भ्रष्टाचार में लिप्त: JP Nadda

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष JP Nadda ने केरल सीएम विजयन की सरकार को भ्रष्टाचारी बताया. उन्होंने कहा, "केरल आतंकवाद का Hot Spot बन रहा है. यहां की सरकार हिंसा को समर्थन देने वाली है. केरल के लोगों की जिंदगी खतरे में है." जेपी नड्डा ने आरोप लगाया है कि विजयन के करीबियों को सरकारी फायदा दिया जा रहा है.

X
जेपी नड्डा और पिनाराई विजयन ( फाइल फोटो )
जेपी नड्डा और पिनाराई विजयन ( फाइल फोटो )

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (BJP National President JP Nadda) ने केरल को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने अपने बयान में केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजनय (Pinarayi Vijayan) की सरकार पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं.

नड्डा ने कहा, "केरल सरकार भ्रष्टाचार में डूबी हुई है. केरल अब आतंकवाद और असामाजिक तत्वों का हॉट स्पॉट बनता जा रहा है. आम लोग खुद को केरल में सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं."

जेपी नड्डा ने यह भी कहा, "केरल में सांप्रदायिक तनाव बढ़ रहा है. आम जनता खुद को यहां पर सुरक्षित महसूस नहीं कर रही है. केरल की वाम नेतृत्व की सरकार हिंसा को समर्थन कर रही है और हिंसा फैला रही है. सरकार का हिंसा को समर्थन करना गंभीर है."

केरल का कर्जा हुआ डबल

जेपी नड्डा ने केरल को लेकर कहा है कि केरल कर्जे में डूबता जा रहा है. वित्तीय अनुशासन नहीं बनाए रखने के चलते ही केरल का कर्जा दोगुना हो गया है. केरल के लोग एलडीएफ सरकार की राजनीति के चलते खतरे में होंगे. जेपी नड्डा ने केरल की सीएम पिनाराई विजयन की सरकार पर पूरी तरह से भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप लगाए. साथ ही कहा कि इस सरकार का मतलब ही भ्रष्टाचार है.

करीबियों को दिया जा रहा फायदा

नड्डा ने बोला है कि सोने की तस्करी की आंच सीएम पिनाराई विजयन के ऑफिस तक पहुंच चुकी है. भाई-भतीजावाद यानी नेपोटिज्म के तहत सीएम के रिश्तेदारों को विश्वविद्यालयों में नियुक्त कराया जा रहा है. ये लोग लोकायुक्त की शक्तियों को कम करने की कोशिश कर रहे हैं. सीएम के करीबियों और मंत्रियों को सरकारी फायदा मिल रहा है.

केरल में मचा जमकर बवाल

हाल ही में राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी NIA की रेड में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया यानी PFI के लोगों की केरल से गिरफ्तारी हुई है. देशभर में NIA ने PFI से जुड़े लोगों और उनके ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की थी. इस अभियान में एनआईए ही नहीं, बल्कि अन्य जांच एजेंसियां शामिल रही थीं. एक्शन के दौरान 106 लोगों को गिरफ्तार किया गया था.

इनमें सबसे ज्यादा 22 गिरफ्तारियां केरल से हुई थीं. इस बीच PFI के प्लान B का भी खुलासा हुआ है. इससे सरकार के बैन किए जाने के बावजूद इस संगठन के 'नापाक' मंसूबों पर कोई फर्क नहीं पड़ता  और इस नए प्लान के जरिए ये देश में अपनी साजिशों को अंजाम देता रहता है. इन्हीं गिरफ्तारियों के विरोध में PFI के लोगों ने केरल में हड़ताल की थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें