scorecardresearch
 

BJP बोली- 'आज लाचार बांग्ला', जवाब में TMC ने कहा- सुरक्षा गार्ड मर्डर केस के पीछे कौन?

एक दिन पहले टीएमसी नेता और सांसद अभिषेक बनर्जी का बयान आया था. बनर्जी ने आगे कहा था- अगर मैं वहां होता और मेरे सामने पुलिस की गाड़ी में आग लगती और इस तरह से पुलिस पर हमला होता तो मैं उनकी खोपड़ी में गोली मार देता.

X
पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी और टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी.
पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी और टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी.

पश्चिम बंगाल में बीजेपी और टीएमसी आमने-सामने हैं. दो दिन पहले बवाल के बाद बयानबाजी तेज हो गई है. तृणमूल कांग्रेस (TMC) लगातार बीजेपी नेता शुभेंद्र अधिकारी पर निजी हमले कर रही है. गुरुवार को टीएमसी के प्रवक्ता कुणाल घोष ने सुवेंदु पर कई बड़े आरोप लगाए तो बीजेपी ने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के बयान पर घेराबंदी की. बीजेपी ने टीएमसी वर्कर्स को पुलिस की वर्दी तक पहनाने के दावे किए हैं.

बता दें कि एक दिन पहले टीएमसी नेता और सांसद अभिषेक बनर्जी का बयान आया था. उन्होंने बीजेपी पर दूसरे राज्यों से ट्रेनों के जरिए गुंडे मंगवाकर बंगाल में आंदोलन के नाम पर बवाल करने का आरोप लगाया था. बनर्जी ने आगे कहा था- अगर मैं वहां होता और मेरे सामने पुलिस की गाड़ी में आग लगती और इस तरह से पुलिस पर हमला होता तो मैं उनकी खोपड़ी में गोली मार देता.

ममता सब कुछ नीचे गिराना चाहती हैं...

शुभेंदु के इस बयान पर बीजेपी के प्रवक्ता सैयद जफर इस्लाम ने ममता सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा- आज लोग 'सोनार बांग्ला' नहीं, बल्कि 'लाचार बांग्ला' कह रहे हैं. अभिषेक बनर्जी ने शांतिपूर्वक विरोध करने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए कहा- 'गोली सर पर मार देता'. उन्होंने कहा- राजनीतिक हिंसा के जरिए ममता सब कुछ नीचे गिराना चाहती हैं. वहां की पुलिस ममता के पांव हैं. उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं का खून किया. ये देश संविधान के अनुसार चलता है. 

घरों की छतों से बीजेपी पर हमला हुआ

वहीं, अनिर्बान गांगुली ने तस्वीरें दिखाते हुए कहा- हम पुलिस को पथराव करते हुए देख सकते हैं, जिसमें पुलिस मैनुअल लिखा है कि एक लोकतांत्रिक विरोध को पत्थरों से रोका जाए. अकारण लाठीचार्ज किया. कुछ घरों की छतों से प्रदर्शनकारियों पर खाली शराब की बोतलें और गिलास फेंके गए. कुछ जगहों पर मैं खुद गवाह था.

टीएमसी कार्यकर्ता वर्दी पहने थे

टीएमसी मजाक कर रही है कि महिला पुलिस क्या कर सकती है, लेकिन हमने देखा कि उनमें से छह पुलिस ने एक महिला को पीटा. कुछ जगहों पर टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा पुलिस की वर्दी पहनी गई. गांगुली ने कहा- अभिषेक असंवैधानिक सत्ता में बदल रहे हैं. बिना किसी पद के राज्य सरकार और अधिकारी उन्हें रिपोर्ट कर रहे हैं.

30 बार गोली चलाने के लिए कहा गया...

उन्होंने कहा- एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम और अभिषेक कम से कम 30 बार 'गोली चलाई जाए' कहते हैं. किसके खिलाफ? लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने वालों की तरफ? अभिषेक ने इशारा किया- 'सिर में गोली मार दी जाएगी' गांगुली ने कहा- 2 मई को बिना किसी को मारे उन्होंने हमारे कार्यकर्ताओं को मार डाला. अपंग कर दिया. उन्हें किसी बहाने की जरूरत नहीं है. यह उनकी मानसिकता है. उनका प्रशिक्षण है. सीआईडी ​​इतने समय से सो रही थी. लेकिन बंगाल के लोगों ने देखा है कि करोड़ों की नकदी कहां से बरामद हुई है. हम जानना चाहते हैं कि 13 सितंबर को कितने टीएमसी कार्यकर्ताओं ने पुलिस व्यवस्था में प्रवेश किया? उन्हें क्या निर्देश दिया गया था? हमने इनको पहले भी ऐसा करते देखा है.

अभिषेक अंडरग्राउंड माफिया हैं...

बीजेपी सांसद सौमित्र खान ने कहा- अभिषेक बनर्जी के नेतृत्व में नई टीएमसी अंडरग्राउंड माफिया है. उन्होंने कहा- 'गोली चलानी चाहिए'! किस पर? जनता? युवा वर्ग? हमारे अभियान से एक रात पहले पुलिस ने हमारे युवा कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट की. हम जानते हैं कि आप (अभिषेक) माफिया हैं, इसलिए आप दुबई, नेपाल, गंगटोक की यात्रा करते रहते हैं. कल पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को पीटने के लिए 1000 टीएमसी कार्यकर्ताओं को पुलिस की वर्दी दी थी.

गार्ड हत्या मामले में नेता का सच बताए पुलिस

इधर, टीएमसी प्रवक्ता कुणाल घोष ने सुवेंदु अधिकारी का बिना नाम लिए अटैक किया. उन्होंने पुलिस से एक ऐसे नेता की जांच करने का अनुरोध किया, जिस पर अपने निजी सुरक्षा गार्ड की हत्या का आरोप है. कुणाल घोष ने कहा कि मैं पुलिस से उस मामले की जांच करने का अनुरोध करूंगा, जहां एक नेता के निजी गार्ड की मौत हो गई. वह जांच क्यों रोकी गई है? कौन है वो नेता, जिसने अपने ही गार्ड की हत्या कर दी है. हम उस नेता का नाम नहीं ले रहे हैं, जिसे महिला से एलर्जी है और पुरुष को तरजीह देता है. जिसने मामले को लीक करने के शक में अपने ही गार्ड की हत्या कर दी.

मामला लीक हो सकता था...

कुणाल ने आगे कहा- हमारा पुलिस से अनुरोध है कि कृपया उस नेता का नाम सामने लाएं. एक मानसिक रूप से बीमार नेता ने अपने निजी गार्ड का शोषण किया और उसे मार डाला. क्योंकि मामला लीक हो सकता था. कोर्ट में मामले पर रोक लगा दी गई. ऐसा होने नहीं दिया जा सकता. कुणाल ने अंत में कहा- 'मैंने सुवेंदु को यह नहीं बताया.'

पुलिस वाहन में आग लगाने वाला बीजेपी वर्कर

कुणाल घोष ने मंगलवार को बीजेपी के नबन्ना मार्च पर पुलिस कार्रवाई का बचाव किया और कहा कि हम बार-बार कह रहे हैं कि जिस तरह से पुलिस पर हमला किया गया, वह पुलिस फायरिंग कर सकती थी, लेकिन बंगाल पुलिस ने ऐसा नहीं किया. लेकिन हम कह सकते हैं कि बीजेपी नेताओं के इशारे पर कार्यकर्ताओं ने हमला किया. कुणाल घोष ने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस वाहन को आग लगाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया व्यक्ति भाजपा का है. उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति ने पुलिस वाहन को आग लगा दी है, वह प्रतितोष है और हमारे पास बीजेपी के मंत्री निशीथ प्रमाणिक के साथ उसकी तस्वीरें हैं.

यूपी में दलित लड़कियों पर अत्याचार देखे NCW

कुणाल ने NCW पर तंज कसा और कहा कि 'राष्ट्रीय महिला आयोग यहां बड़ी बात कर रहा है और संज्ञान ले रहा है लेकिन आप क्या कर रहे हैं जब यूपी में दलित लड़कियों की हत्या हो रही है. आप वहां संज्ञान क्यों नहीं ले रहे हैं.' उन्होंने आगे कहा कि शुभेंदु और सुकांत मजूमदार का दिलीप घोष से कोई मुकाबला नहीं है. उनके पास फॉलोविंग भी है. कुणाल ने कहा- शुभेंदु अधिकारी ने बुधवार को दावा किया था कि उन पर हमला किया जा रहा है. 

छुओ ना छुओ ना... सुवेंदु पर तंज

हम सुवेंदु पर हमला क्यों करें. कौन है ये. वह सिर्फ मजाक का एक हिस्सा हैं. जो चिल्लाते हैं मेरे शरीर को मत छुओ, महिला पुलिस बल के सामने मेरे शरीर को मत छुओ. मुझे भी कुछ साल पहले महिला पुलिस ने हिरासत में लिया था, मैं चिल्लाया नहीं. कुणाल घोष ने हिंदी गाना छुओ ना छुओ ना मुझे गाकर शुभेंदु का मजाक उड़ाया.

पुलिस के पुरुष अधिकारी भी मौके पर थे

कुणाल का कहना था कि 'महिला अधिकारियों के पीछे पुरुष पुलिस अधिकारी भी थे, उन्होंने जानबूझकर सरेंडर क्यों किया. क्योंकि वे कायर हैं. उन्हें कुछ शारीरिक समस्याएं हो रही हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि हम निजी हमले कर रहे हैं. मैं बताना चाहता हूं कि उन्होंने ममता बनर्जी और अभिषेक बनर्जी पर निजी हमले शुरू किए हैं.

सुवेंदु बताएं परिवार के कितने लोग सरकारी पदों पर...

कुणाल घोष ने कहा- आप भाई-भतीजावाद की बात कर रहे हैं, बताइए आपके परिवार के कितने सदस्य पदों पर हैं. बताएं कि आपके परिवार के कितने लोगों ने अब तक सरकारी पदों और पार्टी पदों पर कब्जा किया है. आपके कितने रिश्तेदारों को सरकारी नौकरी मिली है. शारदा नारद मामले में सीबीआई आपको गिरफ्तार क्यों नहीं कर रही है, जहां आपको कैमरे पर पैसे लेते देखा गया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें