scorecardresearch
 

आज का दिन: क्यों ममता के लिए मुश्किल है आगे की राह?

'आजतक रेडियो' के मॉर्निंग न्यूज़ पॉडकास्ट 'आज का दिन' में सुनेंगे कि क्यों ममता के लिए मुश्किल है आगे की राह, चीन को उइगर मुसलमानों से क्या दिक़्क़त है और कोरोना के सामने कैसे उड़ान भरेगी जीडीपी.

रैली को संबोधित करतीं ममता बनर्जी (फोटो-PTI) रैली को संबोधित करतीं ममता बनर्जी (फोटो-PTI)

आजतक रेडियो पर हम रोज़ लाते हैं देश का पहला मॉर्निंग न्यूज़ पॉडकास्ट ‘आज का दिन’, जहां आप हर सुबह अपने काम की शुरुआत करते हुए सुन सकते हैं आपके काम की ख़बरें और उन पर क्विक एनालिसिस. साथ ही, सुबह के अख़बारों की सुर्ख़ियाँ और आज की तारीख में जो घटा, उसका हिसाब किताब. आगे लिंक भी देंगे लेकिन पहले जान लीजिए कि आज के एपिसोड में हमारे पॉडकास्टर नितिन ठाकुर किन ख़बरों पर बात कर रहे हैं.

ममता की राह मुश्किल क्यों?

अब बंगाल में चुनाव का चौथा चरण शुरू होगा. पॉलिटिकल पंडित कह रहे हैं कि जिन सीटों पर चुनाव होना है वहाँ सीएम ममता बनर्जी के लिए लड़ाई पहले से मुश्किल होनेवाली है. राजनीति के जानकार ऐसा क्यों कह रहे हैं इसकी पड़ताल हमारे साथी क़ुबूल अहमद कर रहे हैं. वो समझा रहे हैं कि क्यों सियासी गणित टीएमसी को परेशान करनेवाला है.  

उइगर मुसलमानों से चीन को क्या तकलीफ़?

चीन में सात दशकों से पीड़ित उइगर मुसलमानों के मुद्दे पर तुर्की काफ़ी तीखा हो गया है. दूसरी तरह इस्लामिक देश इस मसले पर चीन को ज़्यादा छेड़ते नहीं. आज के पॉडकास्ट में विदेशी मामलों के जानकार हर्ष पंत से समझेंगे कि तुर्की को ग़ुस्सा क्यों आ रहा है, इस्लामिक दुनिया उइगरों के लिए मिलकर आवाज़ क्यों नहीं उठाती और चीन को इस समुदाय से समस्या क्या है?

दफ़्तरों में मिलेगी कोरोना वैक्सीन

रायपुर और छिंदवाड़ा में लॉकडाउन है. कहा जा रहा है कि कई दूसरे ज़िलों में भी लग सकता है. ऐसे में सरकार की चुनौती है कि वैक्सीनेशन की रफ़्तार बढ़ाए. कोशिश हो रही है कि दफ़्तरों में भी 45 साल से अधिक आयु वालों को डोज़ दी जाए. योजना तो ठीक है लेकिन इसके सामने चैलेंज कई हैं. उसी बारे में आजतक रेडियो रिपोर्टर स्नेहा मोरदानी बता रही हैं.

बाज़ार नहीं खुले तो कैसे बढ़ेगी जीडीपी? 

RBI ने वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 10.5% तक जीडीपी की बढ़त का अनुमान रखा है. इससे एक सकारात्मक माहौल तो बना है लेकिन ख़ुद RBI ने माना है कि कोरोना के बढ़ते मामले कन्जयूमर्स का विश्वास कमज़ोर कर रहे हैं. नाइट कर्फ़्यू और हल्का लॉकडाउन भी लग ही रहा है. ऐसे में जीडीपी का ताज़ा अनुमान हम छुएँगे कैसे.. इस पर आजतक रेडियो के फ़ाइनेंशियल एक्सपर्ट शुभम शंखधर बात कर रहे हैं.

आज का दिन सुनने के लिए यहां क्लिक करें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें