scorecardresearch
 

'भारत जोड़ो यात्रा' का आज रेस्ट डे, केरल पहुंचकर यात्रा से जुड़ेंगे छत्तीसगढ़ के सीएम

कन्याकुमारी से शुरू हुई भारत जोड़ो यात्रा अब तक 150 किलोमीटर की यात्रा पूरी कर चुकी है. आज 1 दिन का रेस्ट डे रखा गया है. इसके बाद कल से फिर यात्रा शुरू हो जाएगी. ये जानकारी कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने दी है. आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी केरल पहुंचकर यात्रा में शामिल होने वाले हैं.

X
भारत जोड़ो यात्रा के दौरान केरल में राहुल गांधी के साथ फोटो क्लिक कराती बुजुर्ग महिलाएं. (फोटो-एजेंसी)
भारत जोड़ो यात्रा के दौरान केरल में राहुल गांधी के साथ फोटो क्लिक कराती बुजुर्ग महिलाएं. (फोटो-एजेंसी)

भारत जोड़ो यात्रा' के 150 किलोमीटर की पदयात्रा पूरी करने के बाद आज एक दिन आराम के लिए (rest day) रखा गया है. वहीं दूसरी ओर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी आज केरल पहुंचकर एक बार फिर यात्रा से जुड़ेंगे. 

कांग्रेस महासचिव और पार्टी के सीनियर नेता जयराम रमेश ने ट्वीट कर बयाया,'150 किलोमीटर पूरा करने के बाद आज 15 सितंबर भारत जोड़ो यात्रा के लिए आराम का दिन है. सभी भारत यात्री विश्राम करेंगे, अब तक के अनुभवों पर चर्चा करेंगे और आगे की यात्रा के लिए खुद को तैयार करेंगे. हमारा मनोबल ऊंचा है और हमारे संकल्प मजबूत हैं. कल यात्रा फिर से शुरू होगी.

बता दें कि 7 सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हुई कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा 3570 किलोमीटर का सफर तय कर कश्मीर पहुंचेगी. यात्रा फिलहाल केरल के तिरुवनंतपुरम से होती हुई कोल्लम पहुंची है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत 119 यात्री जो पैदल यात्रा कर कश्मीर तक की दूरी तय करेंगे. ये सभी लोग रोजाना दिन में करीब 20 से 25 किलोमीटर चल रहे हैं. 

कांग्रेस ने महंगाई , बेरोजगारी और सांप्रदायिक सौहार्द्र जैसे मुद्दों को लेकर ये भारत जोड़ो यात्रा निकाली है. इसमें राहुल गांधी लगातार लोगों से मुलाकात कर रहे हैं. वे लगातार महंगाई, बेरोजगारी के मुद्दे पर केंद्र सरकार पर हमला बोल रहे हैं. यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने बेरोजगार युवाओं के अलावा ऑटो रिक्शा ड्राइवर से भी मुलाकात की थी.

कांग्रेस को मजबूत करना मकसद

इससे पहले जयराम रमेश ने कहा था कि विपक्षी एकता तभी संभव है, जब कांग्रेस मजबूत हो. विपक्षी एकता का मतलब यह नहीं कि कांग्रेस कमजोर हो. हमारे घटक दलों को यह समझना चाहिए.यह यात्रा विपक्ष को जोड़ने के लिए नहीं, बल्कि कांग्रेस को मजबूत करने के लिए है. विपक्ष इससे जुड़े तो अच्छा है, अब हाथी (कांग्रेस) चल रहा है, हाथी जग गया है. अब सभी लोगों के बयान आएंगे. बीजेपी से बयान आएंगे हमारे सहयोगी दलों से बयान आएंगे. उन्होंने कहा कि बीजेपी ध्रुवीकरण और नफरत की राजनीति करती है.

23 सीटों में से 12 पर सीटों पर चुने जाएंगे सदस्य

मधुसूदन मिस्त्री ने कहा है कि चुनाव को लेकर मीटिंग की गई थी. जिसमें चुनाव की तैयारी का जायजा लिया गया. हमने आइडेंटिटी कार्ड, क्यूआर कोड के साथ तैयार किए हैं. 9 हजार प्रतिनिधियों को ये बांटे जाएंगे. जिन लोगों की शिकायत थी कि वोटर लिस्ट नहीं दी गई है. उन्हें बताना चाहते हैं कि हर राज्य के 10 समर्थकों के पास कार्ड हैं. जो लोग नामांकन करना चाहते हैं, जो भी व्यक्ति 10 लोग अलग-अलग राज्य से लेना चाहता है, वह ले सकता है. इसके बाद पीआरओ प्रतिनिधियों की मीटिंग बुलाएंगे. 

मिस्त्री ने आगे कहा कि इस प्रस्ताव से कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव पर कोई असर नहीं होगा. यह एक स्वतंत्र प्रक्रिया है. इसमें 24 से 30 सितंबर तक नामांकन की समीक्षा की जाएगी. 

एक से ज्यादा उम्मीदवार होने पर देश के सभी पीसीसी कार्यालय में वोटिंग होगी. प्रतिनिधियों को वोटिंग कार्ड साथ लाना होगा, जिसके पास फोटो नहीं है, वो अपना आधार कार्ड साथ लेकर आएगा. राज्यों में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष, सीडब्ल्यूसी की 23 सीटों में से 12 पर सदस्य चुने जाएंगे. अगर सीडब्ल्यूसी के 23 सदस्यों में से 11 सदस्य मनोनीत होते हैं.

उन्होंने आगे कहा कि सीडब्ल्यूसी सदस्यों का चयन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पूर्ण सत्र के बाद होता है. संकल्प एक पंक्ति का होता है कि हम कांग्रेस अध्यक्ष को पीसीसी और एआईसीसी सदस्यों की नियुक्ति के लिए अधिकृत करते हैं.

राज्यों में पीसीसी प्रतिनिधि बैठक करेंगे और प्रस्ताव पारित करेंगे जो आने वाले अध्यक्ष को पीसीसी प्रमुखों और एआईसीसी प्रतिनिधियों को नियुक्त करने के लिए अधिकृत करेगा. कांग्रेस कमेटी के पूर्ण सत्र में CWC के 12 सदस्यों के लिए चुनाव हो सकता है. कुल संख्या 9 हजार से अधिक पीसीसी प्रतिनिधि और 1,500 एआईसीसी प्रतिनिधि होंगे.

नए कांग्रेस अध्यक्ष को दिया जाएगा अधिकार

16 से 20 सितंबर तक राज्य इकाइयों में डेलिगेट्स की बैठक होगी. बैठक की अध्यक्षता राज्य के रिटर्निग अफसर करेंगे. राज्यों के रिटर्निंग अफसर को कहा गया है कि अगले निर्वाचित होने वाले कांग्रेस अध्यक्ष को अधिकृत किया जाए कि वो प्रदेश अध्यक्ष और AICC डेलिगेट्स को नामित करें. ये प्रस्ताव प्रदेश रिटर्निंग अफसर स्वीकृत करेंगे. पीसीसी डेलिगेट्स किसी के पक्ष में अध्यक्ष बनने का प्रस्ताव पारित कर सकते हैं लेकिन अध्यक्ष के चुनाव प्रक्रिया पर कोई असर नहीं पड़ेगा. RO भी इस प्रस्ताव को स्वीकर नही करेंगे.

कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव से पहले कई राज्यों में प्रदेश अध्यक्ष और AICC डेलिगेट के मनोनयन का प्रस्ताव पारित कर कांग्रेस अध्यक्ष को फैसला लेने के लिए अधिकृत किया जाएगा. पार्टी ने 16 से 20 सितंबर तक राज्य इकाइयों में डेलिगेट्स की बैठक के संबंध में तारीख भी तय कर दी है. 

16 सितंबर- असम
17 सितंबर -मध्यप्रदेश
18 सितंबर -ओडिशा
19 सितंबर -हरियाणा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें